13.1 C
New Delhi
Monday, March 4, 2024

Subscribe

Latest Posts

14 अक्टूबर को “रिंग ऑफ फायर” वार्षिक सूर्य ग्रहण: वह सब कुछ जो आप जानना चाहते हैं – टाइम्स ऑफ इंडिया


“रिंग ऑफ फायर” 14 अक्टूबर, 2023 को होने वाला एक वार्षिक सूर्य ग्रहण है। यह खगोलीय घटना शौकिया आकाश पर नजर रखने वालों और पेशेवर खगोलविदों दोनों के लिए बहुत महत्व रखती है। इस ग्रहण का पूरी तरह से आनंद लेने के लिए, सही समय पर सही जगह पर होना महत्वपूर्ण है। ग्रहण के दौरान, सूर्य के बाहरी वातावरण का निरीक्षण करना संभव है, जिसे कोरोना के रूप में जाना जाता है, जो आमतौर पर सूर्य की तीव्र चमक से अस्पष्ट होता है। यह विशेषज्ञों को मूल्यवान डेटा इकट्ठा करने का एक उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है।

सूर्य ग्रहण तब घटित होता है जब चंद्रमा अपने सबसे दूर बिंदु पर होता है धरती सूर्य के साथ संरेखण के दौरान। इस दूरी के कारण, चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से अवरुद्ध नहीं कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप आंशिक ग्रहण होता है और विशिष्ट “रिंग ऑफ फायर” प्रभाव होता है। सूर्य ग्रहण को सीधे देखते समय आंखों की उचित सुरक्षा का उपयोग करना आवश्यक है, जैसे ग्रहण चश्मा या सौर दर्शक, क्योंकि पर्याप्त आंखों की सुरक्षा के बिना सूर्य को देखने से नुकसान हो सकता है।

यहां हम आगामी “रिंग ऑफ फायर” ग्रहण के मुख्य विवरणों पर प्रकाश डालेंगे, जिसमें इसका मार्ग, समय, सुरक्षा सावधानियां और इस उल्लेखनीय खगोलीय घटना का अधिकतम लाभ कैसे उठाया जाए।

सूर्य ग्रहण क्या है?
सूर्य ग्रहण एक दुर्लभ खगोलीय घटना है जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है और हमारे ग्रह पर अपनी छाया डालता है। 14 अक्टूबर को जो होगा वह आंशिक सूर्य ग्रहण होगा। आंशिक सूर्य ग्रहण में, चंद्रमा सूर्य के प्रकाश के केवल एक हिस्से को अवरुद्ध करता है, जिसके परिणामस्वरूप आकाश में आंशिक अंधेरा छा जाता है। इस प्रकार का ग्रहण अधिक सामान्य है और इसे व्यापक भौगोलिक क्षेत्र से देखा जा सकता है।


‘रिंग ऑफ फायर’ कब होगा?

इस वर्ष का सूर्य ग्रहण 14 अक्टूबर को निर्धारित है। इस घटना के दौरान, सूर्य चंद्रमा द्वारा आंशिक रूप से अस्पष्ट हो जाएगा, जिससे मंत्रमुग्ध कर देने वाला “रिंग ऑफ फायर” प्रभाव पैदा होगा।

कहां दिखाई देगा?
दुर्भाग्य से, “रिंग ऑफ फायर” भारत से दिखाई नहीं देगा। इस ग्रहण के दौरान चंद्रमा की छाया केवल उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के ऊपर से गुजरेगी।

देखने का सटीक समय
उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के लोगों के लिए, ग्रहण 14 अक्टूबर को रात 8:35 बजे IST और 15 अक्टूबर को 2:25 बजे IST पर होगा।

कहां देख सकते हैं ग्रहण?
हालांकि ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा, फिर भी आप इसे 14 अक्टूबर को शाम 4:30 बजे IST पर नासा द्वारा आयोजित लाइव स्ट्रीम के माध्यम से देख सकते हैं।

‘रिंग ऑफ फायर’ का ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व
पूरे इतिहास में सूर्य ग्रहणों ने संस्कृतियों को मोहित और प्रभावित किया है। दुनिया भर में लोग अक्सर इस अवसर को चिह्नित करने के लिए सभाओं, अनुष्ठानों या समारोहों का आयोजन करते हैं, जो इन दुर्लभ खगोलीय घटनाओं के सांस्कृतिक महत्व को रेखांकित करते हैं।

चंद्रयान-3: जैसे ही चंद्रमा फिर से अंधेरा हुआ, विक्रम लैंडर, प्रज्ञान रोवर हमेशा के लिए सो गए



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss