21.8 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

भूकंप आने से पहले ही अलर्ट दे देगा गूगल का ये फीचर, एंड्रॉयड फोन पर करता है काम, जानिए पूरी सेटिंग


नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर, जयपुर और उत्तराखंड के अल्मोड़ा समेत आसपास के इलाकों में मंगलवार को करीब 2:51 बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए. झटके एक बार नहीं दो बार महसूस किए गए, जिसका केंद्र नेपाल में था. वैसे तो भूकंप आने की जानकारी पहले से नहीं दी जा सकती है. हालांकि, बचाव और अलर्ट के लिए गूगल एंड्रॉयड स्मार्टफोन के लिए अर्थक्वे अलर्ट का फीचर ऑफर करता है, जिसे हाल ही में भारत में भी पेश किया गया है. आइए जानते हैं कि ये फीचर कैसे काम करता है और आप इसे कैसे अपने फोन में ऑन कर सकते हैं.

Android Earthquake Alerts System पहले से ही कई देशों में मिलता है. ये भूकंपों का पता लगाने और अनुमान लगाने के लिए एंड्रॉयड स्मार्टफोन्स के सेंसर का इस्तेमाल करता है. ये फीचर भूकंप के झटके शुरू होते ही अर्ली वॉर्निंग देता है. गूगल ने भारत में इस फीचर को नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (NDMA), नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (NCS) और मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंसेज के साथ कंसल्ट कर लॉन्च किया है.

Android Earthquake Alerts को ऐसे करें ऑन

  • सबसे पहले फोन की सेटिंग पर जाएं.
    इसके बाद Safety and emergency पर टैप करें.
    इसके बाद आपको Earthquake alerts पर टैप कर इसके टॉगल को ऑन करना होगा.

कैसे काम करता है ये फीचर?
हर एंड्रॉइड स्मार्टफोन छोटे एक्सेलेरोमीटर से लैस होकर आता है जो मिनी सिस्मोमीटर के रूप में काम कर सकता है. जब फोन को प्लग्डइन हो और चार्जिंग पर लगा हो तब यह भूकंप के झटकों की शुरुआत का पता लगा सकता है. यदि कई फोन एक ही समय में भूकंप जैसे झटकों को डिटेक्ट करते हैं, तो गूगल का सर्वर इस जानकारी का उपयोग यह अनुमान लगाने के लिए कर सकता है कि भूकंप आ सकता है. साथ ही इससे इसका केंद्र और तीव्रता का भी पता लगाया जा सकता है. इसके बाद गूगल का सर्वर आपसास के फोन में अलर्ट सेंड करता है. इंटरनेट सिग्नल प्रकाश की गति से चलते हैं, जो जमीन के जरिए भूकंप के झटकों के फैलने की तुलना में बहुत तेज है, इसलिए अक्सर गंभीर झटके आने से कई सेकंड पहले अलर्ट फोन पर पहुंच जाते हैं. ये फीचर एंड्रॉयड के सपोर्ट वाले भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है.

एंड्रॉयड अर्थक्वेक अलर्ट सिस्टम भारत में एंड्रॉयड 5+ यूजर्स के लिए जारी कर दिया है. अगर आपके फोन में अभी इसका सपोर्ट न हो तो संभव है कि आने वाले हफ्तों में आ जाएगा. फोन को अपडेट करते रहें. गूगल के मुताबिक ये फीचर सभी लोकेशन में नहीं मिलता. साथ ही सभी भूकंपों को डिटेक्ट नहीं किया जा सकता और बताए गए मैग्नीट्यूड और शेकिंग इंटेंसिटी में गलती हो सकती है. आपको अलर्ट भूकंप के पहले, उसके दौरान या इसके बाद भी मिल सकते हैं.

Tags: Google, Google apps, Tech Knowledge, Tech news

Latest Posts

Subscribe

Don't Miss