25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

कार्यकुशलता में अतीक को जेल भिजवाने वाले रमाकांत हैं, फिर कभी बाहर माफिया नहीं पाया गया


छवि स्रोत: फ़ाइल
अतीक अहमद ने उस दिन यूनिवर्सिटी में खूब बवाल काटा था।

प्रयागराज: अजनबी अतीक अहमद की हत्या के बाद अब वह शख्स को देखता है जिसकी वजह से वह उसके पीछे लग गया था। हम बात कर रहे हैं प्रयागराज की एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के पीआरओ रमाकांत की। यह रमाकांत वही थे जिनके द्वारा दर्ज की गई शिकायत पर अतीक अहमद जेल गए और फिर कभी बाहर ही नहीं मिले। अब रमाकांत को डर है कि मौत के बाद उसके गुर्गे उनके खून के प्यासे हो जाएंगे।

एक छात्र का रस्टीकेशन से यह मामला है

अतीक अहमद ने प्रयागराज के कृषि कल्चर इंस्टीटूट में भी अपने रसूख का इस्तेमाल कई शिक्षकों और कॉलेज के अधिकारियों को कमरे में बंद करके किया था। यह मामला साल 2016 के 14 दिसंबर का है जब बेरोजगार अपने एक भरमार गुर्गों के साथ कॉलेज में भारी उत्पात मचाया था। दरसाल, अतीक अहमद के उम्र से बड़े लड़के कृषि विश्वविद्यालय के छात्र थे, लेकिन परीक्षा में नकल के आरोप में उन छात्रों को गलत ठहराया गया था। छात्रों का यह मामला लेकर अतीक के पास गया।

रमाकांत दुबे, रमाकांत दुबे अतीक अहमद, अतीक अहमद, अतीक अहमद नवीनतम

छवि स्रोत: फ़ाइल

अतीक अहमद को जेल भिजवाने वाले रमाकांत दुबे।

गुर्गों के साथ अतीक ने यूनिवर्सिटी पर बोला धावा
पहले अतीक ने फोन पर विश्वविद्यालय के अधिकारियों से छात्रों का रहस्य वापस लेने को कहा, लेकिन जब कॉलेज की ओर से सूचनाओं का हवाला देते हुए मना किया गया, तो बेरोजगारों ने अपने एक भरी हुई गुर्गों के साथ विश्वविद्यालय में दवा बोल दिया। विश्वविद्यालय के कैंपों में अतीक के गुर्गों को जो मिला हुआ उसका जीपीएस। उन्होंने वीसी के कमरे में जाकर यूनिवर्सिटी के पीआरओ रमाकांत दुबे के कमरे को बंद कर कई प्रचारों को मार डाला और जान से मारने की धमकी दी। उस समय अतीक के साथ उमेश पाल हत्याकांड के पांचों बमबाज गुड्डू मुस्लिम और साबिर भी मौजूद थे।

रामाकांत दुबे की एफआईआर पर कार्रवाई नहीं हुई थी
रमाकांत दुबे ने अतीक की गुंडई की एफआईआर भी कराई लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं हुआ। बाद में हाई कोर्ट ने फटकार के बाद पुलिस ने अतीक को गिरफ्तार कर नैनी जेल भेज दिया। उसके बाद से अतीक की जेल संभव हो रही थी और मुकदमों के फेहरिस्त बढ़ते गए लेकिन वह जेल से बाहर नहीं आ सका और रिमांड पर ही उसकी मौत हो गई। अतीक और अशरफ की हत्या के बाद अतीक और उनके गुर्गों पर मुकदमा दायर किए गए एग्रीकल्चर इंस्टीटूट के प्रो रमाकांत दुबे अब अल्पसंख्यक हैं।

रमाकांत दुबे, रमाकांत दुबे अतीक अहमद, अतीक अहमद, अतीक अहमद नवीनतम

छवि स्रोत: फ़ाइल

अतीक अहमद जेल जाने के बाद भी रमाकांत को धमकता रहता था।

अतीक ने जेल जाने के बाद भी धमकी दी थी
रमाकांत ने कहा कि अतीक की मौत के बाद उसके गुर्गे और खूंखार हो जाएंगे और उसकी मौत भी हो सकती है क्योंकि उसी मामले में उसे जेल हुई और वह बाहर नहीं मिला। एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में अतीक की गुंडई के सीसीटीवी में भी रिकॉर्ड हो गया था। रमाकांत द्वारा प्राथमिकी की बात पता चलने के बाद अतीक ने उन्हें टेलीफोन पर धमकते हुए कहा था कि अभी तक मार ही कहीं है। जेल जाने के बाद भी अतीक मामलों में पैरवी नहीं हुई और गवाही देने के लिए उन्हें धमकाया नहीं गया। रमाकांत ने कहा कि अगर उनकी सुरक्षा नहीं मिली तो वह कभी भी अतीक के गुर्गों का शिकार हो सकते हैं।

इंडिया टीवी पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी समाचार देश-विदेश की ताज़ा ख़बरें, लाइव न्यूज़फॉर्म और स्पीज़ल स्टोरी पढ़ें और आप अप-टू-डेट रखें। नेवस इन हिंदी उत्तर प्रदेश सत्र के लिए क्लिक करें



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss