32.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

वीडियो: टायलेट में स्टील प्लांट से निकल रहा काला पानी, 200 एकड़ की बर्बादी


एनएमडीसी स्टील प्लांट से निकल रहा गोदाम पानी

छत्तीसगढ़ के एक बड़े इंटीग्रेटेड स्टील प्लांट से निकल रहा है और विशाल पानी किसानों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। आलम यह है कि एनएचएल डीसीस्टील प्लांट से निकलकर पूरा पानी पानी में डूबा हुआ है। किसान कह रहे हैं कि अब हम ऐसा करें तो क्या करें, बिजनेस से लोन लेकर चले गए फ़ालतू नहीं बचा पाए तो आत्महत्या के सिद्धांत और कुछ नहीं बचाता है।

प्लांट के अंदर से काला पानी निकल रहा है

नॉर्वे, नॉर्वे में 24 हजार करोड़ की लागत से इंटीग्रेटेड स्टील प्लांट स्थापित किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्लांट का उद्घाटन किया। अब प्रोडक्शन भी शुरू हो गया है। पिछले कुछ महीने से प्लांट के अदंर से काला, प्याज और तेल युक्त पानी किराए पर खरीदा जा रहा है, जिससे खेत धान की फसल पूरी तरह से लगने लगी है। काले पानी की वजह से धान की बालियां पूरी तरह से सजने लगी हैं। कुछ डायग्नोस्टिक्स में धान की कटाई भी की जाती है, लेकिन उन मसालों को मसाले ही बालियां कांटेकर गिर रही हैं।

आत्महत्या के अलावा दूसरा रास्ता नहीं: किसान

फसल को होने वाली क्षति को देख किसान काफी चिंतित हैं। किसानों ने सहयोगी जिला बैंक से कर्जा लेकर फसल बोई, लेकिन अब उनकी आस टूटती नजर आ रही है। नगरनार प्लांट से इंद्रावती तक करीब 200 नॉके स्टाक रिवर लीज में प्लांट से ऑलिव फ़्लोरिडा पानी ने पूरी की पूरी फ़सल बर्बाद कर दी है। किसान सिर पर हाथ रख इस चिंता में है कि अब वे कर्ज का भुगतान कैसे करेंगे, घर-परिवार कैसे बताएं। इलाके के किसानों का कहना है कि स्टॉक में खराबी आ गई है। अब सरकार की तरफ से नजरें टिकी हुई हैं। सरकार भी अगर मदद नहीं करती है, तो सिया आत्महत्या के करीब कोई दूसरा रास्ता नहीं दिखा रही है।

डॉक्टर ने मामले की जांच की बात कही

किसानों ने कहा कि करीब 7 साल पुराने से नगरनार प्लांट के अंदर से मटमैला पानी का अवशोषण अब तक हुआ है। रसायनों को कोई नुकसान नहीं हुआ था, लेकिन अब नगरनार प्लांट के अंदर से काला, गंदा, अपशिष्ट पदार्थ और तेल युक्त पानी आने से पूरी तरह बर्बाद हो गए हैं। किसानों के मुताबिक, इस पानी से लोगों को तरह-तरह की आकर्षण संबंधी बीमारियां भी हो रही हैं। ग्राम सरपंच का कहना है कि सैकेंड बार प्रशासन ने इस समस्या पर आपत्ति जताई थी, लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है, जिससे किसानों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इधर, डेमोक्रेट ने मामले में यूनिवर्सल लेक्चर जांच की बात कही है।


-अलेक्जेंडर खान की रिपोर्ट

दिल्ली किसान आंदोलन की तैयारी के रूप में, चंडीगढ़ बॉर्डर पर छोड़े जा रहे हजारों किसान; जानें मा

भारत का एक बड़ा शहर कौन से तीन सागरों को छूता है?



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss