24.1 C
New Delhi
Wednesday, February 28, 2024

Subscribe

Latest Posts

नाइजर में मचा तांडव, आतंकियों ने 29 सैनिकों को उतारा मौत के घाट, तीन दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित


Image Source : FILE
नाइजर में मचा तांडव

Niger News: नाइजर की स्थिति तनावपूर्ण है। यहां पश्चिमी नाइजर में संदिग्ध आतंकवादियों ने जोरदार हमला करके 29 सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया है। इस घटना के बाद नाइजर में तीन दिन का राष्ट्रीय अवकाश घोषित कर दिया गया। नाइजर के रक्षा मंत्रालय के अनुसार सौ से अधिक आतंकवादियों ने ब्लास्ट के उपकरणों और वाहनों के उपयोग से सैनिकों को निशाना बनाया और उन्हें मौत के घाट उतारा। इस आतंकी घटना में 2 सैनिक गंभीर रूप से घायल हुए। मुठभेड़ के दौरान कई आतंकवादी भी मारे गए। 

नाइजर के रक्षा मंत्रालय के अनुसार यह हमला माली के साथ देश की सीमा के समीप उपस्थित ताबाटोल के पास सैन्य अभियान के दौरान हुआ है। इस बॉर्डर के इलाके में नाइजर सैनिक गश्त लगाते हैं। इसका मकसद बॉर्डर एरिया में इस्लामिक स्टेट की ओर से आने वाले खतरे को नेस्तनाबूत करना है। नाइजर रक्षा मंत्रालय ने कहा, ‘आतंकवादियों के संचार को रोक दिया गया है, जिन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर किया गया था’। रक्षा मंत्रालय मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि हमलावरों ने बाहरी लोगों से मिले मदद का लाभ उठाया।

जिहादी विद्रोह ने एक दशक से अधिक समय से अफ्रीका के साहेल क्षेत्र को प्रभावित किया है, जो 2015 में पड़ोसी नाइजर और बुर्किना फासो में फैलने से पहले 2012 में उत्तरी माली में फैल चुका था।

अगस्त में नाइजर पर आतंकी हमला

नाइजर, माली और बुर्किना फासो के बीच तीन सीमाएं क्षेत्र नियमित रूप से इस्लामिक स्टेट समूह और अल-कायदा से जुड़े आतंकवादियों के हमलों का क्षेत्र रहा है। हिंसा ने तीनों देशों में सैन्य कब्ज़े को बढ़ावा दिया है, जिसमें नई घटना नाइजर से जुड़ी है, जब 26 जुलाई को तख्तापलट हुआ है। बता दें कि अगस्त में नाइजर और बुर्किना फासो के बीच सीमा के पास संदिग्ध जिहादियों के हमले में कम से कम 17 नाइजीरियाई सैनिक मारे गए और 20 घायल हो गए। नाइजर दो जिहादी विद्रोहियों से जूझ रहा है। पहला पड़ोसी नाइजीरिया में लंबे समय से चल रहे संघर्ष के कारण इसके दक्षिण-पूर्व में फैला हुआ विद्रोह और दूसरा पश्चिम में माली और बुर्किना फासो से आने वाले आतंकवादियों का आक्रमण।

नाइजर में 1500 फ्रांसीसी सैनिक मौजूद

नाइजर के तख्तापलट के बाद से अपदस्थ बज़ौम को उनकी पत्नी और बेटे के साथ उनके राष्ट्रपति निवास में रखा गया है। सोमवार को उनके वकीलों ने कहा कि उन्होंने तख्तापलट करने वाले नेताओं के खिलाफ मुकदमा दायर किया है।साहेल में जिहादी विरोधी तैनाती के हिस्से के रूप में फ्रांस ने पूर्व पश्चिम अफ्रीकी उपनिवेश में अपने लगभग 1500 सैनिकों को रखा है और तख्तापलट करने वाले नेताओं से उनकी वापसी के लिए बातचीत की मांग की है।

Latest World News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss