36 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

रजत शर्मा का ब्लॉग: हमास-इजरायल युद्ध, ‘दुनिया के दो हिस्सों में बंटवारा है’


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
इंडिया टीवी के एनालॉग एवं एसोसिएट-इन-चीफ रजत शर्मा।

इज़रायल और हमास के बीच जंग ने पूरी दुनिया को दो विचारधाराओं में बाँट दिया है। गाजा में जंग के मैदान में मौजूद टीवी पत्रकार अमित पालित ने बताया कि इजरायल की 1 लाख की फौजी भी गाजा में घुस सकते हैं। 3 लाख 60 हजार फौजी रिजर्व रखे गए हैं। 300 टैंक गाजा सीमा तक पहुंच गए हैं। इंतजार है इंटेलीजन्स की मंजूरी का, इजराइल की फौजदारी किसी जाल में नहीं फंसना चाहती है, ये पक्का करना होगा कि हमास ने बारूदी सुरंगें तो नहीं ढूंढी हैं। इज़रायल गाजा की आम जनता हमलों से भी बचना चाहती है। इज़रायल ने फिलीस्तीनी लोगों को गा सिटी ठीक करने का निर्देश दिया है लेकिन हमास ने गाजा के लोगों से कहा है कि वो अपने घर को न छोड़ें। हमास ने दावा किया है कि इजरायल की बमबारी में 13 इजरायली नागरिकों की भी मौत हो गई है जो हमास के कब्जे में थे लेकिन इजरायल ने साफ कर दिया कि जब तक हमास का नामोनिशान नहीं रहेगा तब तक युद्ध नहीं रुकेगा। इजराइली वायु सेना की बमबारी में गाजा पट्टी पर हजारों लोगों की मौत हो गई है। दूसरी बड़ी बात ये है कि पुरी दुनिया में शुक्रवार को हमास के समर्थक मुस्लिम आरोपियों ने प्रोटेस्टेस्ट किया। जॉर्डन, लीबिया, ईरान के अलावा फ्रांस में बड़ी संख्या में मुस्लिम हमास के समर्थन में सप्ताहांत पर निकले। हालाँकि फ्रांस और ब्रिटेन की सेनाओं ने हमास के समर्थन में किसी भी तरह के प्रदर्शन पर रोक लगा दी है। लंदन में सभी यहूदी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। खास बात ये है कि हमारे देश में भी ज्यादातर मस्जिदों में जुमे की नमाज के बाद हुई तकरीरों में हमास के समर्थन में नारा लगा। कई शहरों में हमास के समर्थन में प्रदर्शन हुए। लेकिन नोट करने की बात ये है कि हमास के इजराइल के खिलाफ एक्शन को लेकर अब दुनिया दो विचारधाराओं में बंट गई है।

अमेरिका, भारत और यूरोपीय देश पूरी तरह से इजराइल के साथ हैं, लेकिन रूस, ईरान, इराक, लेबनान और दूसरे मुस्लिम देश हमास के साथ हो गए हैं। यूरोपीय संघ ने दिल्ली में जी20 संसदीय शिक्षकों के सम्मेलन में इजराइल-फिलस्टिन का उत्थान किया। ईयू ने कहा कि हमास को राजनीतिक और आर्थिक समर्थन बंद करना चाहिए। प्रधानमंत्री मोदी ने साफ कर दिया कि घुड़सवारी दुनिया में कहीं भी हो, किसी भी रूप में हो, उनका समर्थन नहीं किया जा सकता, घुड़सवारी को मजहब से देखना ठीक नहीं है। लेकिन रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर ग्रैट्रिल ने कहा है कि इजराइल के दावे में आम लोगों को नुकसान हुआ है और आम लोगों को जो नुकसान हुआ है, उसे नजरअंदाज नहीं किया जाएगा। तेल अवीव क्षेत्र अमेरिका के रक्षा मंत्री ने कहा कि अमेरिका हमास को तोड़ने के लिए इजराइल के अभियान में पूरी तरह से उसके साथ है क्योंकि हमास ने बेगुनाह इजराइली नागरिकों का विनाश किया है। इजराइल ने हमास पर इतने बड़े पैमाने पर हमला क्यों किया?

इसके बारे में मैंने कई बिंदुओं से बात की। असल में इजराइल ने ये दावा किया है कि ईरान और हमास ने मिलकर इजराइल का निजीकरण खत्म करने का प्लान बनाया था और एक तरह से हमास ने इजराइल को एक बड़ा झटका दिया था। पहली बार इजराइल की ओर से विक्टोरा को भी झटका लगा क्योंकि उसकी तैयारी में कमी नजर आई। अब इजराइल, ईरान और हमास एक तरह से पूरी दुनिया को दिखाना चाहते हैं कि उसकी सेना ताकत हासिल कर रही है और वो गाजा पर कब्जा करने में सक्षम है। कुछ हद तक इजराइल की बात भी सही है क्योंकि इजराइल में सैन्य ताक़त और रहस्य के मामले में रुकावट बहुत मजबूत है और उसकी ताकत में बहुत वृद्धि हुई है क्योंकि उसके पास पश्चिमी देशों का, अमेरिका का पूरा समर्थन है। मैं इस बात को लेकर इस बात पर चर्चा कर रहा हूं कि क्या ईरान और हमास दोनों जानते थे कि इजरायल ने उन्हें जवाब दिया था तो क्या हमास ने इजरायली नागरिकों की इतनी ही गहराई से हत्या करने की हिमा क्यों की? सभी का यही कहना है कि ईरान और हमास के बीच इस बात को लेकर काफी नाराजगी थी कि इजराइल और सऊदी अरब के बीच रिश्ते में सुधार हो रहा है। अमेरिका की कोशिश से सऊदी और इजराइल के बीच एक शांति समझौता साइन होने वाला था। अगर ये हो सकता है तो खाड़ी के देश और इजरायली संयुक्त राष्ट्र ईरान को झटका दे सकते हैं और ईरान को लगता है कि इस क्षेत्र में अमेरिका की ताकतें और बढ़ेंगी। फिलिस्तीन के समर्थक लेकर, इजराइल पर इस तरह का हमला किया गया। लेकिन मेरा मानना ​​है कि ईरान की यह योजना विफल हो गई है।

ये बात तो समझ लीजिए कि हमास के खिलाफ गाजा में जिस तरह की कार्रवाई इजराइल ने की है। इस समस्या का समाधान नहीं निकल पाएगा, इजरायल ने अपनी ताकत दिखाई, बात ये है कि इस जंग की वजह से अरब शांति पहल एक बार फिर से जरूरी दूसरी होगी। सऊदी और असामी इसराइल के साथ देते हैं नजर, कम से कम उसके खिलाफ नहीं होगा। नोट करने वाली बात ये है कि पूरी दुनिया में कई जगह हमास के समर्थन में प्रदर्शन हो रहे हैं लेकिन सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात के मुजाहिरों में कहीं कोई आवाज नहीं उठी। जुमे की नमाज के बाद अपने खुतबे में मौलानाओं ने जो कुछ कहा, उसे सुनाना डूब गया। जंग के खिलाफ मजहब के खिलाफ लड़ाई में आम लोगों को बहकाना खतरनाक है। ये न दुनिया के अमन चैन के लिए अच्छे हैं और न ही किसी मुस्लिम के लिए।

हमास ने इजराइल में छोटे छोटे मासूम बच्चों का गला काट दिया, 14-15 साल के बच्चों के हाथ पैर बांध कर उन्हें बम से उड़ा दिया, महिलाओं के साथ बलात्कार कर उन्हें फिर मार डाला, मृतकों के कपड़े सड़क पर खींचकर फेंक दिए, पुरुषों उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उनके शव को दफना दिया गया। इस्लाम इसका इज़ाज़त क्या देता है? क्या ये इस्लाम की तालीम के ख़िलाफ़ नहीं हैं? क्या कोई मुसलमान इस तरह के शिपमेंट का समर्थन कर सकता है? लेकिन हमास की इस हैवानियत की तरफ से आंखे फेरकर इजराइल के एक्शन को उपन्यास पर हमला करने वाले एक कलाकार के उपन्यास को बिगाड़ा जा रहा है। आमपसंद लोग इसे कभी नहीं भूलेंगे। जो लोग इस मुद्दे पर इजराइल के साथ जुड़े हुए हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध कर रहे हैं, उनका मकसद भी यही है। क्योंकि मोदी ने साफ-साफ कहा है कि आतंकवाद का कोई मजहब नहीं होता, आतंकवादी मानवता का दुश्मन है। ट्राइगार्डी का बोस मिल कर मुकाबला करना चाहिए। (रजत शर्मा)

देखें: ‘आज की बात, सिल्वर शर्मा के साथ’ 10 अक्टूबर, 2023 का पूरा एपिसोड

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss