26.1 C
New Delhi
Saturday, June 3, 2023

Subscribe

Latest Posts

थोक मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति नवंबर महीने में 21 महीने के निचले स्तर पर गिरकर 5.85 प्रतिशत पर आ गई


छवि स्रोत : पीटीआई/प्रतिनिधि (फाइल)। थोक मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति नवंबर में गिरकर 21 महीने के निचले स्तर 5.85 प्रतिशत पर आ गई।

थोक मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति: खाद्य, ईंधन और विनिर्मित वस्तुओं की कीमतों में नरमी से नवंबर में थोक मूल्य आधारित मुद्रास्फीति घटकर 21 महीने के निचले स्तर 5.85 प्रतिशत पर आ गई।

19 महीने तक दहाई अंकों में रहने के बाद अक्टूबर में थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित महंगाई दर घटकर 8.39 फीसदी पर आ गई। नवंबर 2021 में महंगाई दर 14.87 फीसदी थी।

“नवंबर 2022 में मुद्रास्फीति की दर में गिरावट, मुख्य रूप से पिछले वर्ष के इसी महीने की तुलना में खाद्य लेख, बुनियादी धातु, कपड़ा, रसायन और रासायनिक उत्पादों और कागज और कागज उत्पादों की कीमतों में गिरावट का योगदान है।” और उद्योग मंत्रालय ने बुधवार (14 दिसंबर) को कहा।

नवंबर 2022 में दर्ज की गई मुद्रास्फीति का निचला स्तर आखिरी बार फरवरी 2021 में देखा गया था, जब थोक मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति 4.83 प्रतिशत पर छपी थी। नवंबर में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति पिछले महीने के 8.33 प्रतिशत के मुकाबले 1.07 प्रतिशत थी।

माह के दौरान सब्जियों की मुद्रास्फीति (-) 20.08 प्रतिशत रही, जबकि अक्टूबर में यह 17.61 प्रतिशत थी। नवंबर में ‘ईंधन और बिजली’ बास्केट में मुद्रास्फीति 17.35 प्रतिशत थी, जबकि विनिर्मित उत्पादों में यह 3.59 प्रतिशत थी।

रिजर्व बैंक मौद्रिक नीति तैयार करने के लिए खुदरा मुद्रास्फीति को ध्यान में रखता है। इस सप्ताह के शुरू में जारी किए गए आंकड़ों से पता चलता है कि खाद्य मूल्य सूचकांक में नरमी के कारण नवंबर में 11 महीनों में पहली बार खुदरा मुद्रास्फीति आरबीआई के ऊपरी सहिष्णुता स्तर 6 प्रतिशत से नीचे आ गई।

हालांकि नवंबर में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 5.88 प्रतिशत हो गई, फिर भी विशेषज्ञों को उम्मीद है कि आरबीआई अपनी फरवरी की मौद्रिक नीति समीक्षा में ब्याज दरों में 25 आधार अंकों की और बढ़ोतरी करेगा। रिजर्व बैंक ने पिछले सप्ताह कहा था कि महंगाई का बुरा दौर पीछे छूट गया है, लेकिन आत्मसंतोष की कोई गुंजाइश नहीं है और बेंचमार्क नीतिगत दर को 35 आधार अंक बढ़ाकर 6.25 प्रतिशत कर दिया।

केंद्रीय बैंक ने यह भी कहा कि वह ‘अर्जुन की नजर’ (गहन ध्यान) विकसित मुद्रास्फीति गतिशीलता और अगले 12 महीनों के लिए अनुमानित मुद्रास्फीति 4 प्रतिशत से ऊपर रहने पर रखेगा।

(पीटीआई इनपुट्स के साथ)

यह भी पढ़ें: नवंबर में खुदरा महंगाई दर 11 महीने के निचले स्तर 5.88 फीसदी पर

यह भी पढ़ें: अक्टूबर में खुदरा महंगाई दर घटकर 6.77 फीसदी हुई: सरकारी आंकड़े

नवीनतम व्यापार समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss