30.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

शराब के गोदाम में हुआ ‘थर्ड डिग्री’ का इस्तेमाल? कोर्ट ने ईडी से मांगा जवाब


छवि स्रोत: फ़ाइल
दिल्ली हाई कोर्ट ने ईडी से मांगा जवाब.

नई दिल्ली: हाई कोर्ट ने राष्ट्रीय राजधानी के कथित मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के केस में दिल्ली के युवराज के सहयोगी अरुण रामचन्द्र पिल्लई के दोस्त और स्टूडेंट को चुनौती देने वाली याचिका पर प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी से जवाब तलब किया है। पिल्लई ने दावा किया है कि उनकी जानकारी हासिल करने के लिए यातना के ‘थर्ड डिग्री’ जैसे तरीके अपनाए गए। न्यायमूर्ति गोल्डनकांता शर्मा ने शुक्रवार को जांच एजेंसी से फाइल की समीक्षा के संबंध में जवाब देने की बात कही।

‘संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन’

कंपनी की ओर से पेशकार वकील नितेश राणा ने ईडी को 6 मार्च को उनके मुवक्किल को एजेंसी के आदेश और फिर संस्थागत संबद्धता आदेश धन शोध सहायता अधिनियम (पीएमएलए) के वकील के उल्लंघन की सूचना दी। था. ग्रोथ ने अपनी याचिका में कहा कि पीएमएलए की धारा 19(1) के तहत अपराधियों के लिए उन्हें कभी भी लिखित या लिखित रूप से कोई आधार नहीं बताया गया और यह उनकी संवैधानिक शक्तियों का भी उल्लंघन है।

‘आरोपियों को ‘थर्ड डिग्री’ यातना दी गई’
इसमें यह बताया गया है कि इस बात को लेकर कुछ दस्तावेजों में यह नहीं कहा गया है कि ईडी के पास यह विश्वास करने के लिए रिकॉर्ड पर सामग्री थी कि पीएमएलए के तहत अपराध का आरोप लगाया गया है। दाखिल-खारिज में कहा गया है, ‘ईडी ने प्रतिशोधात्मक तरीकों से और पूरी तरह से पीछे की जांच के रूप में जानकारी प्राप्त करने के लिए जोर-जबरदस्ती की रणनीति अपनाई है और गंगा/आवेदक के साथ-साथ अन्य शोधों को ‘थर्ड डिग्री’ तक पहुंचाया है। ‘यातना दी गई।’

दिल्ली शराब घोटाला, अरुण पिल्लई, दिल्ली समाचार

छवि स्रोत: फ़ाइल

अरुण रामचन्द्र पिल्लई ने ईडी पर ‘थर्ड डिग्री’ का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है।

डिलिवरी के लिए दस्तावेज़ नहीं है: ईडी
दाखिल-खारिज में कहा गया है, ‘ईडी को गोपनीय आदेश के साथ-साथ इस तरह के गैरकानूनी तरीकों से काम करने में सक्षम बनाया गया है, जो आप अपने में दस्तावेजों के जरिए दस्तावेजों को रद्द कर सकते हैं। आधार है।’ ईडी के वकील ने कहा कि फाइल अपात्र नहीं है। कोर्ट ने 3 नवंबर को केस की सुनवाई के लिए सुनवाई शुरू कर दी है। उसी दिन डिपॉजिट की जमानत याचिका पर भी विचार करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है। इस महीने की शुरुआत में माइक्रोवेव ने इस मामले में जमानत की सजा देते हुए कहा था कि उसे जेल में रखने का कोई आधार नहीं है।

8 जून को जमानत याचिका खारिज कर दी गई
अदालत के दावों के अनुसार 8 जून को एक जेलर ने पिल्लई की जमानत याचिका में कहा था कि उसे खारिज कर दिया गया था कि उसकी भूमिका कुछ अन्य चार की तुलना में अधिक गंभीर थी, जो अब भी जेल में हैं, और प्रथम दृष्टया ईडी का मामला सही है। ।। ईडी ने केस में अपने वास्तुशिल्प में दावा किया है कि पिल्लई भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) की स्थापना की गई है। कविता के करीबी सहयोगी थे। ईडी का मनी लॉन्ड्रिंग केस सेंट्रल स्टॉक ब्यूरो (सीबीआई) से एफआईआर दर्ज की गई है। (भाषा)

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss