33.1 C
New Delhi
Thursday, May 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

'आप हमें मार सकते हैं लेकिन किसान अत्याचार न करें', किसान नेता पंढेर ने केंद्र से दी ये अपील – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: एएनआई
किसान नेता सरवन सिंह पंढेर

चंडीगढ़ः अपने असमंजस को लेकर दिल्ली कुटज की तैयारी में शंभू बॉर्डर पर औद्योगिक किसानों के नेता सरवन सिंह पंढेर ने केंद्र सरकार से कहा है कि वे शांति का प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्हें दिल्ली की तरफ जाने की इजाज़त दी जाए। पंढेर ने बुधवार को कहा कि हमने सरकार से कहा है कि आप हमें मार सकते हैं लेकिन किसानों पर अत्याचार न करें। हम प्रधानमंत्री से आग्रह करते हैं कि वह किसानों और किसानों के लिए एमएसपी लाभ पर कानून बनाकर इस विरोध को समाप्त करने की घोषणा करें।

सरकार के देश माफ़ नहीं करेंगे- पंढेर

सरवन सिंह पंढेर ने कहा कि हमें रोकने के लिए हरियाणा के अर्ध सैनिक बल तैनात हैं। हमने कौन सा अपराध किया है? ऐसी सरकार को देश माफ़ नहीं करना होगा। हमने कभी नहीं सोचा था कि हम इस तरह के जूलम स्टॉक पर काम करेंगे। पंढेर ने मोदी से कहा कि कृपया संविधान की रक्षा करें और हमें शांति दें, दिल्ली की ओर जाएं, ये हमारा अधिकार है।

हमें अपनी तरफ से पूरी कोशिश की-पंढेर

आज के 'दिल्ली चलो' मार्च पर किसान नेता सरवन सिंह पंढेर ने कहा कि हमने अपनी तरफ से पूरी कोशिश की। हम बैठकों में शामिल हुए, हर बिंदु पर चर्चा हुई और अब फैसला केंद्र सरकार को लेना है। हम मुस्लिम प्रदर्शन करेंगे। प्रधानमंत्री को आगे आना चाहिए और हमारी बहनों को स्वीकार करना चाहिए। 1.5-2 लाख करोड़ रुपए कोई नकद नहीं है। हमें इन अवशेषों को निकालने और दिल्ली की ओर मार्च करने की मात्रा दी जानी चाहिए।

युवा न होः डल्लेवाल

किसान नेता जगजीत सिंह डल्लेवाल ने कहा कि हमारा इरादा किसी भी तरह का अराजकता पैदा करने वाला नहीं है। हमने 7 नवंबर से दिल्ली आगमन का कार्यक्रम बनाया है। अगर सरकार कहती है कि उन्हें पर्याप्त समय नहीं मिला तो इसका मतलब यह है कि सरकार हमें मंजूरी देने की कोशिश कर रही है। ये ठीक नहीं है कि हमें प्रतिबंध के लिए तीन बड़े-बैटरी बैरिकेड दिए गए हैं। हम शांति से दिल्ली जाना चाहते हैं। सरकार बैरिकेड सिलिकॉन हमें अंदर आने दे। नहीं तो हमारी मेरी पूरी करे। अगर उनका एक हाथ बढ़ेगा तो हम भी सहयोग करेंगे। मैं युवाओं से अपील करता हूं कि वे नियंत्रण न खोएं।

केंद्र ने दिया था ये प्रस्ताव

बता दें कि डिजिटल के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर वैधानिक को लेकर केंद्र के साथ चार दौर की बातचीत में गड़बड़ी होने के बाद अटल किसान पंजाब-हरियाणा सीमा पर दो स्थानों पर आज से फिर से अपना मार्च करने की तैयारी कर रहे हैं। किसान नेताओं के साथ चौथे दौर की बातचीत में तीन केंद्रीय सरकार की समिति ने रविवार को प्रस्ताव दिया था कि किसानों के साथ समझौता करने के बाद सरकारी फसलें पांच साल तक डालें, मक्का और कपास के साझेदारों पर साझेदारी करें। लेकिन, किसान नेताओं ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss