40.1 C
New Delhi
Thursday, May 30, 2024

Subscribe

Latest Posts

'सूर्य तिलक' की तस्वीरें देखें भाव-विभोर हुए मोदी, जूता कलाकार टैग पर देखा वीडियो – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: भारत
सूर्य तिलक का वीडियो देखें मोदी

असम : रामनवमी के अवसर पर आज अयोध्या के राम मंदिर में रामलला का सूर्य दर्शन किया गया। यह अद्भुत अवसर था। दर्पण और स्थिरांक से युक्त एक विस्तृत सिस्टम के द्वारा यह प्रक्रिया मशीनरी निकाली गई। रामलला के मस्तक तक सूर्य की किरणों द्वारा स्थापित यह प्रणाली। रामनवमी के मंदिर पर यह अदभुत दृश्य देखने को मिला। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस अद्भुत क्षण के वीडियो को मीडिया से टैग करते हुए देखा। यह वीडियो देखकर वे श्रद्धा से भावविभोर नजर आए।

अद्भुत क्षणों का गवाह बनने की अपील

असल में, आज प्रधानमंत्री चुनावी प्रचार के समर्थक असम के नलबारी में एक लड़की को दिखा रहे थे। उन्होंने अपने सपनों में लोगों से इस अद्भुत क्षण के गवाहों की भी अपील की। उन्होंने अपने सपने के दौरान मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाई और जय श्रीराम के नारे लगाए। मोदी ने कहा कि लोग इस अद्भुत साधु के साक्षी हैं। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हेलीकॉप्टर में पूर्ण श्रद्धा के साथ 'सूर्य तिलक' के वीडियो को टैग पर देखा।

हिट फिल्म में शूटआउटकर का वीडियो देखा

इस वीडियो को देखने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संकेत दिए और पूरी श्रद्धा के साथ सूर्य तिलक के अद्भुत पल के साक्षी बने। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हृदय पर हाथ रखकर और आंख झुकाकर भगवान राम को प्रणाम करते हुए भी नजर आ रहे हैं। मोदी ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर इसी तरह की एक पोस्ट शेयर की है। उन्होंने लिखा- नल बेबी की सभा के बाद मुझे अयोध्या में रामलला के सूर्य तिलक के अद्भुत और अप्रतिम क्षण को देखने का सौभाग्य मिला। श्रीराम जन्मभूमि का ये बहुप्रतीक्षित क्षण हर किसी के लिए परमानंद का क्षण है। ये सूर्य तिलक, विकसित भारत के हर संकल्प को अपनी दिव्य ऊर्जा से इसी तरह प्रकाशित करेगा।

हर साल रामनवमी पर सूर्य तिलक किया जाता है

बता दें कि सूर्य का तिलक लगभग चार-पांच मिनट तक चला। यह वह घड़ी थी जब सूर्य की किरणें सीधे राम लला की मूर्ति के सामने स्थित थीं। प्रशासन ने भीड़भाड़ से बचने के लिए सूर्य तिलक के समय भक्तों को गर्भगृह में प्रवेश से रोक दिया था। सूर्य तिलक परियोजना का मूल उद्देश्य रामनवमी के दिन श्री राम की मूर्ति के मस्तक पर एक तिलक लगाना है। हर साल चैत्र माह में श्री रामनवमी पर दोपहर 12 बजे भगवान राम के मस्तक पर सूर्य की रोशनी से तिलक किया जाएगा। हर साल इस दिन आकाश पर सूर्य की स्थिति कमजोर होती है।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss