16.8 C
New Delhi
Tuesday, February 27, 2024

Subscribe

Latest Posts

पीएम मोदी ने कहा- 2036 ओलंपिक खेलों की कोशिश में कोई कसर नहीं छोड़ेगा भारत


छवि स्रोत: पीटीआई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरान मुंबई में अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के सत्र का उद्घाटन।

मुंबई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा था कि भारत 2036 ओलंपिक का आयोजन देश में करने के लिए अपनी कोशिशों में कोई कसर नहीं छोड़ेगा क्योंकि यह 140 करोड़ भारतीयों का सपना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के सत्र का उद्घाटन करते हुए कहा, ‘मैं आपके सामने 140 करोड़ भारतीयों की भावना रखना चाहता हूं। भारत अपनी धरती पर 2036 के ओलंपिक का आयोजन के प्रयास में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगा। यह 140 करोड़ भारतीयों का सपना है, उनकी पहचान है। इस सपने को हम आपकी सहायता से पूरा करना चाहते हैं।’

‘युवा ओलिंपिक संघ की भी चाहत है भारत’

पीएम मोदी ने अपनी किताब में कहा, ‘इससे ​​पहले भारत 2029 में होने वाले युवा ओलंपिक खेलों की भी इच्छा है। मेरा विश्वास है कि भारत को आईओसी का निरंतर सहयोग मिलता रहेगा। भारत बड़े स्तर पर वैश्विक आयोजन की तैयारी है। इस दुनिया ने जी20 की मेजबानी के दौरान देखा है। अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति का 141वां सत्र भारत में होना बहुत ही खास है। 40 साल बाद भारत में आयोसो का सत्र हमारे लिए बहुत गौरव की बात है। पिछले कुछ वर्षों में भारत ने हर प्रकार के वैश्विक खेल टूर्नामेंट आयोजित करके अपनी दृढ़ता साबित की है।’

वर्कशॉप ने भारत की प्रयोगशाला का दस्तावेज़ तैयार किया

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हमने हाल ही में शतरंज ओलंपियाड का आयोजन किया है जिसमें दुनिया के 186 देश शामिल हुए हैं। इसमें महिला फुटबॉल अंडर 17 विश्व कप, पुरुष हॉकी विश्व कप, बास्केटबॉल खिलाड़ी विश्व कप की भी जानकारी शामिल है। भारत में हर साल दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट लीग से एक (आईपीएल) का भी आयोजन होता है। इस समय भारत में क्रिकेट विश्व कप भी चल रहा है। उत्साह के इस सागर में सब यह देखकर बहुत खुश हैं कि आईओसी के कार्यकारी बोर्ड ने क्रिकेट को 2028 ओलंपिक में शामिल करने का प्रस्ताव रखा है। हमें उम्मीद है कि इस बारे में जल्द ही सकारात्मक खबरें सुनने को मिलेंगी।’

‘अभी भारत ने एक शानदार जीत दर्ज की है’
पीएम मोदी ने विश्व कप में भारत की पाकिस्तान पर जीत का जिक्र करते हुए कहा, ‘अब से कुछ मिनट पहले भी भारत ने विश्व कप में दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम में बहुत ही शानदार जीत का जिक्र किया है। मैं टीम भारत को और सभी भारतवासियों को इस ऐतिहासिक जीत की बधाई देता हूं।’ उन्होंने भारत की प्राचीन खेल परंपरा का उल्लेख करते हुए कहा, ‘भारत में हमारी संस्कृति का, हमारी परंपरा का महत्व है। भारत में खेलों के बिना हमारा हर जश्न अधूरा है। हम भारतीय सिर्फ खेलप्रेमी नहीं बल्कि हम खेलों को जीने वाले लोग हैं और यह हजारों साल के हमारे इतिहास में पता चलता है।’

‘मानव को अपना विस्तार का अवसर देता है’

पीएम मोदी ने कहा, ‘सिंधु घाटी की सभ्यता हो, हजारों साल पहले का वैदिक काल हो, हर कालखंड में खेलों को लेकर भारत की विरासत समृद्ध रही है।’ हमारे यहां हजारों साल पहले लिखित ग्रंथों में चौसठ विधाओं में पारंगत होने की बात कही गई है, जिसमें घुड़सवारी, धनुर्विद्या, तैराकी, कुश्ती आदि जैसे कई विधाएं शामिल हैं। गेम में कोई हारता नहीं है। खेल में बस विजेता और सीखने वाले होते हैं। खेल की भाषा और भावना सार्वभौमिक है। खेल बस प्रतियोगिता नहीं है, यह मानवता को अपने विस्तार का अवसर देता है। ‘रिकॉर्ड कोई भी तोड़े, पूरी दुनिया उसका स्वागत करती है।’

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss