40.1 C
New Delhi
Thursday, May 30, 2024

Subscribe

Latest Posts

सर्दियों में उच्च रक्तचाप: बीपी के स्तर को प्रबंधित करने के संभावित कारण और तरीके


उच्च रक्तचाप: बहुत से लोगों को पहले से ही सर्दियों में अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने में कठिनाई हो रही है। विशेष रूप से गठिया, उच्च रक्तचाप आदि से पीड़ित लोगों को ऐसे मुद्दों की गंभीरता से निपटना मुश्किल होता है। जब बाहर ठंड होती है तो हममें से अधिकांश लोग घर में रहना पसंद करते हैं, जो शारीरिक रूप से सक्रिय होने की हमारी क्षमता को सीमित करता है।

खाद्य प्राथमिकताएं भी प्रभावित होती हैं, और यह देखा गया है कि सर्दियों के दौरान नमक और चीनी की खपत बढ़ जाती है। इन सभी तत्वों का हमारे सामान्य स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है। इस प्रकार गर्मी बनाए रखने और शरीर के तापमान को बनाए रखने के लिए रक्त प्रवाह बाधित होता है, जिससे रक्तचाप बढ़ जाता है।

ठंड के मौसम में रक्त वाहिकाएं और कोरोनरी धमनियां सिकुड़ जाती हैं। इसका परिणाम संकुचित रक्त प्रवाह, ऊंचा रक्तचाप और हृदय के लिए सीमित ऑक्सीजन की आपूर्ति में होता है। यह दर्शाता है कि सर्दियों का मौसम न केवल उच्च रक्तचाप को खराब करता है बल्कि दिल के दौरे और अन्य हृदय रोगों का खतरा भी बढ़ाता है।

ठंडी जलवायु के अलावा अन्य तत्व रक्तचाप को प्रभावित करते हैं। शरीर मौसम में अचानक बदलाव पर भी प्रतिक्रिया कर सकता है, जैसे तूफान या मौसम का मोर्चा। हवा, हवा के दबाव, बादलों के आवरण, या आर्द्रता में अचानक परिवर्तन से रक्त वाहिका का कार्य भी प्रभावित हो सकता है।

सर्दियों के उच्च रक्तचाप को रोकने के लिए टिप्स

– कोशिश करें कि अपने शरीर को जरूरत से ज्यादा तनाव में न डालें। इसमें गहन व्यायाम, भारी भारोत्तोलन आदि शामिल हैं।

– जब बहुत ठंड हो तो बाहर जाने से बचें, खासकर अगर हवा चल रही हो। इसका परिणाम हृदय के कार्यभार में अचानक परिवर्तन हो सकता है।

– यदि आप नहीं चाहते कि हृदय अधिक जोर से पंप करे तो आपको शरीर की गर्मी का संरक्षण करना चाहिए। उसके लिए परतों से गर्म रहें।

– बाहर निकलते समय दस्ताने, ऊनी टोपी या स्कार्फ और जूते पहनें। इससे शरीर के बाहर के तापमान का कितना हिस्सा कम होगा। शरीर को गर्म रखकर रक्तचाप में वृद्धि से बचा जा सकता है।

– कैफीन और शराब के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि ये शरीर की गर्मी के नुकसान को तेज करते हैं।

(अस्वीकरण: यह लेख सामान्य जानकारी पर आधारित है और किसी विशेषज्ञ की सलाह का विकल्प नहीं है। ज़ी न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है।)



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss