34.1 C
New Delhi
Tuesday, July 16, 2024

Subscribe

Latest Posts

भारत से दगाबाजी कर रही है श्रीलंका! चीन के ‘जासूसी’ जहाज़ पर मिल कर रह रही रिसर्च वर्कशॉप


छवि स्रोत: फ़ाइल
चीनी जहाज शियान 6 श्रीलंका कर रही रिसर्च वर्कशॉप पर

श्रीलंका-चीन समाचार: श्रीलंका में आर्थिक संकट गहराने के बावजूद भारत ने अपने इस पड़ोसी देश को आर्थिक मदद की थी। इसके अलावा श्रीलंका में भारत के ऐतराज के साथ मिलकर चीन के जहाज पर रिसर्च वर्कशॉप कर रहा है। चीन का यह जहाज़ देखने को तो मिला है, लेकिन इस पर भारत की जासूसी करने का भी अंदेशा बना हुआ है। रिसर्च के मुताबिक चीन के समुद्री तट पर स्थित नौसैनिक हलचल पर नजर रखने की हिम्मत की जा सकती है। इस पर भारत ने क्रोएशिया में चीनी पॉट के समर्थकों का विरोध भी दर्ज कराया था। भारत के साथ ही अमेरिका ने भी प्रवेश द्वार का विरोध किया था। लेकिन श्रीलंका पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा है। श्रीलंका और चीन के वैज्ञानिक चीनी पॉट पर समुद्री विज्ञान संबंधी संयुक्त अनुसंधान कर रहे हैं।

इस संबंध में एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को जानकारी देते हुए बताया कि चीनी पोट ‘शी यान 6′ पिछले सप्ताह बोल्ट बंदरगाह था। सूत्रों के अनुसार, भारत द्वारा वैज्ञानिक कहा जाता है, लेकिन जीवित पॉट के आगमन के लिए देर से जानकारी दी गई, इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। कंसोल्ट में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ’30 और 31 को समुद्री विज्ञान संबंधी अनुसंधान करने के लिए कहा गया है।’ उन्होंने कहा कि पॉट अभी भी पश्चिमी जल क्षेत्र में है।

कोलोराडो में चीनी पॉट रिसर्च वर्कशॉप में जा रहा है

राष्ट्रीय जलीय अनुसंधान एजेंसी (एनआरए) के वैज्ञानिक, नौसेना मंत्रालय और रूहाना विश्वविद्यालय के विश्वविद्यालयों की पोस्ट पर जाने की जानकारी दी गई है। एजेंसी के एजेंसी के डॉक्टर कमल तेनाकुन ने कहा कि पोट के जरिए बोल्टा में बेनतारा के पास शोध कार्य किया जा रहा है। चीनी पॉट ने सोमवार को श्रीलंका के समुद्र में शोध शुरू किया। यह भूभौतिकी अनुसंधान के लिए चीन का पहला वैज्ञानिक अनुसंधान पॉट बताया जा रहा है।

अमेरिका ने पिछले महीने भी आधारभूत थी चिंता

पिछले महीने, चीनी अनुसंधान पोत की प्रस्तावित यात्रा अमेरिका लेकर आई थी, जिसमें इंडोनेशिया की चिंता का विषय था। हाल ही में, संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र से न्यूयॉर्क में श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी से मुलाकात करने वाली अमेरिकी उप मंत्री विक्टोरिया नुलैंड ने पॉट की यात्रा को कथित तौर पर चिंता का विषय बताया था। भारत, चीनी पोतों की श्रीलंका यात्रा को लेकर चिंता जताई जा रही है। चीनी उपग्रह पर्यवेक्षण पोत की 2022 की शुरुआत में इसी तरह की यात्रा को लेकर भारत ने कड़ा विरोध दर्ज कराया था।

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss