40.1 C
New Delhi
Thursday, May 30, 2024

Subscribe

Latest Posts

ट्रैक्टर, टैगडा कोऑर्डिनेशन और 29 बंधक आवास.. सबसे बड़े सहायक को ऐसे दिया गया अंजाम – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
कांकेर में सूर्योदय ने 29 वंडरलैंड को ढेर कर दिया।

लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण की वोटिंग से पहले छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले से लोकसभा चुनाव की कमर तोड़ने वाली खबर सामने आई। मंगलवार को ऑपेरशन ने ऑपेरशन 29 स्कॉलरलैंड को मार फ़्लोरिडा। इस घटना में तीन युवक भी घायल हो गए। मारे गए एनॉलेज्म में प्रमुख हस्तियों के भी शामिल होने की संभावना है। छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के बाद यह पहली बार है जब किसी भी समूह में इतनी बड़ी संख्या में दायित्व प्राप्त किये गये हैं। ग्रेवी विजय शर्मा, जिनके पास गृह विभाग भी है, ने मशीन को एक बड़ी सफलता के बारे में बताया और कहा कि इसकी श्रेयस्कर बहादुरी सुरक्षा कंपनी को दी जाती है। इस ऑपरेशन के संचालक गृह मंत्री अमित शाह भी हैं।

सबसे बड़े ऑपरेशन का ऐसा दिया अंजाम

छत्तीसगढ़ के प्रभावित कांकेर जिले में मंगलवार को दो तिहाई से अधिक ने रॉकेट के खिलाफ इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। विदेशी क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदर पी. ने बताया कि कांकेर जिले के छोटेबेठिया पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत हापाटोला गांव के जंगल में तारों की पहुंच का खुफिया उपकरण मिला था। इनमें से उत्तरी नागालैंड डिवीजन के फोटोग्राफर शंकर, ललिता, उदियुस सहित अन्य माओवादियों के अध्ययन और अध्ययन की जानकारी मिली थी। इस खुफिया जानकारी के बाद छोटेबेठिया थाना क्षेत्र में बीएसएफ और रिजर्व गार्ड (डीआरजी) की संयुक्त टीम की सक्रियता बढ़ी। दोनों ने ऑपरेशन के लिए कोऑर्डिनेशन बनाया और सधे कदमों से जंगल को घेरकर सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया।

कभी पेड़ों की ओट में तो कभी जमीन पर लेटकर… 29 पत्थरों को ढेर कर दिया

हापाटोला गांव के पास के जंगल में सुरक्षा बलों की गोलीबारी के बाद गोलीबारी शुरू हो गई। तब तक वे चारों ओर से गंभीर रूप से घायल हो गए थे और सूर्योदय ने एक साथ जवाबी हमला शुरू कर दिया था। कभी-कभी ओटी में तो कभी-कभी जमीन पर लेटकर, प्रिंसिपल और रिजर्व गार्ड्स के सोलो ने प्रतिद्वंद्वी प्रतिद्वंद्वी की लड़ाई शुरू कर दी और एक-एक कर 29 जनरल को ढेर कर दिया।

इंटरनेशनल का पुरा कुनाबा ख़त्म हो गया

बताया जा रहा है कि यहां मौजूद पूरे कुनाबे के स्मारक को खत्म कर दिया गया है। इनमें से सभी के शव बरामद किए गए हैं और मौका-ए-वारदात से एके-47 राइफल, एसएलआर राइफल, इंसास राइफल और 303 बंदूकें जिनमें भारी मात्रा में गोला बारूद शामिल हैं, बरामद किए गए हैं। मारे गए जनरल की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है। प्रथम दृष्टया ऐसा लग रहा है कि इन ज्वालामुखी में माओवादियों के उत्तरी जंगल डिवीजन के बड़े नेता शामिल हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि पोर्टफोलियो के दो पर्यवेक्षक और एक गोदाम के युवा घायल हो गए हैं।

नई रणनीति का असर, मारे गए 29 पद

जिस तरह से एक तरफ से आईिंग टीम ने चारों तरफ से घेरकर उन्हें आगे ही नहीं बढ़ाया था। सिद्धार्थ आलोक सिंह ने बताया, ''बीएसएफ का यह काफी बड़ा इटिलिसेंस बेस ऑपरेशन था।'' हम 2 दिन से हमारी और छोटूजी की कोटरी के ईस्टर्न साइड के एरिया में ऑपरेशन पर लगे थे। अज़ुमाड को नेशनल नेशनल का हब माना जाता है। हमारी कमांडो और स्टाफ़जी की टीम काफी दिनों से ये प्रैक्टिस कर रही थी। हमने हमारी ऑपरेशनल स्ट्रेटजी पार्टिकुलर ऑपरेशन को बदलने के लिए। फोर्स डिफ़ेक्शन और मोबिलिज़ेशन की डिविज़न डायरेक्शन की तकनीक अपनाई। हमें प्रतिभागियों को सप्राइज़ करना था हमने उन्हें सप्राइज़ किया और सफलता पाई।''

उन्होंने बताया, ''यहां काफी पहाड़ियां हैं इसलिए यहां ऑपरेशन करना बेहद चुनौतीपूर्ण है। व्यावसायिक सोच यह भी नहीं हो सकती कि हम इस पूर्वी इलाके के विश्वविद्यालयों पर कभी हमला कर सकते हैं। हमने हमला किया जिसमें 29 रॉकेट मारे गए। 19 ब्लास्ट वेपन्स मिले हैं। कई छात्र घायल हो गए। हम जल्द ही घायल प्रतिभागियों पर एक बड़ा ऑपरेशन प्लान करेंगे। ''आपको जल्द ही खबर मिलेगी।''

चार महीनों में अलग-अलग समूहों में 80 भंडार हैं

इस घटना के साथ ही इस साल अब तक कांकेर में वन्य क्षेत्र के सात अस्त्र-शस्त्रों में सुरक्षा कमांडो ने अलग-अलग अलग-अलग ईगल्स में 80 तारों को मारा है। इस महीने की दो तारीख को बीजापुर जिले में सुरक्षा बलों के साथ 13 दायित्वधारी गये थे। जबकि 27 मार्च को छह शहीदों को शहीद कर दिया गया।

डिप्टी सीएम विजय शर्मा ने नक्सली हमले पर “मार्जिकल स्ट्राइक” पर आरोप लगाते हुए कहा, “नक्सल विरोधी आंदोलन पर यह पहली बार हुआ कि सामने की लड़ाई में सुरक्षा बल पूरी तरह से हावी हो रहा है। उन्होंने भाषण को संभालने का फैसला किया।” मौका नहीं दिया।'' उन्होंने कहा कि मंगलवार के अभियान से सुरक्षा बलों की ताकत बढ़ी है। चार महीनों में अलग-अलग समूहों के साथ अलग-अलग समूहों की करीब 80 मौतें हुई हैं।

(रिपोर्ट-अलेक्जेंडर अली)



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss