31.1 C
New Delhi
Friday, July 12, 2024

Subscribe

Latest Posts

कन्या पूजन का ये है सही मतलब, बेटी को दलित और मजबूत


छवि स्रोत: FREEPIK
लड़कियों को बनाएं मजबूत

बालिका सशक्तिकरण: आज नवरात्रि की अष्टमी है। पुरातन में मातारानी की पूजा हो रही है और भक्तिमय है। आज कंजक माताएं जाती हैं और लोग कन्या पूजन करते हैं। कन्याओं को भोग लगाया जाता है और उनकी पूजा की जाती है, लेकिन आज हमें कन्याओं की पूजा के साथ-साथ नशे और बलवान बनाना भी जरूरी है। इसकी शुरुआत हमें अपने घर और आस-पास से करनी चाहिए। बेटियों को आगे बढ़ाने में मदद करें और उन्हें स्वस्थ-निरोगी शरीर दें। आज हम बेटियों की ओवरऑल हेल्थ और वीडियो की बात कर रहे हैं, जिसे मजबूत बनाना हर माता-पिता की जिम्मेदारी है।

सेल्फ डिफेंस डिफेंसिव- बेटी को देवी का रूप कहा जाता है और उनकी पूजा की जाती है, लेकिन अब बेटी को पूजने के साथ-साथ सिगरेट की भी जरूरत है। लड़कियों के साथ राज, गैजेट्स की ना जाने छोटी-मोटी घटनाएं होती रहती हैं। हाल ही में जापानीज घटना ने सभी हो हिलाकर रख दिया था। ऐसे में जरूरी है कि लड़कियों को मजबूत और मजबूत बनाया जाए। उन्हें स्वयं की रक्षा करने वाले और सही ढंग से उपयोग किए जाने वाले शिक्षण की आवश्यकता है।

स्वास्थ्यमंद ध्यान- लड़कियों के स्वास्थ्य को लेकर लोग काफी आश्चर्यचकित होते हैं। आज भी गांव देहात में लोग लड़के-लड़की में भेदभाव करते हैं, जो उनके खान-पान में भी दिखते हैं। 14-15 साल की उम्र में जब शरीर में हारमोंस भरे होते हैं तो लड़कियों को सेहत का खास ख्याल रखना चाहिए। इस उम्र में अक्सर लड़कियों के शरीर में खून की कमी हो जाती है। बेटी को रखने के लिए उन्हें उचित सुझाव अवश्य दें।

पढ़ाई में साथ दें- छोटे शहरों और गाँव में लड़कियों की पढ़ाई का रेशियो अभी भी कम है। लड़कियों की शादी के बाद कौन सी नौकरी करती है ये कहकर उनके अरमानों पर पानी फेर दिया जाता है। अगर आप कन्या पूजन कर रहे हैं तो इस दिन से इस थान लें कि बेटी को जरूर पढ़ना है। उन्हें भी आगे बढ़ने में मदद करनी है। उनकी पढ़ाई-लिखाई में शानदार साथ दिया गया और उनकी कहानियों को उड़ान की सजा सुनाई गई।

इमोशनली स्ट्रॉन्ग ख़ारिज- विज्ञान के लॉजिस्टिक इमोशनली कुछ हद तक भिन्न होते हैं। माता-पिता कन्याकुमारी तो लड़कियों को मानसिक रूप से मजबूत बना सकते हैं। कठिन परिस्थितियों से साथी सिखाया जा सकता है। बचपन की उम्र के साथ बचपन को समझदारी से संभालना सिखाया जा सकता है।

फ़्रांसीसी जीन की आज़ादी- असली कन्या पूजन यही है कि आप लड़कियों को फ़्रैंक जंगल से आज़ादी दिलाएं। उनका क्या पालन है क्या बोलना है क्या खाना है इसकी स्वतंत्रता होनी चाहिए। ऐसा पुराना शहर किड फ़्रांसीसी आपसे बात कर विला। बेटी को उनका सपना पूरा करने में मदद करें। लड़कियों को आगे की मंजिलें और हर काम में हिस्सेदारी।

नवीनतम जीवन शैली समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss