33.1 C
New Delhi
Thursday, May 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

मॅशिएटेड डीफेक वीडियो और अफवाहों पर आधारित ब्रेक, व्हाट्सएप ने की तैयारी – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: फ़ाइल
व्हाट्सएप ने डीपफेक और अपवाहों पर लगाने की तैयारी कर ली है।

डीपफेक वीडियो और एआई समर्थित अपवाहों वाले पोस्ट पर ब्रेक लगाने के लिए व्हाट्सएप ने तैयारी की है। मेटा के इंस्टैंट टेलीकॉमिंग प्लेटफॉर्म ने भारत में रैपिड से पैर पसार रहे डीपाफेक और होटल द्वारा तैयार किए गए रॉक्स पर रोक लगाने के लिए मिसिन फॉर्मेशन कॉम्बैट अलायंस (एमसीए) के साथ साझेदारी की है। मेटा ने बताया कि वो जल्द ही भारत में इसी तरह के फर्जी वीडियो और पोस्ट आदि पर रोक लगाने के लिए मोबाइल नंबर जारी करेगा।

मेटा का यह निर्णय 20 लीडिंग टेक कंपनी मेटा, गूगल, अमेज़ॅन, माइक्रोसॉफ्ट आदि द्वारा ग्लोबल इलेक्शन में डीपफेक और फ़्यूरी अपवाहों पर लगाम के साथ मिलकर काम करने के बाद आया है। लीडिंग टेक कंपनी ने एमसीए पर इस तरह के फर्जी वीडियो और अफवाहें बेचने की तैयारी शुरू कर दी है। व्हाट्सएप का नंबर एक तरह का चैटबॉट होगा, जिसके जरिए उपभोक्ता आसानी से इस तरह की अफवाहों की रिपोर्ट कर सकते हैं।

कई सेलिब्रिटीज हो चुके हैं डीपफेक के शिकार

पिछले दिनों साकीला मंदाना, राशमीका मंदाना, सारा समेत कई जानी-मानी हस्तियां हुए डीपफेक वीडियो का शिकार हैं। इन सेलिब्रिटीज ने डीपफेक को लेकर सरकार से छात्रवृत्ति बनाने की अपील की थी। सेलिब्रिटीज की अपील के बाद सरकार ने डीपफेक को सोशल मीडिया और टेक कंपनी पर रोक लगाने का निर्देश जारी किया था।

क्या होता है डीपफेक?

बता दें कि यह एक तरह का अपार्टमेंट है, जो वीडियो और इमेज के एडवेंचर में रहता है। लोगों के चेहरे का गलत इस्तेमाल सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाकर किया जाता है। एक आम फोटोग्राफर के लिए डीपफेक वीडियो या इमेज और रीयल वीडियो और इमेज में अंतर पाना बेहद मुश्किल होता है।

क्या है ऐलेक्शन?

एमसीए का कहना है कि वो डिपाफेक या अन्य एमए प्रोजेक्टेड कॉन्टेंट पर रोक लगाने के लिए एक डिपाफेक एना बस यूनिट मिकोला, जो फैक्ट ग्रुप और ऑर्गन समूह के साथ मिलकर काम करेंगे। उनके पास हर रिपोर्ट में मैसेज और कंटेंट का खुलासा होगा। यदि, किसी ने सामग्री या संदेश अपवाह या होटल द्वारा की गई सूचना दी, तो उसे इंटरनेट से हटा दिया जाएगा। इस तरह के अफवाह फैलाने वाले मैसेज भी डिलीट कर दें।

व्हाट्सएप का यह नॉमिनी चैटबॉट हिंदी और अंग्रेजी के साथ-साथ भारतीय क्षेत्रीय समुद्रों जैसे तमिल, तेलुगू आदि में भी उपलब्ध है। इसके लिए डीफ़ेक एना बस यूनिट फोर पिलर प्रोप्रोच डिटेक्शन, प्रिवेंशन, एलेमिनेशन और ड्राइविंग अवेयरनेस पर काम करेगी। यूनिट फेलोशिप वाले कॉन्टेंट का पतालॉगगी और उसे रोकेगी। यही नहीं, यह यूनिट उपभोक्ता इस तरह के कंटेंट को लेकर भी आएंगे और रिपोर्ट करने के लिए कहेंगे। इस तरह से डिजाइन तैयार करने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें – 20000 रुपये से कम में दमदार फीचर्स वाले 5 वाहन, पूरी लिस्ट देखें



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss