31.1 C
New Delhi
Saturday, July 13, 2024

Subscribe

Latest Posts

कब्रिस्तान में बैठे-बैठे कादर खान को मिला अभिनय का मौका, पहली बार 1500 रुपये दिखे थे बेहाल


कादर खान अज्ञात तथ्य: वह सिर्फ बेहतरीन अभिनेता नहीं थे, बल्कि शानदार लेखक भी थे। आलम यह है कि उनकी डायलॉगबाज़ी आज भी लोगों की जुबान पर रहती है। हम बात कर रहे हैं अपने समुद्र तट के मशहूर कलाकार, बेहतरीन कॉमेडियन और उम्दा लेखक कादर खान की, 300 से ज्यादा फिल्मों में काम करके अपनी काबिलियत से हर किसी को अपना मुरीद बना लिया। 22 अक्टूबर 1937 के दिन अफगानिस्तान के काबुल में साउदी कादर खान भले ही इस दुनिया में रह गए थे, लेकिन उनके चाहने वालों की गिनती आज भी कम नहीं हुई है। बर्थ एनिवर्सरी स्पेशल में हम आपको कादर खान की जिंदगी के चांद यादगार से उड़ा रहे हैं।

इसी वजह से आये थे हिंदुस्तान
अफ़ग़ानिस्तान में साउदिम कादर खान के पिता अब्दुल रहमान थे, जबकि माँ स्मातिम बांग्लादेश से ब्रिटिश इंडिया में गद्दारी करती थीं। कादर खान के तीन बड़े भाई भी थे, लेकिन मोहम्मद आठ साल की उम्र तक इस दुनिया में रहे। ऐसे में कादर खान की मां बुरी तरह डर गईं और उन्हें लेकर मुंबई में बस गईं।

संघर्ष में गुजरा कादर खान का बचपन
मुंबई में कादर खान के परिवार ने एक बस्ती में अपना आशियाना बनाया, जहां वह लगातार आर्थिक तंगी से जूझते रहे। आलम यह था कि पूरे परिवार को सप्ताह में तीन दिन ही खाना खिलाना था। अन्य समस्याओं के बावजूद कादर खान की मां ने अपनी पढ़ाई में किसी भी तरह का कोई भेदभाव नहीं दिखाया। माँ की संकटकालीन अवस्था में कादर खान ने सिविल इंजीनियर और उनके प्रोफेसर भी बन गये।

कब्रिस्तान में बैठे-बैठे बन गए एक्टर
कॉलेज में पढ़ते-पढ़ते कादर खान के नाटकों में भी काम करने लगे और डायलॉग आदि बोलने लगे। वह रात के वक्त बार-बार कब्रिस्तान में चला गया और वहां जोर-जोर से चिल्लाकर रियाज करने लगा। एक बार उनके चेहरे पर टॉर्च की रोशनी डाली गई। बिजनेस स्टैंडर्ड ने कादर खान से पूछा कि यहां क्या कर रहे हो? कादर खान ने जवाब में कहा कि दिन में जो कुछ भी प्यासा हूं, रात में यहां रियाज करता हूं. उस स्पेशल ने कादर खान को अभिनय करने की सलाह दी। वह कोई और नहीं बल्कि अशरफ खान थे, जो फिल्मी दुनिया से धराए हुए थे।

पहली बार 1500 रुपये में देखा ऐसा हो गया था हाल!
अशरफ खान से मुलाकात के बाद कादर खान ने फिल्मी दुनिया की राह खोली। उन्होंने सबसे पहले नरेंद्र बेदी की फिल्म जवानी दीवानी में काम किया। इस फिल्म में कादर खान ने ना सिर्फ अपनी अदाकारी का जादू दिखाया, बल्कि बोल भी लिखे। इसके विद्वान कादर खान की कीमत 1500 रुपये मील थी, जिसे देखकर वह हैरान रह गए। दरअसल, कादर खान ने उन्हें पहले तीनों एक साथ कभी नहीं देखे थे। 31 दिसंबर 2018 को कनाडा में कादर खान का निधन हो गया।

रामायण में रावण बनने के लिए KGF स्टार यश ले रहे हैं भारी भरकम फीस? डेट डेटेड उड़ जायेंगे

Latest Posts

Subscribe

Don't Miss