37.1 C
New Delhi
Tuesday, July 16, 2024

Subscribe

Latest Posts

राजस्थान के मुख्यमंत्री के बेटे वैभव वैभव ईडी का सामने आया पेशी, पढ़ें पूरा केस


छवि स्रोत: पीटीआई
वैभव वैभव ने दिल्ली में धोड़े के साथ दी हाजिरी

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक अंबानी के बेटे के वैभव वैभव विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) से संबंधित मामले में पूछताछ के लिए सोमवार को दिल्ली स्थित निदेशालय निदेशालय (ईडी) के कार्यालय में पेश किया गया। फ़ेडरल एजेंसी ने 43 वर्ष वैभव को फ़ेमा के स्वामित्व के तहत समन जारी कर उन्हें ए पी जे अब्दुल कलाम रोड पर स्थित पीएचडी के मुख्यालय में पेश करने को कहा था। वैभव राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष और अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (AICC) के सदस्य भी हैं। उन्होंने समन जारी करते हुए कहा था कि उनकी एजेंसी के खिलाफ ”10-12 साल पुराने मामले में गैंगस्टर का आरोप लगाया गया है और वह भी चुनाव की तारीख के बाद घोषित होंगे।”

वैभव वैभव ने क्या कहा?

कुल 200 सीट वाली राजस्थान विधानसभा के लिए मतदान 25 नवंबर को होगा। राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में तीन दिसंबर को होगी। एजेंसी ने फेमा के तहत काम किया वैभव वैभव का बयान दर्ज किया गया, जो कानूनी कार्रवाई की प्रकृतिवादी है। वैभव ने एक घंटे की छुट्टी के लिए दो घंटे का भोजन किया, ताकि वह अपने ऑफिस से बाहर आ सकें और स्कूल से कह सकें, ”मेरे और मेरे परिवार का फ़ेमा या विदेशी से कोई लेना-देना नहीं है… मुझे समान के तहत समझाओ” पेश करने के लिए कम समय दिया गया। मैंने 15 दिन का समय मांगा था… मुझे वोट और समय देना चाहिए था।”

वैभव वैभव से जुड़ा मामला क्या है?
इस समन का संबंध राजस्थान स्थित आतिथ्य क्षेत्र से जुड़े समूह ‘ट्राइटन होटल्स एंड रिसॉर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड’, ‘वर्धा इंटरनैशनल प्राइवेट लिमिटेड’ और इसके निदेशक एवं प्रमोटर शिव शंकर शर्मा, रतन कांत शर्मा और अन्य के खिलाफ प्रभावशाली रेस्तरां के हाल में छापे गए से है. एजेंसी ने अगस्त में 3 दिनों तक जयपुर, यूके, मुंबई और दिल्ली में ग्रुप और उसके प्रोमोटर से जुड़े सेक्टरों पर हमले किए थे। उन्होंने तथ्यों के दौरान ”अपत्तिजनक” दस्तावेजीकरण का दावा किया था और आरोप लगाया था कि ट्राइटन ग्रुप ”सीमा पार निहितार्थ वाले लिया लेन-डेन में शामिल था।” एडी ने एक बयान में कहा था कि यह सिद्धांत बाद में वह 1.
2 करोड़ रुपये की ज़ब्ती की गई थी जो आय के ज्ञात स्रोत से अधिक थी और डिजिटल परिमाण, हार्ड डिस्क, मोबाइल आदि भी ज़ब्त किए गए थे। कहा गया था कि इस ”ग्रुप द्वारा बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया गया था, ऐसे लेन-देन को एलेब्लेट किया गया है, बाकी भी-खाते में रिकॉर्ड नहीं है।” हैं। रतन कांत शर्मा कार किराए पर देने वाली एक कंपनी में वैभव वैभव के व्यापारी हैं।

‘चुनाव आते ही हैं बीजेपी के ‘पन्ना प्रमुख’बन जाते हैं पीएचडी’
अशोक गौड़ और कांग्रेस ने ईडी के इस कदम को राजनीति से प्रेरित करना बताया है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने आरोप लगाया कि पीएचडी, अर्थशास्त्री और कृषि विभाग एजेंसी एजेंसी चुनाव में ही भाजपा के ‘पन्ना प्रमुख’ (पार्टी कार्यकर्ता) बन रहे हैं। खड़गे ने कहा, ”राजस्थान में अपनी हार निश्चित रूप से देखकर भारतीय जनता पार्टी ने अपना आखिरी दांव खेला है।” छत्तीसगढ़ के बाद अब राजस्थान में भी चुनावी प्रचार शुरू हो गया है और उन्होंने कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है. थाई और एक पत्रकार सम्मेलन में कहा गया था कि कांग्रेस ने 25 अक्टूबर को राजस्थान की महिलाओं के लिए मस्जिद की घोषणा की थी और कांग्रेस की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के नेतृत्व में वैभव और वैभव के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। ।।

यह भी पढ़ें-



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss