28.1 C
New Delhi
Wednesday, September 27, 2023

Subscribe

Latest Posts

केरल की कहानी: नसीरुद्दीन शाह के बयान पर मचा बवाल, जानें क्या है पूरा विवाद


नसीरुद्दीन शाह विवाद: सुदिप्तो सेन की ‘द केयर स्टोरी फिल्म’ को लेकर हर तरफ शोर मच गया है। रिलीज से पहले से लेकर अभी तक यह फिल्म किसी न किसी वजह से जारी हुई है। इस फिल्म को लेकर कई फिल्मी कलाकारों ने लीडर्स का कमेंट दिया है। रिलीज से पहले इस पर बैन लगाने की बात चल रही थी और जब यह फिल्म रिलीज हुई तो कुछ कलाकार इसे प्रोपेगेंडा कह कर बायकॉट कर रहे हैं।

कमल हासन के बाद अब नसीरुद्दीन शाह ‘द कैरल स्टोरी’ पर अपने बयानों को लेकर हर जगह ट्रेंड हो रहे हैं। नसीरुद्दीन शाह बॉलीवुड में अपनी बात बेबाकी से बोलने के लिए जाने जाते हैं। हालांकि कई बार अपनी इस रिश्ते की वजह से वह मुश्किल में भी फंस जाते हैं।

क्या कहा नसीरुद्दीन शाह ने ?

नसीरुद्दीन शाह ने एक इंटरव्यू में ‘द केरल स्टोरी’ फिल्म की तुलना नाजी जर्मनी से करते हुए इसे एक ‘खतरनाक ट्रेंड’ घोषित कर दिया था। उनका कहना है कि हिटलर के समय में सरकार या नेता फिल्म निर्माताओं से ऐसी फिल्में बनवाते थे, जुड़ी उनकी महत्वाकांक्षा थी और दिखाया गया था कि सरकार ने देश के लोगों के लिए क्या-क्या किया है। यहूदी समुदाय को दिखाया गया था। इस वजह से कई फिल्ममेकर जर्मनी छोड़कर हॉलीवुड चले गए थे और वहां फिल्में बनी थीं। वह अब यहां हो रही है। यह बोलकर नसीरुद्दीन शाह सरकार पर प्रत्यक्ष-सीधा साध रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि उनका ‘सामना’, ‘भीड़’ और ‘फराज़’ जैसी बेहतरीन फिल्मों ने बॉक्स-ऑफिस पर दम तोड़ दिया, लेकिन ‘द कैरल स्टोरी’ जैसी फिल्म बड़े पर्दे पर धमाल मचा रही है। उनकी फिल्म देखने के लिए कोई नहीं गया, लेकिन द केरला स्टोरी को देखने के लिए भीड़ लगी है। उनका कहना है कि लोग इस फिल्म को लेकर बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं, लेकिन ना तो उन्होंने अभी तक इस फिल्म को देखा है और न ही उन्हें देखने का मन है।

हालांकि नसीर साहब का मानना ​​है कि ऐसी नफरत भरी फिल्में ज्यादा समय तक बॉलीवुड में नहीं चल पाएंगी। ”मैं आशा करता हूं कि यह नफरत का माहौल जल्द ही छटेगा। आखिर आप कब तक नफरत फैलाएंगे?”

मुस्लिम से नफरत करने का फैशन बन गया है

नीसरुद्दीन शाह ने इंटरव्यू में आगे कहा कि आज के समय में मुस्लिमों से नफरत करने का फैशन बन गया है। यहां तक ​​कि पढ़ने-लिखने भारतीय भी ऐसा कर रहे हैं। यह काफी चिंता की बात है।

मनोज तिवारी ने पलटवार किया

नसीरुद्दीन शाह की सरकार विरोधी बयानों पर भारतीय जनता पार्टी के नेता और भोजपुरी अभिनेता मनोज तिवारी ने आड़े हाथों लिया है। मनोज तिवारी का कहना है कि ‘दाइलेन स्टोरी’ फिल्म फैक्ट्स पर बनी है और अगर नसीरुद्दीन शाह को परेशानी होती है तो बेशक वह कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं।

मनोज तिवारी ने कहा- ”वह बहुत अच्छे अभिनेता हैं लेकिन नसीरुद्दीन की नीयत अच्छी नहीं है। मैं अधिकार क्षेत्र से यह बात कह रहा हूं। जब ऐसी फिल्में बनती थीं, जिसमें दुकान पर बैठे बदमाश राह चलती लड़कियां छेड़ती थीं, तब ऐसी फिल्मों पर नसीर साहब कोई प्रतिक्रिया नहीं देते थे। नसीरुद्दीन शाह साहब ने इस बयान से जो अपना परिचय दिया है, वह भारतीय के रूप में अच्छा नहीं है।”

केंद्रीय मंत्री एसपी बघेल ने भी की आलोचना

नसीरुद्दीन शाह के बयानों पर केंद्रीय मंत्री एसपी बघेल ने भी आलोचना की है। उन्होंने कहा- ”उनकी (नसीरुद्दीन शाह) पत्नी तो हिंदू हैं। उन्हें क्यों लगता है? मुझे परेशानी होती है बयानों से।आमिर खान, शाहरुख खान, नसीरुद्दीन शाह सभी की पत्नी हिंदू हैं। इनकी सभी पत्नी हैं हिंदू तो क्या इनकी पत्नी को है कोई परेशानी? कोई डर नहीं है? उनकी पत्नी भी सहनशीलता और सनातन धर्म मानती हैं। ऐसी चीजें करके ये सारे एक्टर्स खुद से नफरत करते हैं।”

अनुराग ठाकुर को भी पसंद नहीं आया नसीरुद्दीन शाह का बयान

अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बयानों पर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी अपना प्रति व्यक्त किया। उन्होंने कहा- ”दुनिया भर से लोग भारत आना चाहते हैं। हमारे देश में बोलने की आजादी है और इसलिए फिल्में बनाई जाती हैं। अगर कोई राजनीतिक तौर से लक्षित है तो उन्हें राजनीति में जाना चाहिए और फिर दिखाना चाहिए।”

अनुराग ठाकुर ने यह भी कहा, ”अगर कोई ऐसा गंभीर मेल है, जो आरएसएस से जुड़ा है और समाज दुनिया का काम करता है तो इस पर फिल्म बनाने में किसी को क्यों परेशानी हो सकती है।” फिल्म को इतनी हद तक मिल रही है जो इस बात का सबूत है कि लोगों ने इस फिल्म को पसंद किया है।”

कमल हासन ने भी फिल्म को प्रोपेगेंडा बताया

नसीरुद्दीन शाह से पहले अभिनेता कमल हासन भी इसे प्रोपेंडा फिल्म बता चुके हैं। आईफा 2023 के दौरान कमल हासन की इस फिल्म को लेकर बयान सामने आए थे। अपने विचार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा था कि यह एक प्रोपेगेंडा फिल्म है। “मैं क्वेरीगंडा फिल्मों के खिलाफ हूं। टैगलाइन लगा देने से कोई फिल्म ‘सच्ची कहानी’ नहीं बन जाती। यह लापरवाही में सच जाना भी चाहिए और मुझे वह फिल्म बिल्कुल पसंद नहीं है जो देश के लोगों को विभाजित का काम करती है।”

कमल हासन के निदेशक सुदीप्तो सेन का जवाब

अभिनेता की इस बात पर फिल्म के डायरेक्टर सुदीप्तो सेन ने कहा था- ”मैं पहले समझाने की कोशिश करता था, लेकिन आज मैं ऐसा नहीं करता। जो लोग इस फिल्म को पहले प्रोपेगेंडा फिल्म कह रहे थे। उन्होंने इसे बाद में अच्छा कहा। जो लोग इसे नहीं देख पाए वो इस फिल्म की आलोचना कर रहे हैं।”

प्रोड्यूसर विपुल शाह का आया बयान

द केरल स्टोरी के प्रोड्यूसर विपुल शाह ने कमल हासन के बयानों पर कहा- ”कमल हासन सर सीनियर एक्टर हैं, उनका करियर बहुत बड़ा है। वह मेरे सीनियर हैं। उनकी बात पर प्रतिक्रिया मुझे शोभा नहीं देंगे। मैं उन्हें दरख्वास्त करना चाहता हूं कि वह पहली बार इस फिल्म को देखें। इसके बाद वह मुझे कॉल करें या मुझसे मिलें। हम टेबल पर इसे डिस्कस करेंगे। उन्होंने जो कहा है, उनका जवाब देने का यह बहुत अच्छा तरीका होगा। मुझे उनसे कोई शिकायत नहीं है कि उन्हें फिल्म से परेशानी है। मैं बस चाहता हूं कि वो एक बार इस फिल्म को देख लें, फिर ओपीनियन दें।”

फिल्ममेकर अनिक चौधरी ने भी कहा ‘रणयोगेंडा फिल्म’

कमल हासन के बाद कोलकाता के फिल्म निर्माता अनिक चौधरी ने इसे ‘रेकगेंडा फिल्म’ कहा था, जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी काफी आलोचना हुई थी। अनिक चौधरी ने ईटाइम्स को दिए गए साक्षात्कार में कहा था कि फिल्म के अनुसार, सभी मुस्लिम ISIS के समर्थक हैं, जिनके सगे-संबंधियों में लिखा है- ”राष्ट्रवाद हराम है, मुस्लिम होना ही आपकी पहचान है। ”

फिल्म का संग्रह

इस फिल्म को लेकर चाहे कितना भी हाय-तौबा क्यों न मचाया जाए, लेकिन इस फिल्म ने अभी तक 250 करोड़ रुपए का कलेक्शन कर लिया है। 5 मई को रिलीज हुई यह फिल्म इस साल की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली दूसरी फिल्म बन गई है। यह फिल्म केरल की कुछ महिलाओं के बारे में है, असली ब्रेनवॉश कर के उन्हें इस्लाम में बदल दिया जाता है और सीरिया भेजकर उन्हें ISIS से जुड़ने के लिए मजबूर किया जाता है।

ये भी पढ़ें:

ज़रा हटके ज़रा बचके : विक्की कौशल ने ओब्सेस्ड गानों पर किया ऐसा डांस, लोग बार-बार देख रहे वीडियो

Latest Posts

Subscribe

Don't Miss