29.1 C
New Delhi
Friday, June 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

रजत शर्मा का ब्लॉग | अडानी: SC की सलाह पर विशेषज्ञ पैनल का गठन एक स्वागत योग्य कदम


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
इंडिया टीवी के पहलू एवं-इन-चीफ रजत शर्मा।

सरकार ने सोमवार को अडानी ग्रुप के शेयर के शेयर में गिरावट के मद्देनजर शेयर बाजार के फैसले तंत्र को मजबूत करने के तरीके तय करने के लिए बहुमत की एक समिति बनाने के सर्वोच्च न्यायालय के सुझाव को स्वीकार कर लिया।

केंद्र और सेबी की तरफ से लिसिटार जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में कहा कि सरकार इस सप्ताह एक सीलबंद लिफाफे में अपने कार्यक्षेत्र के बारे में जानकारी देगी।

मेहता ने चीफ जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता पीठ की पीठ से कहा, ‘हम एक सील बंद लिफाफे में समिति में शामिल किए जा वाले जा सकते थे कुछ बहुमत के नाम। कुछ नाम सुप्रीम कोर्ट को सही लग सकते हैं और कुछ नहीं। लेकिन याचिकाकर्ता इन नामों के बारे में न तो चर्चा करें और उनका विरोध करें। कोर्ट इस लिस्ट में से नामों का चुनाव कर सकता है।’ उन्होंने कहा, इस तरह का कोई ‘गलत’ संदेश नहीं दिया जाना चाहिए कि बाजार के रिकॉर्ड मामले को संभालने में सक्षम नहीं है, क्योंकि इससे घरेलू और अंतरराष्ट्रीय से देशों में आनेवाली पूंजी पर गलत प्रभाव पड़ सकता है।

इसके बाद कोर्ट ने ‘लिंक्स को नुकसान पहुंचाया’ और अडानी ग्रुप के स्टॉक को ‘कृत्रिम तरीके से गिराने’ संबंधी दो जनहित याचिकाओं पर शुक्रवार (17 फरवरी) को सुनवाई करने का निर्देश दिया।

कांग्रेस ने तुरंत प्रतिक्रिया दी। पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘आज सुप्रीम कोर्ट में सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि अडानी पर हिंडनबर्ग रिपोर्ट की जांच के लिए एक समिति बनाने पर सरकार को कोई आपत्ति नहीं है, तो फिर वह एक संयुक्त आयोग समिति के गठन से क्यों भाग रहा है, जिस तरह से भी बीजेपी और उसके सहयोगियों का ही समूह होगा? लेकिन क्या प्रस्तावित समिति हिंडनबर्ग या अडानी की जांच करेगी?’ कांग्रेस सांसद रंजीत रंजन ने कहा, अब यह साफ हो गया है कि सरकार संसद को बायपास करके सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की बात कह रही है। उन्होंने कहा, ‘हम जेपीसी की अपनी मांग पर कायम हैं।’

2,000 किलोमीटर से भी ज्यादा दूर केरल के वायनाड में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक सभा को संबोधित करते हुए एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री को लगता है कि वह बहुत ताकतवर हैं और लोग उनसे डर जाएंगे।’ उन्हें इस बात का एहसास नहीं है कि नरेंद्र मोदी उनके आखिरी शख्स हैं, इसलिए मैं डरता हूं। एक दिन उन्हें अपनी संभावनाओं का सामना करना ही होगा।’

राहुल गांधी ने कहा, कल अपने भाषण के कुछ हिस्से हटा दिए गए, जबकि उन्होंने किसी का अपमान नहीं किया था। उन्होंने कहा, ‘मुझसे कहा कि आपने संसद में जो कुछ कहा उसके सुबूत, तो मैंने वक्ता को चिट्ठी लिखी है। मैं जितनी भी बातें संसद में कहता था, उनके समर्थन में सुबूत भी भेजे जाते हैं। लेकिन मुझे उम्मीद नहीं है कि मेरी कुछ बातों को रिकॉर्ड में रखने की अनुमति मिल जाएगी। मगर, उसी संसद के प्रधानमंत्री ने सीधे तौर पर मेरा अपमान किया, लेकिन उनका रिकॉर्ड नहीं हटाया गया। उन्होंने कहा कि आपका नाम गांधी क्यों है, नेहरू क्यों नहीं। सत्य हमेशा सामने आ जाता है।… आपको बस करना ये है कि आप देखिए कि जब मैं बोल रहा था तब मेरा चेहरा कैसा था, और जब वह बोल रहे थे तो उनकी शक्ल जैसी थी। आपने ध्यान दिया कि वे कितनी बार पानी पिया और उनके हाथ किस तरह कांप रहे थे।

सदस्यों ने एक बार फिर मोदी और अडानी का नाम लेकर सोमवार को संसद में रोक जारी रखी। कांग्रेस के सांसदों ने मल्लिकार्जुन खरगे के भाषण के कुछ हिस्सों को जाने को फाइल बनाया, जबकि कांग्रेस ने कोहली गांधी को प्रिविलेज मोशन का नोटिस मिलने को लेकर शोर मचाया।

बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने प्रस्तावना संबंधी नोटिस देने के आरोप लगाए कि न तो राहुल गांधी ने मोदी के खिलाफ अपने आरोपों को प्रमाणित किया और न ही उन्होंने पीएम के खिलाफ आरोप लगाने से पहले आरोप लगाया, जो तब सदन में मौजूद नहीं थे, वक्ता की इज़ाज़त ली। उन्होंने कहा, यह प्रोजेक्ट प्रोजेक्ट नियमावली के नियम 353 के खिलाफ है।

राहुल गांधी ने 15 फरवरी तक नोटिस का जवाब देने के लिए कहा। केंद्रीय मंडल कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि चाहे जो भी हो, सत्ता पक्ष हटेगा नहीं, क्योंकि राहुल गांधी बार-बार बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं।

विशेषाधिकार हनन विशुद्ध रूप से एक तकनीकी और सीमाबद्ध है। इस पर बहस भी होगी, विवाद भी होगा, और वक्त भी दिखेगा। संसद के सत्र के बजट का अगला चरण अब 13 मार्च के बाद शुरू होगा, इसलिए अभी न अडानी का नाम सुना जाएगा, और न ही हिंडनबर्ग के नाम पर हुक लगेगा।

राहुल गांधी संसद के बाहर अपनी पूरी पूरी पुरानी बातें दोहराएंगे। वह कहती है कि ‘मोदी शामिल हैं और मुझे किसी का डर नहीं है।’ राहुल कह सकते हैं, ‘मोदी ने अडानी को सारे बड़े बड़े ठेके दे दिए’, लेकिन तथ्य यही है कि ऐसी बातें वह पिछले 8 साल से कह रहे हैं। अब मार्केट गिरने के बाद राहुल गांधी को उम्मीद थी कि सुप्रीम कोर्ट अडानी के मामले की जांच के आदेश देगा। इससे सरकार को मुश्किलें जितनी पड़ सकती थीं। लेकिन अकेला हो गया।

सर्वोच्च न्यायालय को अडानी की चिंता नहीं है। उसके साथ पैसे की चिंता है। सरकार का दावा है कि उनका रेगुलेटरी मैकेनिज्म ठीक है, इससे कोई नुकसान नहीं होगा। इसके बावजूद जब सुप्रीम कोर्ट ने पूछा तो सरकार ने बहुमत की एक समिति बनाने का फैसला किया। मुझे लगता है कि ये समिति सरकार को बताएगी कि व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए और क्या किया जाए, लेकिन राहुल गांधी आपका इलजाम कायम रखेंगे। (रजत शर्मा)

देखें: ‘आज की बात, रजत शर्मा के साथ’ 13 फरवरी, 2022 का पूरा एपिसोड

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss