17.9 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

भारत और रूस के बीच रिश्तों को लेकर पूछे सवाल पर जयशंकर ने कह दी ऐसी बात कि…


Image Source : AP
एस जयशंकर, विदेश मंत्री।

संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने रूस के साथ रिश्तों को लेकर बड़ा बयान दिया है। रूस-यूक्रेन युद्ध और दुनिया के रिश्तों में तेजी से हो रहे बदलाव व उथल-पुथल के बीच एस जयशंकर ने कहा कि भारत और रूस के संबंध ‘बहुत, बहुत ज्यादा स्थिर’ बने हुए हैं और संबंध ऐसे ही बने रहें, यह सुनिश्चित करने के लिए ‘हम काफी सावधानी बरतते हैं’।

उन्होंने कहा कि अगर आप विश्व राजनीति के पिछले 70 वर्षों पर गौर करें तो अमेरिका-रूस, रूस-चीन, यूरोप-रूस, लगभग इनमें से हर एक रिश्ते में बड़े उतार-चढ़ाव आए हैं। इन संबंधों में बहुत बुरा और अच्छा वक्त रहा है, लेकिन भारत-रूस संबंध वास्तव में बहुत, बहुत ज्यादा स्थिर रहे हैं।’’ यह दोनों देशों के पुराने और अटूट रिश्तों का उदाहरण है। विदेशी संबंधों से जुड़ी एक परिषद में बातचीत के दौरान जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि फरवरी 2022 में यूक्रेन में युद्ध के कारण रूस के यूरोप तथा पश्चिमी देशों के साथ संबंधों पर ‘इतना गंभीर असर’ पड़ा है कि वह अब वास्तव में एशिया तथा दुनिया के अन्य हिस्सों की ओर हाथ बढ़ा रहा है।

भारत और रूस एशियाई द्वीप की महाशक्तियां

एस जयशंकर ने कहा किभारत-रूस के रिश्ते वास्वत में बहुत ज्यादा स्थिर हैं।’’ उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच रिश्ते सोवियत काल और सोवियत के बाद के काल से बने हुए हैं। जयशंकर ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 78वें सत्र को संबोधित करने के बाद कहा, ‘‘मुझे लगता है कि दोनों देशों में यह समझ है कि एशियाई महाद्वीप की बड़ी शक्तियों के रूप में साथ आने के लिए हमारे पास एक तरह का संरचनात्मक आधार है। इसलिए यह सुनिश्चित करने के लिए हम काफी सावधानी बरतते हैं कि रिश्ते बने रहे।’’ विदेश मंत्री ने कहा कि रूस ने ऐतिहासिक रूप से अपने आप को यूरोपीय शक्ति के रूप में देखा है, भले ही वह यूरोप और एशिया दोनों में फैला हुआ है।

रूस यूरोप से ज्यादा एशिया की ओर कर रहा रुख

विदेश मंत्री ने यूक्रेन पर हमला करने के लिए रूस पर अमेरिकी की अगुवाई में प्रतिबंधों के संदर्भ में कहा, ‘‘साल 2022 के बाद से यूरोप और पश्चिमी देशों के साथ रूस के संबंधों पर इतना गंभीर असर पड़ा है कि वह अब वास्तव में एशिया तथा दुनिया के अन्य हिस्सों की ओर रुख कर रहा है लेकिन मुख्य रूप से एशिया की ओर क्योंकि वहां काफी आर्थिक गतिविधि है और वह एशियाई शक्ति भी है, भले ही उसने खुद को मुख्य रूप से उस रूप में हमेशा नहीं देखा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरा अनुमान यह होगा कि रूस वैकल्पिक रिश्ते बनाने के लिए जोरदार ढंग से प्रयास करेगा जिनमें से ज्यादातर रिश्ते एशिया में होंगे। यह अर्थशास्त्र और व्यापार, संभवत: अन्य क्षेत्रों में दिखेगा।’’ जयशंकर ने कहा, ‘‘मैं जानता हूं कि इसमें रूस-चीन का एक विशेष स्थान होगा लेकिन मैं यह भी कहूंगा कि रूस के साथ हमारे अपने संबंध 50 के दशक से ही अत्यधिक स्थिर रहे हैं।  (भाषा)

यह भी पढ़ें

भारत ने कनाडा समेत UN पर किया ऐतिहासिक हमला, जयशंकर ने कहा- “अब वे दिन बीत गए…”

कनाडा के आरोपों पर UNGA में गरजा भारत, जयशंकर ने ट्रुडो को दी खुली चुनौती-“ठोस सुबूत हैं तो रखो सामने”

Latest World News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss