38.1 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

न्यायालय के सर्वोच्च न्यायालय ने गोद लेने की प्रक्रिया में गोद लेने की प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया, यह अहम टिप्पणी है


छवि स्रोत: पीटीआई
सर्वोच्च न्यायालय।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को बच्चे को गोद लेने की प्रक्रिया में काफी देरी होने का मुद्दा उठाया। सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर टिप्पणी करते हुए कहा कि कई बच्चे बेहतर जीवन की उम्मीद में गोद लेने का इंतजार कर रहे हैं। मुख्य न्यायाधीश डी. वै. चंद्रचूड़ की सूची वाली बेंच ने कहा कि प्रोडक्ट्स ने कहा है कि यह वास्तव में रुका हुआ है। बेंच भारत में बच्चों को गोद लेने की कानूनी प्रक्रिया को सरल बनाने की मांग सहित 2 भर्तियों पर सुनवाई कर रही थी। बेंच में सीजेआई के अलावा जस्टिस जे. बी. पारडीवाला और जस्टिस मनोज मिश्रा शामिल हैं।

‘सैकड़ों बच्चे के लिए भगवान जाने का इंतजार कर रहे हैं’

सुप्रीम कोर्ट की 3 जजों वाली इस बेंच ने कहा कि इसमें बहुत देरी हो रही है। इसमें एक गंभीर मूर्ति वाली बेंच ने कहा कि अगर 20 से 30 साल की उम्र के किसी भी बच्चे को गोद लेने के लिए 3 या 4 साल तक इंतजार करना पड़ता है, तो माता-पिता के रूप में उनकी स्थिति और गोद लेने वाले बच्चे की स्थिति, समय-समय पर बदलाव हो सकता है। मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘वे (केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण-कारा) गोद लेने की प्रक्रिया को अवरुद्ध क्यों कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि सैकड़ों बच्चे बेहतर जीवन की आस में गोद लेने का इंतजार कर रहे हैं।

कोर्ट ने पिछले 3 साल के पात्र की मांग की
केंद्र की ओर से अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (एएसजी) सुधा भारती ने कहा कि केस में उनका हाफनामा तैयार है और वह सुप्रीम कोर्ट में इसे प्रभावित करेंगी। उन्होंने कहा, ‘मैं जो भिक्षुक हूं उसे कोर्ट के समक्ष बनाए रखने की अनुमति दी जाए।’ बेंच ने कहा कि कोर्ट में पिछले 3 साल से गोद लिए गए बच्चों की संख्या और गोद लेने के लिए बच्चों की संख्या का इंतजार किया जा रहा है। एक वकील ने गोद लेने की प्रक्रिया को सरल बनाने की आवश्यकता पर ज़ोर दिया और कहा कि विशेष किशोरों वाले बच्चों को गोद लेने में बड़ी कठिनाइयाँ आती हैं।

केस की अगली सुनवाई 30 अक्टूबर
एक दस्तावेज की सूची में बेंच ने कहा कि इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि देश में हर साल केवल 4000 बच्चों को गोद लिया जाता है। कंपनियों में से एक ने गोद लेने की प्रक्रिया में समस्याओं का जिक्र करते हुए कहा कि भारत दुनिया की ‘ऑर्फन कैपिटल’ बन गई है। बेंच ने केस की अगली सुनवाई 30 अक्टूबर को तय की है। सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल अप्रैल में भारत में बच्चे को गोद लेने की कानूनी प्रक्रिया को सरल बनाने की मांग करने वाली याचिका पर सुनवाई के लिए मंजूरी दे दी थी। गैर सरकारी संगठन ‘द टेम्पल ऑफ हीलिंग’ द्वारा फाइल फाइल पर केंद्र को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया था। (भाषा)

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss