29.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

रजत शर्मा का ब्लॉग | दरिसा कांड के गनगारों को सख्त से सख्त सजा दें योगी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
इंडिया टीवी के पहलू एवं-इन-चीफ रजत शर्मा।

उत्तर प्रदेश में डेयरी देहात की मैथा तहसील के मड़ौली गांव में सोमवार को बेदखली की कार्रवाई के दौरान एक मां और बेटी की मौत की नृशंस घटना के दौरान देश के लोगों पर जबरदस्ती बोझ बना दिया गया है।

झोपड़ी को सरकारी बुलडोजर से बचाने के लिए दोनों गली के खुद को अंदर बंद करने, झोपड़ी में अचानक आग लगने और जलती झोपड़ी पर बुलडोजर चलने का वीडियो देखकर लोगों का दिल दहल गया। यह सब कुछ बुलेटिन, महिला कांस्टेबल, तहसीलदार, लेखपाल और एसडीएम की मौजूदगी में हुआ।

यह झोपड़ी कृष्ण गोपाल दीक्षित की थी जो इस घटना में बुरी तरह जख्मी हो गए, जबकि उनकी पत्नी प्रमिला (41 वर्ष) और बेटी नेहा (21 वर्ष) की आग में जलकर मौत हो गई। वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि प्रमिला उनकी झोपड़ी गिरने आईं सरकारी अमले का विरोध करती हैं और फिर अपनी बेटी के साथ झोपड़ी के अंदर चली जाती हैं। इसके बाद पुलिसवाले झोपड़ी का दरवाजा तोड़ देते हैं और इसी दौरान आग लग जाती है। दीक्षित और उनका बेटा शिवम जलती हुई झोपड़ी से किसी तरह बाहर निकलने की तैयारी कर रहे हैं। प्रमिला और उनकी बेटी अंदर ही अंदर फंस जाती हैं और तभी झोपड़ी के बचे-खुचे हिस्से पर भी बुलडोजर चल जाता है। यह तेरह लेखपाल द्वारा दाखिल शिकायत के आधार पर कहा गया था कि झोपड़ी ग्राम सभा की जमीन पर बनी थी।

यह किसी को नहीं आसान की झोपड़ी में आग लगाती है। वीडियो में एक अधिकारी की आवाज सुनाई दे रही थी जो बुलडोजर के ड्राइवर को आगे बढ़ने और झोपड़ी को गिरने के लिए कह रहे थे। यह झोपड़ी सिर्फ एक महीने पहले ही एक पक्के घर की जगह बनाई गई थी जिसे स्थानीय अधिकारियों ने तुड़वा दिया था। परिवार का दावा है कि उनका घर पुश्तैनी जमीन पर बना है।

चश्मदीदों का कहना है कि एक्शन के दौरान आर्टिकल ने ही झोपड़ी में आग भड़काई थी। घटना के बाद आग भड़कती देख लेखपाल, एसडीएम और उनके साथ आए दूसरे सरकारी कर्मचारी पोस्टर से भाग लिए।

मामला बिगड़ने के बाद यूपी सरकार के वरिष्ठ अधिकारी मड़ौली गांव पहुंच गए। दिसंबर मंडल के आयुक्त राजशेखर, एडीजी आलोक कुमार और नगर निगम देहात के एसपी बीएस मूर्ति सहित सभी बड़े अधिकारी मड़ौली गांव गए और लोगों को शवों का दाह संस्कार करने के लिए मनाने की कोशिश की। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने प्रमिला के बेटे से फोन पर बात की और सभी अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई का वादा किया। आखिरकार बुधवार की सुबह शवों का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

दिसरस मंडल के आयुक्त राजशेखर के मुताबिक, मैथा तहसील के एसडीएम ज्ञानेश्वर प्रसाद को सस्पेंड कर दिया गया है, जबकि बुलडोजर के ड्राइवर दीपक कुमार और लेखपाल अशोक सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने एसडीएम, लेखपाल, रुरा थाने के थानाध्यक्ष दिनेश कुमार गौतम, 3 अन्य अधिकारियों, 12 से 15 नई नई दिल्ली और 3 स्थानीय निवासियों (सभी ब्राह्मणों) के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 307 (हत्या का प्रयास), 436, 429 और 34 के तहत FIR दर्ज की जाती है।

राज्य मंत्री प्रतिभा शुक्ला ने इस दुखद घटना के लिए DM नेहा जैन को सीधे तौर पर जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने और प्रमिला के बेटे शिवम दीक्षित ने कहा कि परिवार के लोगों ने जनवरी में डीजे से मिलने की कोशिश की थी, लेकिन उन्होंने अपनी दलीलें सुनने से इनकार कर दिया और मुख्य अधिकारियों ने उनके खिलाफ ही मामला दर्ज करने को कह दिया। शिवम ने कहा, ‘यह बेदखली का मामला नहीं था, बल्कि पूरे परिवार की हत्या करने की एक सोची समझी साजिश थी।’

जिस दिन गांव में हाहाकार मचा हुआ था, उस दिन डीएम दादरी महोत्सव के मंच पर झूमकर नाच रही थीं। राज्य मंत्री प्रतिभा शुक्ला ने सीएम को ‘अस्पष्ट’ कहा।

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने दिसरिस की घटना को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। समाजवादी पार्टी के नेताओं को पुलिस ने गांव जाने से रोका। वे मौजूदा सरकार को ‘ब्राह्मण विरोधी’ करार देते हुए आरोप लगाते हैं कि राज्य सरकार के दावों को बचाने की कोशिश कर रही है।

कांग्रेस के नेता फर्ग्यूअल गांधी ने अपने ट्विट में कहा, ‘बीजे सरकार के बुलडोजर ने अमानवीयता की आंखों पर चोट के लिए खतरा बना दिया। ददरी की हृदयविदारक घटना की जितनी निंदा की जाए कम से कम करें। हम खिलाफ इस अमानवीयता की आवाज उठाएंगे। करण के पीड़ित परिवार को न्याय मिले एवं दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो।’

उनके भाई राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘जब सत्ता के घमंडी लोगों को जंगल का अधिकार छीन लिया गया, उन्हें तानाशाही कहते हैं। शनिवार की घटना से मैन अलर्ट है। ये ‘बुलडोजर पॉलिसी’ इस सरकार की क्रूरता का चेहरा बन गई है। भारत को ये स्वीकार नहीं है।’

एक परिवार के दो महिलाएं जिंदा जल गईं, लेकिन राजनीतिक दल लाशों की जाति देख रहे हैं, इससे ज्यादा दुखद बात और कोई नहीं हो सकता। यह निहायत घटिया दृष्टिकोण है।

हमें इस मामले की भ्रांतियां होंगी। पहली बात यह है कि जिस परिवार की झोपड़ी पर बुलडोजर चला, वह ब्राह्मण परिवार है। दूसरी बात यह है कि जिस शख्स पर पीड़ित परिवार की हत्या का इल्जाम लग रहा है, जिसकी शिकायत पर यह सब हुआ, वह भी ब्राह्मण है। ऐसे में इसे ब्राह्मणों पर जुल्म कैसे करार दिया जा सकता है? जब दोनों ब्राह्मण हैं तो जाति का सवाल कहां आता है? इस तरह से छोटे स्तर के अधिकारियों को पूरी तरह से भगत, घूसखोरी, अमानवीय व्यवहार और सरकारी पद और उनकी शक्तियों के नशे का मामला है।

एक शख्स ने शिकायत की, आर्टिकलपाल ने अपने साथ मिलकर एक परिवार की झोपड़ी पर बुलडोजर चलाया, जिससे आग भड़क उठी। इसमें स्थानीय पुलिस की भी भगत है, क्योंकि वह तमाशा रही रही है। इसमें एसडीएम भी जिम्मेदार हैं क्योंकि वे सिर्फ कागजी कार्रवाई की और दिखावे पर मौजूद हैं भी तमाशा देखते हैं।

इस मामले में संदेश भी निर्दोष नहीं हैं। एक महीने पहले पीडि़त परिवार डीएम के पास फरियाद लेकर आया था, लेकिन उन्होंने उसे यहां से भी उपहास दिया। इसके बाद लेखपाल ने इसी परिवार के खिलाफ मामला दर्ज कराया, परिवार को भूमाफिया बताया। जिस परिवार के पास छत नहीं थी, जायदाद के नाम पर 22 बकरियां थीं, उसे भूमाफिया बताया गया। बड़े-बड़े विवरण रहे हैं। जाहिर है, इससे लेखपाल की निराशा मिली और वह बन गई। इसलिए एक्शन तो हर किसी को होना चाहिए। मुझे पूरा यकीन है कि योगी आदित्यनाथ इस मामले में जल्दी से जल्दी और सख्त से सख्त कार्रवाई जरूर करेंगे। (रजत शर्मा)

देखें: ‘आज की बात, रजत शर्मा के साथ’ 14 फरवरी, 2022 का पूरा एपिसोड

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss