35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

वो 4 अंतरिक्ष यात्री जो अंतरिक्ष में बढ़ाएंगे भारत की शान, जानें उनके बारे में बेटियों में – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
गगनयान मिशन के चारों ओर अंतरिक्ष यात्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को चार अंतरिक्ष यात्रियों की घोषणा की, जो देश के पहले मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशन-'गगनयान' के लिए प्रशिक्षण ले रहे हैं। मोदी ने मंगलवार को तिरुवंतपुरम के पास तिरुवनंतपुरम के विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष संगठन अनुसंधान (इसरो) के तीन प्रमुख अंतरिक्ष वास्तुशिल्प आर्किटेक्चर का उद्घाटन किया। उन्होंने एसएससी में बताया कि ग्रुप कैप्टन प्रशांत बालकृष्णन नायर, अंगद प्रताप एवं अजित कृष्णन और विंग कमांडर शुभांशु शुक्ला गगनयान मिशन के लिए अंतरिक्ष यात्री नामित हैं। उन्होंने इन चारों को 'अंतरिक्ष यात्री पीडीएफ' प्रदान किया।

बता दें कि इसरो का लक्ष्य साल 2025 तक अंतरिक्ष में चारों ओर भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाना है, इसी मिशन का नाम गगनयान है। आइए जानते हैं गगनयान मिशन के 4 अंतरिक्ष यात्री कौन हैं? कहाँ रहने वाले हैं? पढ़ाई लिखाई कैसे होती है?

गगनयान मिशन के 4 अंतरिक्ष यात्रियों से मिलिए-

1. एस्ट्रोनॉट प्रशांत बालकृष्णन नायर

पैसिफिक नायर का पूरा नाम पैसिफिक बालाकृष्णन नायर है, वह केरल के पलक्क के नेनामारा के रहने वाले हैं। रूस में मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशन के लिए प्रशिक्षण दिया गया है। वह एक कैट, फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर और टेस्ट पायलट हैं। उनका लगभग 3000 घंटे की उड़ान का अनुभव है। वे Su-30 MKI, MiG-21, MiG-29, हॉक, डोर्नियर, An-32 आदि विमान उड़ाते हैं। वे एक प्रमुख लड़ाकू विमान Su-30 Sqn की कमान भी संभाल रहे हैं। पैसिफ़िक एयरफ़ोर्स में ग्रुप कैप्टन के रूप में व्यवसाय दे रहे हैं।

2. एस्ट्रोनॉट अजीत कृष्णन

एस्ट्रोनॉट अजित कृष्णन स्टेयर के टेस्ट पायलट हैं। वह भी प्रशांत बालकृष्णन की तरह ही एयरफोर्स में ग्रुप कैप्टन के रूप में कर्मचारी हैं। अजित कृष्ण का जन्म 19 अप्रैल 1982 को चेन्नई, तमिल नाडु में हुआ था। वह पूर्व छात्र हैं। वायु सेना अकादमी में राष्ट्रपति द्वारा स्वर्ण पदक और स्वॉर्ड ऑफ़ ऑनर भी मिला है। वह फ्लाइंगस्ट्रेक्टर और टेस्ट पायलट में हैं। उनकी लगभग 2900 घंटे की उड़ान का अनुभव है। वे Su-30 MKI, MiG-21, MiG-21, Mig-29, जगुआर, डोर्नियर, An-32 जैसे कई एयरक्राफ्ट विमान उड़ाते हैं। वह डीएसएससी, वेलिंगटन के पूर्व छात्र भी हैं।

3. एस्ट्रोनॉट अंगद प्रताप

मिशन गगनयान के एस्ट्रोनॉट अंगद प्रताप भी विमान में लड़ाकू और टेस्ट पायलट हैं। वह भी ग्रुप कैप्टन के तौर पर कंपनी पर नजर रख रहे हैं। अंगद प्रताप का जन्म 17 जुलाई 1982 को हुआ था। वह पूर्व छात्र हैं। 18 दिसंबर 2004 को उन्हें वेस्‍टर्स के लड़ाकू विमान में शामिल किया गया। उनके पास फ्लाइंगस्ट्रेक्टर और टेस्ट पायलट का करीब 2000 घंटे का अनुभव है। अंगद ने सुखोई-30एमकेई, मिग-21, मिग-29, जगुआर, हॉक, डॉर्नियर और एन-32 जैसे विमान और लड़ाकू जेट उड़ाए हैं।

4. एस्ट्रोनॉट शुभांशु शुक्ला

अंतरिक्ष यात्री शुभांशु शुक्ला रॉकेट्स में विंग कमांडर के तौर पर समुद्र तट पर दे रहे हैं। गगनयान मिशन के लिए न जाने कितने पायलटों का परीक्षण हुआ, जिसमें तीन अन्य के साथ शुभांशु शुक्ला को भी चुना गया। 10 अक्टूबर 1085 को लखनऊ में साउदी शुभांशु की शुरुआती ट्रेनिंग हुई। इन्हें 17 जून 2006 को वेधशाला के लड़ाकू विमानों में शामिल किया गया। वो एक फाइटर कॉम्बैट लीडर हैं, साथ ही टेस्ट पायलट भी। उनका करीब 2000 घंटे की उड़ान का अनुभव है। वे सुखोई-30एमकेई, मिग-21, मिग-29, जगुआर, हॉक, डॉर्नियर, एन-32 विमान जैसे और लड़ाकू जेट उड़ाते हैं।

यह भी पढ़ें-

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss