सिबिल (CIBIL) की फुल फॉर्म है Credit Information Bureau of India Limited जिसे TransUnion CIBIL Limited के नाम से भी जाना जाता है। यह एक क्रेडिट सुचना कंपनी अथवा क्रेडिट ब्यूरो है। सिबिल की स्थापना वर्ष 2000 में हुई थी, भारत में संचालित 4 क्रेडिट इनफार्मेशन कम्पनियों में से सिबिल एक मुख्य और सबसे पूरानी क्रेडिट ब्यूरो है।

CIBIL Credit Bureau अपने सिस्टम में Borrower ( क्रेडिट उपभोक्ता ) और Lender ( ऋण दाता ) के डेटाबेस को मेन्टेन करता है जिसमे सभी सहभागी बैंक क्रेडिट सर्विस आवेदन (लोन, क्रेडिट कार्ड आदि) और लोन वापसी (Loan Repayment) की सुचना हर माह प्रदान करते हैं। सिबिल व्यक्तियों और संस्थाओं की वित्तीय प्रोफाइल प्रबंधन करता है और उसमे उनसे जुड़े सभी लोन, क्रेडिट कार्ड का ब्यौरा रखता है और भुगतान के रिकॉर्ड के आधार पर एक क्रेडिट स्कोर तय करता है।

CIBIL स्कोर क्या होता है? What is CIBIL Score in Hindi?

सिबिल कम्प्यूटरीकृत गणना द्वारा व्यक्तियों और संस्थानों के वित्तीय लेन देन के ऐतिहासिक रिकॉर्ड के अनुसार और उनकी क़र्ज़ वापसी की क्षमता के हिसाब से एक 3 अंकीय स्कोर तय करता है। यह स्कोर बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान किसी भी प्रकार का क़र्ज़ देने से पहले चेक करते हैं। यदि किसी ऋण ग्राहक का सिबिल स्कोर बैंक की क्रेडिट पालिसी में फिट न बैठता हो तो उसका लोन आवेदन निरस्त हो जाता है।

हमें सदैव इस विष में गंभीर रहना चाहिए की हमारा सिबिल स्कोर सामान्य (700-800) से कम न हो। न केवल लोन बल्कि कई देशों के वीजा के लिए भी आपके सिबिल स्कोर को देखा जाता है। ट्रेवल एजेंट और बिचोलिये आपके सिबिल को जांच कर ही आपका वीसा आवेदन आगे बढ़ाते हैं। इसके अलावा कुछ अच्छे प्राइवेट संस्थानों में नौकरी देने से पहले की जाने वाली वेरिफिकेशन में भी सिबिल स्कोर देखा जाता है।

CIBIL स्कोर कैसे कैलकुलेट होता है?

CIBIL स्कोर की गणना आपके क्रेडिट व्यव्हार के हिसाब से होती है , मसलन आपने पिछले कुछ समय में कितने बैंकों या NBFC  से लोन प्राप्ति के लिए संपर्क किया है? क्या आप अपने चालू लोन या क्रेडिट कार्ड का मासिक भुगतान समय पर कर पा रहे हैं? या फिर आपके वार्षिक आय की एवज में आप कितना पैसा लोन और क्रेडिट कार्ड कंपनी को चूका रहे हैं? इन सब कारको को ध्यान में रख कर ही आपकी उधार लेकर वापस चुकाने की योग्यता (Credit Worthiness) चेक होती है। आपकी आसानी के लिए CIBIL स्कोर को प्रभावित करने वाले मुख्य कारकों को हमने नीचे दी हुई सूची में लिखा है।

  • लोन/क्रेडिट एप्लीकेशन की संख्या
  • EMI भुगतान और क्रेडिट कार्ड भुगतान का ट्रैक रिकॉर्ड
  • चालू ऋण किस प्रकार के हैं? Unsecured & Secured Loan कितने-कितने प्रतिशत हैं?
  • क्रेडिट यूटिलाइजेशन – अर्थात आमदनी का कितना भाग क़िस्त भुगतान में जा रहा है
  • कहीं कोई पेमेंट डिफ़ॉल्ट या रिकवरी तो नहीं चल रही है

इन सब के समिल्लित स्कोर को कंप्यूटर अलगोरिथम गणना कर 300 से लेकर 900 के बीच का 3 अंकीय स्कोर प्रदान करती है। यही 3 अंक का स्कोर आप सिबिल/credit स्कोर मन जाता है। जितना अधिक स्कोर होगा उतनी ही आपकी क्रेडिट प्रोफाइल अच्छी मानी जाएगी, और जितना कम स्कोर होगा उतना ही क्रेडिट जोखिम आपकी प्रोफाइल से जुड़ता जायेगा।

कितना CIBIL स्कोर सही माना जाता है?

जैसा की हम जान चुके हैं, हर व्यक्ति और कंपनी का सिबिल स्कोर अलग होता है और 300 से लेकर 900 के बीच झूलता रहता है। आइये जानते हैं की कितना सिबिल स्कोर किस श्रेणी में माना जाता है?

  • 300 – 600

यह पहली श्रेणी है जिसे अच्छा नहीं माना जाता, इस श्रेणी में आने वाले ग्राहक नए unsecured  लोन या कार्ड लेने का विचार त्याग दें और तुरंत अपना क्रेडिट स्कोर सुधार करने की कोशिश शुरू कर दें।

  • 601 – 749

600 से ऊपर और 750 से निचे दूसरी श्रेणी मानी जाती है जिसे सामान्य माना जाता है, 600 अंको के स्कोर के आसपास वालों को सिक्योर्ड लोन मिलना संभव है और 700 से 750 वाले unsecured लोन या कार्ड लेने का विचार भी कर सकते हैं ।

  • 750 +

यदि आपका क्रेडिट स्कोर 750 से ऊपर है तो आप बधाई के पात्र हैं। यह उच्च श्रेणी के ग्राहकों की केटेगरी है। आपको नया लोन आदि आसानी से मिल जाता है। पर फिर भी आप सतर्क रहे और सोच समझ कर क्रेडिट फैसिलिटी का इस्तेमाल करें। 750 से अधिक स्कोर का अर्थ यह भी नहीं है की आपको मनचाही लोन राशि मिल सकती है और बैंक आपकी लोन वापसी की क्षमता को नहीं देखेगा। आपकी रीपेमेंट कैपेसिटी के हिसाब से ही लोन राशि तय होगी।