17.9 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

पीएम सुनक ने कहा-ब्रिटेन नहीं है नस्लवादी देश, मेरी गाथा भी ब्रिटिश कहानी


Image Source : AP
ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक और पत्नी अक्षता मूर्ति

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने बुधवार को पार्टी नेता के रूप में कंजरवेटिव पार्टी के अपने पहले सम्मेलन को संबोधित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री सुनक ने कहा कि ब्रिटेन एक नस्लवादी देश नहीं है और उनकी गाथा एक ब्रिटिश कहानी है। सुनक ने कहा कि ब्रिटेन एक नस्लवादी देश नहीं है और उनकी त्वचा का रंग कोई ‘‘बड़ी बात’’ नहीं है। उन्होंने कार्यभार संभालने के लगभग एक साल बाद इस भाषण को अपने राजनीतिक करियर का सबसे महत्वपूर्ण भाषण करार दिया। सुनक की पत्नी अक्षता मूर्ति ने राजनीतिक मंच पर पहली बार पदार्पण किया।

इस दौरान कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। उनमें बच्चों में धूम्रपान की लत को रोकने संबंधी फैसला भी शामिल था। सुनक ने कहा कि हमें अपने इस फैसले से आने वाली पीढ़ियों को को धूम्रपान की लत से बचाने में मदद मिलेगी। उनकी पत्नी अक्षता मूर्ति मैनचेस्टर में कंजरवेटिव पार्टी के सम्मेलन में अपने पहले भाषण के लिए ‘‘सबसे अच्छे दोस्त’’ ऋषि सुनक का परिचय देने के लिए सामने आईं। इसके बाद सुनक ने अपनी योजनाओं के बारे में बताया कि उन्हें उम्मीद है कि अगले चुनावों में उन्हें ब्रिटिश जनता का जनादेश मिलेगा। सुनक ने कहा, ‘‘कभी भी किसी को यह न कहें कि यह एक नस्लवादी देश है। ऐसा नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मेरी गाथा एक ब्रिटिश कहानी है।

सुनक ने बताई अपने डाउनिंग स्ट्रीट तक पहुंचने की कहानी

पीएम सुनक ने अपनी कहानी के बारे में जिक्र करते हुए बताया कि कैसे एक परिवार तीन पीढ़ियों तक थोड़े से लोगों के साथ डाउनिंग स्ट्रीट तक पहुंच सकता है।’’ उन्होंने दर्शकों में अपने अग्रिम पंक्ति के कैबिनेट सदस्यों की ओर इशारा किया, जिनमें भारतीय मूल की गृह मंत्री सुएला ब्रेवरमैन और ऊर्जा मंत्री क्लेयर कॉटिन्हो भी शामिल थीं। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पहले ब्रिटिश एशियाई प्रधानमंत्री होने पर गर्व है, लेकिन आप जानते हैं, मुझे इससे भी अधिक गर्व है कि यह कोई बड़ी बात नहीं है। और बस याद रखें: यह कंजरवेटिव पार्टी थी जिसने ऐसा किया, न कि (विपक्षी) लेबर पार्टी ने।’’ सुनक ने स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्रों से जुड़ी कई घोषणाएं कीं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा प्रस्ताव है कि भविष्य में हम धूम्रपान की उम्र हर साल एक वर्ष बढ़ा दें। इसका अर्थ है कि आज 14 साल के बच्चे को कभी भी कानूनी तौर पर सिगरेट नहीं बेची जाएगी और वे और उनकी पीढ़ी धूम्रपान मुक्त हो सकते हैं। (भाषा) 

यह भी पढ़ें

भारत को मिली एक और बड़ी कामयाबी, अब संयुक्त अरब अमीरात में भी चलेगा रुपया, चीन-अमेरिका को टेंशन

उत्तर कोरिया के विनाशक हथियारों पर पेंटागन का सर्वनाश प्लान आया सामने, किम जोंग ने अमेरिका को दिया ये जवाब

Latest World News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss