35.1 C
New Delhi
Sunday, April 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

यूक्रेन की लड़ाई में रूस ने बड़ा नुकसान किया, थोड़े से अधिक टैंकों को नष्ट कर दिया!


छवि स्रोत: एपी
सांकेतिक तस्वीर

नई दिल्ली। यूक्रेन के साथ करीब 1 साल से चल रहे युद्ध के दौरान रूसी सेना को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। थिंक टैंक विशेषज्ञ थिंक, इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटेजिक स्टडीज (एईआईएसएस) की एक गणना यूक्रेन के अनुसार लगभग एक साल तक चलने के बाद रूस की सेना के टैंकों के बेड़े का लगभग 40 प्रतिशत नष्ट हो जाने का अनुमान है। द गार्जियन ने बताया कि युद्ध में उपयोग किए जाने वाले कुछ प्रमुख टैंकों के लिए यह पात्र 50 प्रतिशत तक बढ़ गया है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि रूस को बड़े पैमाने पर नुकसान उठाना पड़ा है।

वहीं यूक्रेन ने काफी संख्या में रूसी टैंकों पर कब्जा कर लिया है। साथ ही बड़ी संख्या में पश्चिमी देशों से उन्हें भारी मात्रा में टैंकों की आपूर्ति भी की जा रही है। ऐसे में यूक्रेन के टैंकों की संख्या में वृद्धि होने का अनुमान है। थिंक-टैंक के अध्यक्ष जॉन चिपमैन ने कहा कि क्रेमलिन आधुनिकीकरण के प्रयास इस युद्ध के बावजूद रूस के लिए एक राजनीतिक और सैन्य विफलता है। जोकि इसके गोला-डायमाइट की कमियों के साथ नेतृत्व में कमियों को भी उजागर करता है। द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार पिछले एक साल में रूस के कारवाइयों ने न केवल अपने सैन्य और वरिष्ठ सैन्य नेतृत्व की क्षमता पर सवाल उठाया है, बल्कि कमान सामंजस्य पर भी विचार किया है। थिंकटैंक के आंकड़े बड़े पैमाने पर उपग्रह, उपग्रह और युद्ध के मैदान से ओपन तस्वीरें पर आधारित हैं। ये आंकड़े युद्ध की शुरुआत से लेकर नवंबर के अंत तक हैं।

रूस के काम में टी-73 बी 3 को भारी नुकसान हुआ है

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रूस की सेना में टैंकों की संख्या 2,927 से 1,800 से 38 प्रतिशत कम हो गई है, जबकि इसके वर्कहॉर्स टी-72बी3 को विशेष रूप से भारी नुकसान हुआ है, जो 2013 में पहली बार सेना में कमी आई थी। चिपमैन ने कहा, युद्ध के मैदान पर भारी नुकसान का मतलब है कि रूस ने टैंक और संबंधित संस्करण के पूर्व आक्रमण बेड़े के लगभग 50 प्रतिशत टैंकों को खो दिया।

मास्को के इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन ने उन्हें अपनी पुरानी बहुत अधिक गारंटियों के लिए मजबूर किया। रूसी अति आशावाद का मतलब था कि युद्ध की शुरुआत में उसे भारी टैंक क्षति का सामना करना पड़ा, विशेष रूप से कीव पर विफल हमलों में, जहां बड़ी संख्या में टैंक और एक काफिले में चलते हुए बड़े पैमाने पर राजधानी के उत्तर में तैरते हुए विनाश किया। कर दिया गया था। हमलों से घबराने पर कई अन्य टैंक ट्रैक्टरों द्वारा पकड़ लिए गए या खींच लिए गए।

यह भी पढ़ें…

प्रधानमंत्री मोदी ने स्पेन के प्रधानमंत्री की बात, उद्योग और व्यापार के क्षेत्र में दोनों देश नया इतिहास लिखेंगे

फिर मंडराया यूक्रेन के दोनेत्स्क, लुहांस्क और खेरसॉन व जापोरिज्जिया पर खतरा, रूस की सेना हावी हो रही है

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss