17.9 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटें, लेकिन पिछले तीन बार से केवल 199 पर मतदान हुआ


छवि स्रोत: फ़ाइल
राजस्थान में केवल 199 रन की वोटिंग हुई

जयपुर: राजस्थान में 25 नवम्बर को प्रथम वरीयता प्राप्त हुई। यहां विधानसभा की 200 सीटें हैं लेकिन वोटिंग केवल 199 पर ही हुई। राज्य में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. इससे पहले 2013 और 2018 के चुनावों में भी भुगतान किया जा चुका है। 199 प्रोमोशनल पर वोटिंग एक साथ हो जाती है, लेकिन किसी ना किसी की एक सीट पर चुनाव की वोटिंग होनी है। इस अजीबोगरीब घटना की वजह भी हर बार एक ही रहती है। पिछले तीन बार लगातार एक सीट पर एक उम्मीदवार की मौत हो गई।

बता दें कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 52 की उप-धारा (1) (सी) के तहत होने वाले मतदान से पहले यदि किसी भी सीट पर उम्मीदवार की मृत्यु हो जाती है तो चुनाव आयोग को वहां बाद में भर्ती कराया जाएगा। जो। इसके लिए चुनाव आयोग को धारा 52 की उपधारा (2) के अंतर्गत शक्तियां दी गई हैं। इसके तहत चुनाव आयोग कुछ समय बाद उस सीट पर विधानसभा कराता है।

इस बार का एपिसोड क्या हुआ?

दरअसल, इस साल 14 नवंबर तक अचानक खबर आई कि 14 नवंबर को राजस्थान विधानसभा चुनाव 2023 में कांग्रेस के उम्मीदवार प्रबल सिंह कुन्नर का निधन हो गया। वह दिल्ली के एम्स अस्पताल में 12 नवंबर से भर्ती थीं। वह पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे। देर रात श्रीकरणपुर सीट से कांग्रेस के विधायक और वोटर्स थे। इसके बाद चुनाव आयोग ने घोषणा की कि 25 नवंबर को श्रीकृष्णपुर सीट को खाली करने के लिए अन्य चरण में मतदान होगा। यहाँ पर बाद में सम्मिलित किया गया।

2018 में भी 199वीं बार वोटिंग हुई थी

वहीं इससे पहले वर्ष 2018 में प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 7 दिसंबर 2018 को होना था। इस बार भी 200 में संसदीय सीट पर चुनाव तय था लेकिन 29 नवंबर को आदिवासियों की आबादी वाले क्षेत्र में बहुजन समाज पार्टी के साझीदार लक्ष्मण सिंह की हृदयघात से मृत्यु हो गई। इसके बाद बार-बार चुनाव आयोग ने इस सीट पर चुनाव कराया। इसके बाद 28 जनवरी 2019 को यहां रैली निकाली गई, जिसमें कांग्रेस उम्मीदवार शफिया जुबैर ने 12 हजार से भी ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी।

2013 से शुरू हुआ ये अद्भुत संयोग

इसके अलावा 2013 के विधानसभा चुनाव में भी 199 रिपब्लिकन पार्टी का मतदान हुआ था। यहां चुरू विधानसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार जगदीश मेघवाल की हार्ट अटैक से मौत हो गई थी। इसके बाद यहां कहा गया कि विधानसभा में बीजेपी के प्रबल दावेदार हाजी मकबूल मंडेलिया ने अपनी पार्टी के प्रतिद्वंद्वी हाजी मकबूल मंडेलिया को 24,000 से अधिक के अंतर से हराया था।



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss