38.1 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

मोबाइल पर कॉल रिकॉर्डिंग करने को लेकर HC ने कहा- ये ‘निजता के अधिकार’ का उल्लंघन है


छवि स्रोत: पिक्साबे/प्रतिनिधि तस्वीर
मोबाइल पर कॉल रिकॉर्डिंग करना ‘निजता के अधिकार’ का उल्लंघन है

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट ने मोबाइल पर कॉल रिकॉर्डिंग करने को लेकर बड़ी बात कही है। हाई कोर्ट ने कहा कि संबंधित व्यक्ति की बिना बातचीत के बातचीत रिकॉर्ड में ‘निजता के अधिकार’ का उल्लंघन है। मृतक वैभव ए.गोवर्धन ने शनिवार को बताया कि छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय की एकल पीठ ने कहा है कि संबंधित व्यक्ति की ओर से बिना किसी टेलीफोन पर बातचीत के रिकॉर्डिंग के सिद्धांत 21 के तहत उनके ‘निजता के अधिकार’ का उल्लंघन है।

ये है मामला

हाई कोर्ट ने गुजरात के एक मामले में महासमुंद की पारिवारिक अदालत के उस आदेश को निरस्त कर दिया जिसमें प्रतीक चिन्ह के रूप में मोबाइल फोन की रिकॉर्डिंग का उपयोग करने की अनुमति दी गई थी। गोवर्धन ने बताया कि दादाजी (पत्नी) द्वारा गुजरात बोचा को सजा देने के लिए दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 125 के तहत आवेदन किया गया था, जो 2019 से परिवार न्यायालय महासमुंद के अधीन है।

गोवर्धन ने बताया कि स्ट्रॉबेरी ने संबंधित संबंधित साक्ष्य अदालत में पेश किए थे। दूसरी ओर, प्रतिवादी (पति) ने दादाजी (पत्नी) के चरित्र पर संदेह के आधार पर गुजराती भाईचारा से मना कर दिया। उन्होंने कोर्ट के समक्ष एक आवेदन दाखिल किया और कहा कि उनके मोबाइल फोन पर लिविंग की बातचीत रिकॉर्ड की गई है।

प्रतिवादी (पति) वह बातचीत का आधार अदालत के सामने जिरह करना चाहता है। कोर्ट ने उस आवेदन को स्वीकार कर लिया और मंजूरी दे दी। शैतान ने बताया कि स्ट्रॉबेरी ने 21 अक्टूबर 2021 को उस आदेश को खारिज कर दिया और उसे रद्द करने की प्रार्थना की।

उन्होंने बताया कि यूट्यूब की ओर से कहा गया कि यह उनके निजता के अधिकार का उल्लंघन होगा। उत्पाद विवरण यह आदेश बिक्री के निजता के अधिकार का उल्लंघन है। इसमें यह भी कहा गया है कि बिक्री की जानकारी के बिना प्रतिवादी द्वारा बातचीत रिकॉर्ड की गई थी, इसलिए इसका उपयोग इसके खिलाफ नहीं किया जा सकता है।

गोवर्धन ने बताया कि प्रतिवादी के कट्टरपंथियों ने कहा कि प्रतिवादी (पति) पति (पत्नी) के खिलाफ आरोप साबित करने के लिए साक्ष्य पेश करना चाहता है, इसलिए उसे मोबाइल फोन पर रिकॉर्ड की गई बातचीत को प्रस्तुत करने का अधिकार है। उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय में रॉबर्ट राकेश मोहन पांडे की एकल याचिका में पांच अक्टूबर 2023 को महासमुंद न्यायालय द्वारा सुनवाई के बाद 21 अक्टूबर 2021 को मामले को रद्द करने का आदेश दिया गया था। कोर्ट का मानना ​​है कि संबंधित व्यक्ति की बिना किसी बातचीत के विषय में संविधान के कथन 21 के तहत ‘निजता के अधिकार’ का उल्लंघन है। (इनपुट: भाषा)

ये भी पढ़ें:

दिल्ली: क्रिकेट वर्ल्ड कप से जुड़े सट्टेबाजी गिरोह का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार

‘अग्निवीर के रूप में सेना में भर्ती हुए शहीद अमृतपाल सिंह, फिर भी नहीं मिला सैन्य सम्मान’, कांग्रेस ने किया वीडियो पोस्ट

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss