34.1 C
New Delhi
Monday, June 24, 2024

Subscribe

Latest Posts

‘सर्वेंट ब्रजेश पाठक’, आखिर यूपी के डिप्टी सीएम ने क्यों रखा ये अपना नाम; जानें


छवि स्रोत: एक्स
उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम ने एक्स पर अपना नाम सर्वेंड ब्रजेश पाठक रखा है।

न: समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो अखिलेश यादव के कटाक्ष के बाद उत्तर प्रदेश के कवर पेज ब्रजेश पाठकों ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘X’ पर अपने नाम से पहले ‘सर्वेंट’ जोड़ा है। यादव ने कहा कि अगर पाठक ने ‘X’ पर अपने नाम के साथ पहले ‘सर्वेंट’ जोड़ा है तो वह कल से खुद को सही अर्थ में ‘पब्लिक सर्वेंट’ में शामिल कर लेता है। पूर्व मुख्यमंत्री अलोकप्रिय यादव और स्थायी सचिव राजेश पाठक के बीच बुधवार को नारायण की जयंती की शुरुआत हुई थी, जब यादव ने पुलिस रोके जाने के बाद उत्तर प्रदेश में नायडु नारायण इंटरनेशनल सेंटर (जेपीएनआईसी) के संस्थापक प्रशंसक बने थे और ‘लोकनायक’ की जयंती मनायी थी। ‘ की प्रतिमा पर प्रतिपादित किया गया था।

‘अखिलेश को एशियाई खेलों में जाना चाहिए’

अलॉज द्वारा गैट फैन्डकर इन एसोसिएशन पर रीडर्स ने तंज करते हुए कहा था, ‘उनका (अखिलेश) कानून-व्यवस्था से कोई लेना-देना नहीं है। वह कभी-कभी कानून का पालन नहीं करते, बल्कि उसे तोड़ देते हैं। अराजकता फैलाना सूप के इतिहास में शामिल है। अगर वह (अखिलेश) तीन ही माह में हैं तो उन्हें एशियाई खेलों में जाना जाता है और भारत के लिए पदक मिलते हैं।’ पाठक के बयान पर पलटवार करते हुए अखिलेश ने गुरुवार को कहा था, ‘हम सर्वेंट डिप्टी सीएम की बात का जवाब नहीं दे रहे हैं।’ यदि अनाथ के लिए कोई जिम्मेदार है तो मुख्यमंत्री स्वयं जिम्मेदार हैं। अगर वह सड़क पर प्लास्टिक की जेब से गिरे हुए हैं तो क्या वह जेपीएनआईसी और रिवर फ्रंट को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे।’

सेवक ब्रजेश पाठक,ब्रजेश पाठक,अखिलेश यादव

छवि स्रोत: पीटीआई

इलिनोइस यादव तेलुगू नारायण इंटरनेशनल सेंटर का कुछ यूं फैन्डकर अमेरिका में थे।

‘मैं अखिलेश यादव की उपस्थिति में हूं’
खुद को ‘सर्वेंट’ कहे जाने पर पाठक ने सोशल मीडिया पर ‘X’ पर अपने नाम के पहले ‘सर्वेंट’ जोड़ा लिया। इससे पहले उन्होंने ‘एक्स’ पर एक वीडियो पोस्ट कर कहा था, ‘मैं सपा प्रमुख अखिलेश यादव का दिल से प्रकट हुआ हूं।’ उन्होंने सर्वेंट डिप्टी सीएम से कहा। यह सही है कि मैं जनता के सेवक के रूप में, नौकर के रूप में जनता के हित के लिए काम करता हूं, जबकि अखिलेश यादव राजघराने से आये हैं और राजघराने की तरह व्यवहार करते हैं। कई बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे अविश्वास के नारे। वह (अखिलेश) भी प्रदेश के मुख्यमंत्री रह रहे हैं। मैं इस बात के लिए अखिलेश को धन्यवाद देता हूं और कहता हूं कि उन्होंने सर्वेंट डिप्टी सीएम को फोन किया है।’

‘क्या ब्रजेश पाठक सरकारी कर्मचारी नहीं हैं?’
वहीं अलोकेश ने पाठक द्वारा अपने नाम में ‘सर्वेंट’ के बारे में बात करते हुए प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘अगर उन्होंने ‘एक्स’ पर नाम बदल दिया है तो कल से वह पब्लिक सर्वेंट में सही शब्द का इस्तेमाल करते हैं।’ सपा ने ‘एक्स’ पर समाजवादी पार्टी का एक वीडियो साझा किया, जिसमें उन्होंने अपने दावे को खारिज कर दिया। अखिलेश ने कहा, ‘क्या वह सरकारी कर्मचारी नहीं हैं? मैंने क्या ग़लत कहा? उन्हें तो ये बताना चाहिए था कि लोकनायक नारायण के नाम पर कौन सा संग्रहालय बनाया गया है जो लॉक में रखा गया है? उत्तर प्रदेश में किसी भी सरकार ने पहले कभी ऐसा नहीं किया होगा कि किसी को भी ‘महापुरुष’ से जुड़े कार्यक्रम में भाग लेने से रोक दिया गया हो।’

सेवक ब्रजेश पाठक,ब्रजेश पाठक,अखिलेश यादव

छवि स्रोत: पीटीआई

अप्रैल में ईद के मौक़े पर नाऊल के ईदगाह मैदान में एक साथ नज़र आये थे समाजवादी और ब्रजेश।

अज्ञानी यादव ने राजेश पाठक पर सैद्धांतिक अध्ययन किया
स्वास्थ्य मंत्री के भी समर्थक समर्थक पाठक ने जारी की रिपोर्ट में कहा, ‘किसी भी सरकारी अस्पताल में गरीबों का इलाज नहीं हो रहा है। किसी भी अस्पताल में अगर वहां दवा-इलाज मिल रहा हो तो बताएं। ‘जो चित्रित ‘जैसी बीमारी से गरीबों को नहीं बचा पा रहे हैं वे एक ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था की बात कर रहे हैं।’ एसपी सुप्रीमो ने सवाल किया कि रीडर्स ने पूर्व में अपने एक हमले के दौरान ‘एक्सपायर ड्रग्स’ का घोटाला पकड़ा था, उसकी जांच क्या हुई? उन्होंने पूछा कि क्या मेडिकल मेडिकल कॉलेज बने हैं, क्या इंस्टीट्यूट के इंजीनियर और अन्य मेडिकल कॉलेज बने हैं? (भाषा)

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss