12.9 C
New Delhi
Wednesday, February 28, 2024

Subscribe

Latest Posts

यूपी और बिहार में पेपर लीक को लेकर क्या है कानून? यहां पढ़ें रिपोर्ट


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
पेपर लीक का मामला

बिहार और उत्तर प्रदेश में बीते 10 साल में पेपर लीक के कई मामले सामने आए। इसे सरकार लेकर कई संभावनाएँ हैं। इनमें से कुछ अपराधी पकड़े गए। सरकार लगातार प्रयास करती रहती है कि पेपर लीक न हो, पर अतिक्रमण माफिया कुछ न कुछ जुगाड़ कर लीक करवा ही देते हैं। इसे लेकर यूपी, बिहार, हरियाणा और अन्य राज्यों में सख्त कानून भी बनाए गए हैं। आइए जानते हैं क्या है ये कानून?

उत्तर प्रदेश देश में पहला ऐसा राज्य था जिसने इंटर हाईस्कूल की परीक्षा में नकल पर जेल दाखिल करने का कानून बनाया था। कल्याण सिंह प्रदेश के चित्र थे और आज के रक्षा मंत्री कवरेज सिंह तब यूपी के शिक्षा मंत्री थे। लेकिन नौकरी की परीक्षा में नकल और पेपर लीक को रोकने में उत्तरप्रदेश भी सक्षम नहीं पाया गया। जबकि यूपी देश में एक बार फिर पहला ऐसा राज्य है जहां पेपर लीक को संगठित अपराध माना जाता है, पेपर लीक का रैकेट चलाने वालों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत आरोप लगाया जाता है। यूपी में स्पेशल टास्क फोर्स पेपर लीक या इल्जाम को कैच मे काफी चर्चित है। नकल माफिया की कमर तोड़ने के लिए बोल्डोजर से उनकी संपत्ति को तोड़ने की भी शुरुआत हुई। ऐसा करके वो जालसाजी का आर्थिक जड़ता भी गड़बड़ कर देता है। यूपी में हाई स्कूल इंटरमीडिएट की परीक्षा में लखनऊ में बैठ कर प्रदेश के हर परीक्षा कक्ष को देखने का अधिकार है। बावजूद इसके यूपी में पिछले दस साल में 12 से ज्यादा बार पेपर लीक हुए हैं। यूपी में पेपरलीक की तहकीकात में हमारा एक भ्रम और टूटा है। लिखने या कागज़ को रोकने के लिए जिस तकनीक से सबसे ज्यादा उम्मीद है वो कागज़ लीक, अंकल, पकना परीक्षा के मामले में सबसे कमजोर कड़ी है।

यूपी में भी 29 लाख युवा नौकरी के काबिल

हर राज्य की तरह यूपी में भी 29 लाख युवा नौकरी के काबिल हैं। प्रदेश में करीब 13 लाख सरकारी पद हैं। कुल सरकारी नौकरी का 18% पद खाली पड़ा है। इतने के बावजूद सरकार के बजट का 31% सरकारी कर्मचारियों के वेतन में जाता है। पिछले पांच साल में योगी सरकार ने 6.65 लाख नौकरी दी है। उत्तरप्रदेश ने सरकार नौकरी परीक्षा में लीक को रोकने के लिए पालीवाल कमीशन बनाया था। उन्होंने बहुत व्यापक रिपोर्ट दी है। लोग मानते हैं किपाली गाइडलाइन्स को सही तरीके से पालन करते हैं तो लीक के चांसेंस बहुत कम रह जाते हैं।

उत्तर प्रदेश में शायद ही कोई ऐसा चुनाव होगा जिसकी पर्चा लीक न हुआ हो। 2017 मे दरोगा भर्ती परीक्षा पक्की हो गई। 2018 में यूपीपीसीएल की जेई भर्ती परीक्षा रद्द, 2018 में हीं विषय सेवा चयन आयोग की 14 अतिक्रमण की ग्रुप सी की परीक्षा रद्द हुई, 2018 में हीं नलकूप सीमा परीक्षा परचा रद्द हुआ, 2021 में upsssc pet और uptet का पेपर लीक हुआ परीक्षा रद्द हुई और 2022 में यूपी बोर्ड का अंग्रेजी पर्चा लीक हुआ फिर से परीक्षा हुई।

उत्तरप्रदेश में पेपर लीक को लेकर क्या है कानून?

उत्तरप्रदेश में पेपरलीक को संगठित अपराध की श्रेणी में रखा गया है। पेपर लीक होने पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की धारा में मुकदमा चलाया जाता है, साथ ही देयता की संपत्ति को ज़ब्त कर लिया जाता है। बुलडोजर से संपत्ति गिरने भी जाती है। इसके साथ ही दोषी के परीक्षण देने पर पाबंदी भी लगती है।

बिहार में साढ़े चार लाख सरकारी पद खाली

पेपर लीक को लेकर अब हम आपको बिहार के बारे में विवरण दे रहे हैं। बिहार की नौकरी की परीक्षा लेने का जिम्मा- बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी), बिहार कर्मचारी चयन आयोग, बिहार तकनीकी सेवा आयोग, बिहार सैनिक भर्ती आयोग और बिहार दारोगा भर्ती आयोग के पास है। बिहार सरकार का दावा है कि उसने पिछले 15 सालों में 6 लाख नौकरियां दी हैं। बिहार में चार चार लाख सरकारी पद खाली हैं। पुलिस में 34% स्वास्थ्य विभाग में 55%, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 33% पद खाली हैं। विशेषज्ञ चिकित्सक के 87% पद खाली हैं। लैब तकनीशियन के 77% पद खाली हैं। शिक्षक के 125000 पद रिक्त हैं। माध्यमिक और उच्चमाध्यमिक विद्यालय में लगभग 50000 पद खाली हैं। बिहार सरकार ने 10 लाख नौकरियां देने का खुलासा किया है जिसके लिए उसे बजट से अतिरिक्त 36 हजार करोड़ रुपये की आवश्यकता होगी और राष्ट्रीय करियर सेवा पोर्टल में 2015 से अब तक 15 लाख युवाओं ने पंजीकरण पंजीकरण किया है। यानी कम अभ्यार्थी ज्यादा हैं। मांग और आपूर्ति की कमी से नकल के नक्कालों को एंट्री मिलती है।

बिहार में पेपरलीक के खिलाफ सिस्टम

बिहार में पेपरलीक के खिलाफ व्यवस्थित परिवर्तन हैं। पेपर लीकेज से बचने के लिए एजाजमेंट के दौरान ही छात्रों के सामने पेपर खुलते हैं। छात्र के सामने कॉपी सील करें। कागज को सुरक्षित रखने और लाने के लिए स्मार्ट लॉक और ट्रक का उपयोग किया जाता है। बिहार में कई बदलाव भी किए गए हैं। परीक्षा से पहले सेंटर पर परीक्षा से घंटे पहले एंट्री

हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान और गुजरात में पेपर लीक करने के लिए अख्तियार करना

हरियाणा में परीक्षा के दौरान ही परीक्षार्थी के नाम के साथ पेपर नंबर के साथ पेपर जारी किया जाएगा। पेपर पर तीन जगह आर कोड होगा कि जैसे फोटो खिचें या स्कैन हो तो मैसेज अथोर्टी को मिल जाएगा। उत्तराखंड में अगर कोई पेपर लीक मामला संलिप्त पाया जाता है तो दुर्घटना की संपत्ति जात होती है। दोषी को आधार कारावास की सजा भी दी जा सकती है। साथ ही गैंगेस्टर कानून में मामला दर्ज हो सकता है। परीक्षा देने पर 10 साल का प्रतिबंध लगाया गया है। राजस्थान में पेपर लीक मामले को लेकर जिल्द की संपत्ति जाब हो सकती है। इसी के साथ आपराधिक निर्णय में मुकदमा जैसे कानूनी बदलाव किए गए हैं। गुजरात में भी कागजी के खिलाफ सख्त कानून की तैयारी है।

इसे भी पढ़ें-

सीएम योगी की शिक्षा योग्यता योग्यता नहीं है किसी से कम, जानें क्या है उनकी शिक्षा?
देश में एजाजमेंट का पर्चा क्यों लीक होता है? जानें टीवी की तरफ पूरा सच
क्यों सटीक इतना सटीक इतंजाम होने के बाद भी पेपर हो जाता है लीक, जानें किन राज्यों में पेपर हुए लीक

नवीनतम शिक्षा समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss