25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

फ़िलिस्तीनी क़ज़ाल को लेकर वेस्ट बैंक के किले में ही लगे अल्लाह-हू-अकबर के नारे


छवि स्रोत: एपी
फ़िलिस्तीनी रिहाइशी वेस्ट बैंक ले जाने के बाद रेड क्रॉस की गाड़ी से निकले।

इजराइल-हमास युद्ध के तीसरे दिन जब फिलिस्तीनी बंधकों को रेड क्रॉस की गाड़ी लेकर रविवार को सुबह वेस्ट बैंक में ले जाया गया तो स्मारकीय जश्न में बदल दिया गया। जेल से वापस आकर परिवारजनों ने अल्लाह-हू-अकबर के नारे लगाना शुरू कर दिया। उन्होंने हमास के भी जयकारे लगाए। रात भर सुपरस्टार और बिजनेसमैन बने रहे। हमास ने 13 इजराइली और चार विदेशी बंधकों को रिहा किया तो बदले में इजराइल ने कम से कम 36 फलस्तीनी लोगों को रिहा कर दिया।

हमास द्वारा बंधक बनाए गए लोगों और इजराइल में फलस्टीनी कैदियों की अदला-बदली के दूसरे दौर के तहत इन बंधकों और कैदियों को रिहा किया गया है। अल बिरेह पर सैकड़ों लोगों ने रेड क्रॉस इंटरनेशनल कमेटी की बस का स्वागत किया। भीड़ ने बस के ढांचे में ही ”अल्लाह हू अकबर” के नारे लगाए। बस की छत पर कई युवा पुरुष हो गए। भीड़ में मौजूद कई लोगों ने हमास के झंडे पकड़ रखे थे। उन्होंने हमास के समर्थन में समर्थन दिया। इज़रायली सेना ने कहा कि हमास ने बंधकों में जो चार लोग छोड़े हैं वे बंधकों के नागरिक हैं। इन बंधकों को इजराइल ले जाया गया है और उन्हें उनके परिवार से जोड़ा जा रहा है।

जेल से छूटने के बाद भी डर से कांप रहे थे फिलिस्तीनी कैदी

हमास ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें बंधक बंधक और कंपेटे हुए लोग नजर आ रहे हैं, लेकिन इनमें से ज्यादातर की सेहत ठीक लग रही है। वीडियो में नकाबपोश एक्सट्रीमपंथी एम रेड क्रॉस के वाहनों की ओर ले जाते दिख रहे हैं। अपनी रिहाई के तुरंत बाद नूरहान अवाद नाम की महिला यरूशलम के पास कैंदलिया शिक्षण शिविर में जब सर्पां तो सैकड़ों लोगों ने उनके एक अभिनेता का इस तरह स्वागत किया। अवध 2016 में जब 17 साल की थी तब एक इजराइली सैनिक पर कैंची से युद्ध करने के प्रयास के लिए साढ़े 13 साल की सजा की घोषणा की गई थी। रिकी की एक और फलस्टिनी महिला शूरौक दुवियत ने प्लाजा से कहा, ”हम गाजा में अपने लोगों को संदेश देते हैं कि हम आपके साथ हैं और आपका समर्थन करते हैं।”

हमास के साथी दूसरे दिन 7 बच्चों और 6 महिलाओं से मुक्त हो गए

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के कार्यालय ने बताया कि हमास को इजराइली बंधकों द्वारा शनिवार को रिहा किया गया, जिसमें सात बच्चे और छह महिलाएं शामिल हैं। किबुत्ज़ के एक प्रवक्ता ने बताया कि अधिकांश बंधक किबुत्ज़ बेरी से निकाले गए थे। हमास के निशाने पर सात अक्टूबर को इजराइल में हुए हमलों के दौरान किबुत्ज़ बेरी को समर्थन दिया गया था। दोनों बच्चों की उम्र तीन से 16 साल और महिलाओं की उम्र 18 से 67 साल के बीच है। किबुट्ज़ के प्रवक्ता ने बताया कि बंधकों के परिवार के किसी भी सदस्य को सात अक्टूबर की हिंसा में रिहा कर दिया गया था या उनके किसी प्रियजन को बंधक बना लिया गया था।

प्रवक्ता ने कहा कि 12 साल की बंधकों में शामिल बंधकों की मां अब भी हमास के व्यवसाय में हैं। किबुत्ज़ के निवासी सात अक्टूबर के हमलों के बाद एक होटल में एक साथ रह रहे हैं। शनिवार देर रात होटल के एक ऑडिटोरियम में बड़ी संख्या में लोग जमा हुए और जब उन्होंने अपने रिश्तेदारों की पहली तस्वीरें जारी कीं तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।​ (एपी)

यह भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss