35.1 C
New Delhi
Wednesday, May 22, 2024

Subscribe

Latest Posts

पुणे कंपनी ने पकड़ा 1100 करोड़ का मेफेड्रॉन, हेरोइन से भी ज्यादा होता है नशा – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
पुणे टेलीकॉम कंपनी ने 1100 करोड़ का मेफेड्रॉन पकड़ा।

पुणे: पिछले दो दिनों से पुणे पुलिस क्राइम ब्रांच की टीम नशे के खिलाफ़ कॉन्स्टेबल अभियान चला रही है। इसी क्रम में पुणे कंपनी की टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है। दो दिनों में मोटोरोला कमांडो की टीम ने 1100 करोड़ रुपए से 600 कि.मी. की बड़ी मेफेड्रोन (मॉडल) जब्त कर ली है। वहीं, कंपनी की टीम द्वारा नशे के खिलाफ की गई इस कार्रवाई से पुलिस को बड़ी सफलता मिल रही है। इतनी बड़ी मात्रा में नशीले पदार्थ की चपेट में आने से पुलिस विभाग ने अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के हाथ में भी खतरा पैदा कर दिया है।

दो दिन तक चली कार्रवाई

पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कार्रवाई के संबंध में जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने बताया कि कंपनी की टीम ने दो दिनों में 1100 करोड़ रुपये कीमत का 600 किलो से ज्यादा का मेफेड्रोन मोर्टार जब्त कर लिया है। पुणे कंपनी की टीम द्वारा आज दूसरे दिन की कार्रवाई की गई। जिसमें मंगलवार को बिग ड्राइव कॉर्प्स की टीम ने 550 स्ट्रेंथ मेफेड्रोन स्टाम्प (मॉडिजिटल) जब्त कर ली है। यह कार्रवाई कुकुंभ सीनियर डीसी में एक केमिकल कंपनी की है। इस मामले में अनिल साबले नाम के मसाला मालिक को पुलिस ने सुबह डोंबिवली से हिरासत में ले लिया।

सोमवार को भी हुई थी कार्रवाई

वहीं पुणे पुलिस की कमांडर टीम ने सोमवार (19 फरवरी) को भी देर रात एक ऑपरेशन में 55 रैक मेफेड्रोन स्ट्रैटेजी (माउंटेन) को जब्त कर लिया था। इसके बाद कुकुंभ में एक केमिकल कंपनी पर कार्रवाई की गई, जहां से बड़ी मात्रा में एमडी लैपटॉप को जब्त कर लिया गया। पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि इस फैक्ट्री माफिया का क्या संबंध है। कंपनी ने सोमवार को तीन फैक्ट्री टीचर्स को गिरफ्तार किया था।

अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों का हो सकता है हाथ

बता दें कि यह गोरखधंधा नमक कंपनी का प्रारंभ होता है। पुलिस को संदेह है कि इसमें अंतरराष्ट्रीय शिक्षकों का हाथ है। पुलिस ने सोमवार शाम तक त्वरित जांच की और 55 ट्रैक मेफेड्रोन मोर्टार जब्त कर लिया। पुलिस ने यह कार्रवाई पुणे के विश्रांतवाड़ी इलाके के भैरवनगर में स्थित है। यह एक्शन पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार, संयुक्त पुलिस कमिश्नर क्राइम शैलेशकवड़े, पुलिस सहायक कमिश्नर क्राइम अमोल ज़ेंडे, पुलिस कमिश्नर क्राइम-1 सुनील कमिश्नर, सहायक पुलिस कमिश्नर क्राइम शैलेशकवड़े, सहायक पुलिस कमिश्नर क्राइम शैलेशकवड़े।

मेफ़ेड्रॉन क्या है?

बताएं कि मेफेड्रोन की कोई दवा नहीं है। इसका उपयोग सिंथेटिक खाद के रूप में किया जाता है। हालाँकि इसके सेवन से हेरोइन और कोकीन से भी सबसे ज्यादा नशा होता है। वहीं इन दोनों के गोदामों में यह काफी कम कीमत में मिल जाता है। इसी वजह से कि लोग इन नशे की चपेट में आ रहे हैं। इस गैजेट के सेवन से खास तौर पर शहर के युवा प्रभावित हो रहे हैं।

(पुणे से जैद मेमन की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें-

राष्ट्रीय राजधानी की घोषणा के बाद भी भूख हड़ताल खत्म नहीं होगी मनोज जरांगे, बताया कारण

राष्ट्रीय नागरिकता प्रमाण पत्र से पास, शिक्षा और सचिवालय में 10 प्रतिशत आरक्षण



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss