36 C
New Delhi
Sunday, June 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

ट्रेन से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए सुविधा की भरमार, रेलवे ने ये एतराज किया है


छवि स्रोत: फाइल फोटो
ट्रेन से यात्रा करने वाले यात्री ध्यान दें

भारतीय रेल: रेलवे यात्रियों के लिए कई अच्छी खबरें सामने आई हैं। यात्रियों के लिए अब रेल कोच के आखिरी पड़ाव में स्ट्रेचर का इंतेजाम होगा। वहीं, भारतीय रेलवे ट्रेन को आधुनिक बनाने के साथ-साथ अब बीमार यात्रियों के भी खास ख्याल आते हैं। मेरठ से दिल्ली आने वाले यात्रियों के लिए रेलवे ने ये खास अख्तियार किया है।

देश में लाखों की संख्या में यात्री सफर करते हैं। इसी के मद्देनजर रेल ने अपनी सेवाओं को बेहतर करने के लिए लगातार प्रयास किया है और ऐसे में कोच की बेहतर डिजाइन से लेकर ट्रेन की गति, प्लेटफॉर्म और ट्रेन कोच की सफाई पर ध्यान दिया है। अब रेलवे ने यात्रा के दौरान यात्रियों के कई विकल्प खुले हुए हैं। इसी कर्ज से रेलवे ने अब यात्रियों के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए यात्रा में सामान देने का फैसला किया है।

रेलवे सुविधाओं को लेकर रेल मंत्री के बयान

हाल ही में केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा था कि आने वाले सालों में देश को रेलवे का एक नया रूप देखने को मिलेगा। उन्होंने हाल ही में राज्यसभा में ये जानकारी भी दी थी कि सभी रेलवे यात्री और यात्रियों को ले जाने वाले ट्रेन में जीवनरक्षक दवाएँ, डिवाइस, ऑक्सीजन सिलेंडर आदि से युक्त एक मेडिकल बॉक्स को शामिल करने के निर्देश दिए गए हैं।

फ्रंट लाइन स्टाफ यानी ट्रेन टिकट परीक्षक, ट्रेन गार्ड और अधीक्षक, स्टेशन मास्टर आदि को प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। ऐसे कर्मचारियों के लिए नियमित पुनश्चर्या पाठ्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। सभी रेलवे संबंधी अपरिचितों और डॉक्टरों की सूची उनके संपर्क नंबरों के साथ उपलब्ध है।

कोच के आखिरी स्ट्रेचर का अख्तियार

रेलवे, राज्य सरकार या निजी परिस्थितियों और एम्बुलेंस एम्बुलेंस सेवाओं का उपयोग करने वाले घायलों, रोगियों को प्रभावितों या चिकित्सक के उपचार तक पहुँचाया जाता है। इसी को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में तीन हफ्ते बाद चलने वाले रैपिड रेल कोच के आखिरी में स्ट्रेचर का अटेंशन किया गया है।

अगर किसी ग्राहक को मेरठ से दिल्ली रेफर किया जाता है, तो इसके लिए एक अलग कोच की व्यवस्था है, ताकि कम कीमत में ग्राहक को महत्व दिया जा सके। इसके साथ महिलाओं के लिए अलग कोच की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा दिनों के लिए अलग-अलग सीटें तैयार की जाती हैं, जिनका उपयोग न होने की स्थिति में टर्निंग जा सकता है।

इस रूट पर 5 स्टेशन होंगे

तीन हफ्ते बाद देश की पहली रैपिड रेल गाजियाबाद के साहिबाबाद से दुहेला आवेदन पत्र प्राप्त करेंगे। अगले महीने से यह दुहेला जमा से साहिबाबाद के बीच यात्रियों के लिए 180 किमी प्रति घंटे की स्पीड से वाईफाई लेंगे। इस रूट पर 5 स्टेशन होंगे, जिनमें साहिबाबाद, गाजियाबाद, गुलधर, दुहेला और दुहेला डिपॉजिट हैं।

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआर जीएस कॉरिडोर प्रोजेक्ट का मकसद राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की भीड़भाड़ को कम करना है। इसके अलावा, महत्वपूर्ण यातायात और वायु प्रदूषण पर कसना और संतुलित क्षेत्रीय विकास सुनिश्चित करना है।

ये भी पढ़ें-

जम्मू-कश्मीर परिसीमन पर फारूक अब्दुल्ला के बड़े बयान,बोले-बीजेपी सरकार का इरादा जानबूझकर, लेकिन नाकाम होगा

आईपीएस अधिकारी अजय कुमार सिंह होंगे झारखंड के नए डीजीपी ने नोटिस जारी किया

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss