36 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

डब्ल्यूएचओ ने दी चेतावनी-बेहद खतरनाक है मारबर्ग वायरस, इस देश में नौ लोगों की ले ली जान


छवि स्रोत: फाइल फोटो
मारबर्ग से गिनी में 9 लोगों की मौत

मारबर्ग वायरस: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि मारबर्ग वायरस के “प्रकोप” से माइक्रोसॉरसी गिनी में कम से कम नौ लोगों की मौत हुई है। ये सभी समझौते मारबर्ग वायरस की वजह से होते हैं जो इबोला वायरस की तरह ही खतरनाक वायरस है। इसमें भी इबोला की तरह ही बुखार होता है। एक प्रेस ने बयान में कहा है कि इक्वेटोरियल गिनी में सोमवार (स्थानीय समय) को इस वायरस से नौ लोगों की मृत्यु की पुष्टि होती है। सभी मृतकों की जांच में मारबर्ग वायरस से संक्रमण का पता चला है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के बयानों के मुताबिक, इस वायरस के बारे में पता चला है कि यह बैटरेटिक है। गिनी में इस वायरस का पता चलने के बाद जिन लोगों में इस बीमारी के लक्षण दिख रहे हैं उनकी पूरी तरह से निगरानी की जा रही है।

अफ्रीका में WHO के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. मात्शिदिसो ने कहा “मारबर्ग अत्यधिक संक्रामक है। बीमारी की पुष्टि करने में इक्वेटोरियल गिनी के अधिकारी तेजी से सामने आए और निर्णायक कार्रवाई की जिसके लिए उनका धन्यवाद। अब हम लोगों की जान बचा सकते हैं और वायरस को जल्द से जल्द रोक सकते हैं।”

डब्लू डब्लू सीआई के अनुसार, मारबर्ग रोग वायरस खतरनाक है जो वायरस से संबंधित है। यह उसी परिवार का वायरस है जो इबोला वायरस का रोग का कारण बनता है। मारबर्ग वायरस के कारण होने वाली बीमारी में अचानक तेज बुखार, गंभीर सिरदर्द और गंभीर अस्वस्थता होती है। कई इलाकों में संक्रमण के दिनों के अंदर गंभीर रक्तस्राव के लक्षण देखे गए।

यह वायरस बैट्स से संबद्धता और लोगों के छींकने-खांसने और सीधे संपर्क के माध्यम से साक्षरता में शामिल है।

अब तक, वायरस के इलाज के लिए कोई टीका या उपचार नहीं मिला है, हालांकि लोगों की निगरानी से बचा जा सकता है।
इसके लिए टीका बनाने की बात कही जा रही है।

मारबर्ग रोग क्या है

मारबर्ग वायरस रोग एक अत्यधिक विषाणुजनित रोग है जो रक्तस्रावी बुखार का कारण बनता है, जिसकी मृत्यु दर 88 प्रतिशत तक है। यह उसी परिवार का वायरस है जो इबोला वायरस का रोग का कारण बनता है।

मारबर्ग रोग के लक्षण

मार्बर्ग वायरस के कारण होने वाली बीमारी अचानक तेज बुखार, गंभीर सिरदर्द और गंभीर अस्वास्थ्यकरता के साथ शुरू होती है। कई चिपचिपा में सात दिनों के भीतर गंभीर रक्तस्रावी लक्षण विकसित हो जाते हैं।

मारबर्ग रोग कैसे सामान्यीकृत है?

इबोला की तरह, मारबर्ग वायरस बैटरियों में आय और लोगों को चिन्हित करते हैं, और अधिकृत व्यक्तियों के भौतिक पदार्थों के सीधे संपर्क के माध्यम से आयोजिक होते हैं। दुर्लभ वायरस की पहली बार 1967 में पहचान की गई थी।

वायरस के इलाज के लिए कोई टीका या एंटीवायरल उपचार नहीं है।

स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि रक्त उत्पादों, प्रतिरक्षा उपचारों और औषधि उपचारों के साथ-साथ चरण 1 डेटा वाले उम्मीदवार टीकों सहित कई ज़ोन उपचारों का मूल्यांकन किया जा रहा है।

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss