30.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

बच के रहें! फ्री में यूट्यूब प्रीमियम, चैटजीपीटी यूज करने का लालच लूट न ले


हाइलाइट्स

टेलीग्राम पर भेजे जा रहे हैं मेलवेयर के लिंक.
एक बार इंस्‍टॉल होने पर एक्‍सेस कर लेता है हासिल.
यह एंड्रॉयड डिवाइस का पूरा कंट्रोल आका को दे सकता है.

नई दिल्‍ली. अगर आपको भी कहीं से खासकर, टेलीग्राम पर यूट्यूब प्रीमियम, चैटजीपीटी और कुछ वेबसाइट्स की प्रीमियम सेवाओं का इस्‍तेमाल फ्री में करने का मैसेज मिले तो भूलकर भी उस पर विश्‍वास न करें. फ्री का यह लालच आपके फोन में खतरनाक मालवेयर डोजरेट (DogeRAT) घुसा देगा. इस मालवेयर के इंस्‍टाल होते ही आपकी सेंसेटिव इंफोर्मेशन साइबर क्रिमिनल के हाथ होगी. वो न केवल आपके बैंक अकाउंट में झाड़ू फेर देंगे, बल्कि आपके मोबाइल का पूरा एक्‍सेस भी ले लेंगे. मतलब, फोन आपके हाथ में होगा और उसे कंट्रोल कोई और कर रहा होगा. आपके ही फोन के कैमरे का इस्‍तेमाल कर वे फोटो ले लेंगे या वीडियो बना लेंगे और आपको पता भी नहीं चलेगा.

सरकार ने अब एक एडवाइजरी जारी कर एंड्रॉयड यूजर्स को मालवेयर डोजरेट के प्रति आगाह किया है. एडवाजरी में कहा गया है कि एक बार डिवाइस पर इंस्टॉल हो जाने के बाद यह मालवेयर कॉंटेक्‍ट, मैसेज और बैंकिंग क्रेडेंशियल्स सहित सभी संवेदनशील डेटा को देखने-पढ़ने में सक्षम हो जाता है.

ये भी पढ़ें- Iphone अभी लेना चाहिए या नहीं? खरीदने से पहले खुद से पूछिए कुछ सवाल, क्लीयर हो जाएगा माइंड

कैसे पहुंच रहा फोन तक?
साइबर क्रिमिनल एंड्रॉयड डिवाइसेज में डोजरेट मेलवेयर को घुसाने के लिए टेलीग्राम का सबसे ज्‍यादा इस्‍तेमाल कर रहे हैं. टेलीग्राम पर यूट्यूब प्रीमियम, चैटजीपीटी, ओपेरा मिनी ब्राउजर और कुछ अन्‍य प्रीमियम वेबसाइट्स व ऐप्‍स को फ्री में इस्‍तेमाल करने के मैसेज वायरल किए जा रहे हैं. इन मैसेज के साथ लिंक भी हैं. इन लिंक्‍स पर क्लिक करने पर मेलवेयर मोबाइल फोन में इंस्‍टॉल हो जाता है और फिर सभी संवेदनशील निजी जानकारियों को चुराकर साइबर क्रिमिनल तक पहुंचाने लगता है.

डोजरेट न केवल संवेदनशील डेटा को चुराता है, बल्कि यह आपके फोन या दूसरे एंड्रॉयड डिवाइस का पूरा कंट्रोल ही अपने आका को दे सकता है. DogeRAT के पास डिवाइस का नियंत्रण होने पर आपके फोन से स्पैम मैसेज किए जा सकते हैं और अनधिकृत भुगतान भी किया जा सकता है. यही नहीं दूर बैठा शख्‍स फोन के कैमरे का इस्‍तेमाल तस्वीरें लेने और वीडियो बनाने के लिए कर सकता है  और आपको पता भी नहीं चलेगा.

ये हैं बचने के तरीके
सरकारी एडवाइजरी में यूजर्स से अज्ञात थर्ड पार्टी ऐप स्टोर से ऐप इंस्टॉल न करने का आग्रह किया गया है. Google, Apple या Windows द्वारा उपलब्ध कराए गए ऐप स्टोर से ही ऐप डाउनलोड करें. अज्ञात ई-मेल आईडी से आए ईमेल पर कभी भी क्लिक न करें. टेलीग्राम या वॉट्सऐप पर आए किसी भी लिंक पर क्लिक न करें. अपने फोन में हमेशा एंटी-वायरस रखें.

Tags: Business news in hindi, Cyber Attack, Cyber Knowledge, Cybercrime, Virus

Latest Posts

Subscribe

Don't Miss