38.1 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

धारचूला से आदि कैलाश की पूरी यात्रा का स्टोर गाइड


छवि स्रोत: सामाजिक
धारचूला से आदि कैलाश

आदि कैलाश यात्रा: इन दिनों उत्तराखंड में आदि कैलाश यात्रा शुरू हुई है। आदि कैलास भगवान शिव और माँ पार्वती का निवास स्थान है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार आदि कैलास पंच कैलासों में से एक है। हिन्दू धर्म में ॐ पर्वत और आदि कैलाश को बहुत पवित्र माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यहां की व्यापक ब्रह्मांडीय ऊर्जा को कोई भी व्यक्ति बदल सकता है। इसके दर्शन से आपका अंतर्मन शुद्ध और शांत हो सकता है। आज हम इस यात्रा से जुड़ी हर छोटी-बड़ी बुराई के बारे में जानने की कोशिश करेंगे।

धारचूला से आदि कैलास की पूर्ण यात्रा

देशों में रहस्यों से लेकर ऐसी कुछ जगहें भी हैं जहां जा तो सकते हैं लेकिन ये यात्रा हर किसी के बस की बात नहीं है। ऐसी ही एक साहसिक और कहानी से परिपूर्ण यात्रा है आदि कैलाश पर्वत की। इस यात्रा में आइडल भी हैं, एडवेंचर भी खूबसूरत है और साथ में बेहद खूबसूरत भी हैं। इसकी शुरुआत के लिए आप देश के किसी भी हिस्से से उत्तराखंड के परिदृश्य में आएंगे। यहां आएं पर आपको मेडिकल टेस्ट करना होगा।

बीच में क्या-क्या आता है, कितना समय लगता है

उदयपुर के धारचूला से आदि कैलास की यात्रा लगभग 5 दिन की पूरी होती है। यह यात्रा पथले रस्तो से सक्रिय सड़क पर है, लेकिन समुद्र तट पर अचानक भूस्खलन के मौसम में परिवर्तन होने के कारण 60 किलोमीटर की दूरी पर सड़क पर दरारें पड़ गई हैं। मार्ग से पूर्ण होता है।

-धारचूला से 5 किमी की यात्रा तय करने के बाद तपोवन का दर्शन होता है।
-यहाँ नेपाल और भारत के बीच पर दिखाई देने वाली पहाड़ियाँ समुद्र तट पर माँ काली नदी सीमा रेखा की तरह दिखाई देती हैं।

आदि कैलाश यात्रा

छवि स्रोत: सामाजिक

आदि कैलाश यात्रा

चैनिया चोली से लेकर पाटण पटोला तक, गरबा नाईट पर निशान कर सकते हैं आप ये गुजराती गुड़िया

रास्ता मालपा गांव का है

मालपा गांव पहुंचने से पहले तांपा इलाके के पास आपको खूबसूरत एक झरना देखने को मिलेगा जहां से दिव्य शक्ति का आशीर्वाद मिला है जिसके कारण से ना सिर्फ इस जगह को देखना बेहद जरूरी है बल्कि इस झरने पर जब सूरज की किरणें दिखती हैं तो इंद्रधनुष के सभी रंग देख सकते हैं, इस जगह पे लाखो हिंदू अवशेष हर साल आते हैं।

सीता पुल पर भगवान शिव और वेदव्यास जी का मंदिर

फिर गुंजी गांव पहुंचने से पहले बीच में सीता पुल दिखाई देता है जो भारत से नेपाल की ओर जुड़ा हुआ है, यह पुल लकड़ी का बना हुआ है और हवा में झूलता हुआ दिखाई देता है। पुल को पार करते ही नेपाल सेना के युवा दिग्दर्शन हैं। अन्यत्र नेपाली पहाड़ी पर भगवान शिव ओर वेदव्यास जी का मंदिर है।

अब आता है पार्वती सरोवर

कैलाश पर्वत के साथ लगे पार्वती सरोवर के पास बने प्रसिद्ध शिव पार्वती मंदिर के दर्शन के बिना लोग यहां से आदि नहीं जाते हैं।

अपनाएं ये स्मार्ट तरीका, आसानी से हो जाएंगे अर्धकुंवारी के दर्शन; नहीं करना चाहिए 15 से 30 घंटे का इंतजार

पार्वती के पास शेषनाग पर्वत

पार्वती के पास काली मंदिर है। इसी के पास शेषनाग पर्वत और वेदव्यास गुफा। यहां से लोग पूजा अभिषेक करके गुंजी को लौट जाते हैं।

बता दें कि इस यात्रा में 32 से 40 हजार तक का खर्च आ सकता है। इसके अलावा आपको इस यात्रा के लिए खुद को टॉयलेटरी फ़िट करना होगा। जब तक आप पूरी यात्रा का आनंद ले लेंगे।

नवीनतम जीवन शैली समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss