31.1 C
New Delhi
Tuesday, June 6, 2023

Subscribe

Latest Posts

अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने फेड रेट में की 0.25% की गलती, कल इंडियन स्टॉक मार्केट की लगेगी लंका!


फोटो:फाइल अमेरिकी फेड रिजर्व ने फेड रेट 25bps सींक

यूएस फेडरल रिजर्व ने फेड रेट में बढ़ोतरी की: अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने बुधवार को फेड रेट में 25 बेसिसपॉइंट की तुलना की है। इस घोषणा के बाद से ब्याज दर को बढ़ाकर अब 4.75% से 5% किया जाएगा। विशेषज्ञ ये अनुमान लगा रहे थे कि अमेरिका में हाल ही में दो गंभीर दायित्व होने के बावजूद फेड दर में कोई कमी आएगी, अन्यथा जोखिम पर जोखिम पाया जा सकता है। पिछले एक साल में यूएस फेडरल रिजर्व लगभग हर दूसरे महीने ब्याज में तेजी से बढ़ोतरी कर रहा है। इससे अमेरिका में बॉण्ड उपज प्रभावित होती है। इसका सीधा नुकसान वहां के शेयरों पर पड़ रहा है, जो अपना अधिकतर कारोबार बॉण्ड में ही करते हैं। यह भारतीय शेयर बाजार से भी प्रभावित हुआ। अब ये नजारा काफी दिलचस्प होगा कि बृहस्पतिवार को शेयर बाजार कितना नीचे जा रहा है।

186 बैंक डूबने के तार में डूब गया

दुनिया की सबसे मजबूत अर्थव्यवस्था अमेरिका इस समय गंभीर बैंकों के संकट से जूझ रही है। अमेरिका का सिलिकॉन वैली बैंक संकट से शुरू होकर अब तक संकट में पड़ गया जब तक कि तीन संत नष्ट नहीं हो गए। ताजा रिपोर्ट की तरह अमेरिका के 186 बैंक इस सिलसिले में रुके हुए हैं। अमेरिका में हाल के समय में डूबने वाले बैंक सिलिकॉन वैली और सिग्नेचर बैंक की इस स्थिति के पीछे व्याज में बताहाशा वृद्धि को माना जा रहा है। अमेरिका मार्च 2022 के बाद से ब्याज में 4.5 प्रतिशत का भुगतान कर चुका है। प्रमुख ब्याज दर बढ़ने से सरकारी बंधन जैसी शर्तें बढ़ती जा रही हैं। जैसे-जैसे उपज बढ़ती जा रही है, पुरानेज के बाजार में घटती जाती है। अमेरिका के साइंट्स ने अपने एसेट्स का एक अहम हिस्सा बॉन्ड और ट्रेजरी नोट्स जैसा सतर्कता में निवेश किया है। ये बंधन तब मिले थे, जब व्यस्तता काफी कम थी। एक साथ व्याज में भारी सब होने से पहले आश की मार्केटिंग काफी गिर गई। इससे संबंधित भारी नुकसान हुआ है।

कल भारतीय बाजार पर भी देखने को मिल सकता है असर

फेड रेट बढ़ने से विदेशी शेयर बाजार से पैसा निकालकर अमेरिकी बाजार में निवेश करना शुरू कर देते हैं। इससे भारतीय शेयर में बदलाव में गिरावट आने की संभावना है। ऐसे में यह उम्मीद की जा रही है कि कल जब बाजार खुलेगा तो इसका असर शेयर बाजार में देखने को मिलेगा। यह अप्रत्यक्ष रूप से रिजर्व बैंक पर भी रेपो रेट बढ़ाने को लेकर दबाव बनाता है। अगर रिजर्व बैंक ने दर बढ़ाने का फैसला लिया तो वह देश की आम जनता पर सीधा असर डालेगा।

नवीनतम व्यापार समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss