31.1 C
New Delhi
Friday, July 12, 2024

Subscribe

Latest Posts

‘लोग दिखाते हैं कि हम बच्चों को खाते हैं…’ निठारी कांड के माँ बाप के भाई ने किया खुलासा


छवि स्रोत: फ़ाइल फ़ोटो
निठारी कांड के चार पन्नों का खुलासा

दिल्ली: निठारी कांड के दोनों गवाहों को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सबूतों के अभाव में खारिज कर दिया। 17 साल बाद अरोपी सुरिंदर कोली और कोली के सहयोगी मोनिंदर सिंह पंढेर दोनों रिहा हो गए। दोनों पर संगीन का आरोप था कि दोनों को 17 साल की सजा के बाद रिहा कर दिया गया। ससुर पर बड़ा आरोप ये था कि दोनों बच्चों की हत्या कर उनका शव ले लिया गया था. इस बारे में अब सुरिंदर कोली के भाई ने बड़ा खुलासा किया और न्यूज एजेंसी आजतक को बताया कि “हमें मांस और मछली खाना पसंद था, लेकिन जिस दिन मेरा भाई (सुरिंदर कोली) जेल गया, सब कुछ बदल गया।” साझीदार तक हमने प्याज और लहसुन के साथ खाना भी नहीं बनाया… हमें डर था कि अगर गंध गिर गई, तो पड़ोसी सोचेंगे कि हम बच्चों को समान खाना बना रहे हैं और वे हम पर हमला कर सकते हैं।” शब्द सुरिंदर कोली के अभ्यासी से एक के हैं।

ये सब बस अफ़वाह थी

16 अक्टूबर को, अल्लाहाबाद उच्च न्यायालय ने सुरिंदर कोली को हत्या, असहमत बलात्कार और साक्ष्य नष्ट करने के सभी आरोपों से बरी कर दिया और कहा कि उसे दोषी ठहराने के लिए कोई प्रामाणिक सबूत नहीं थे। कोली के सहयोगी मोनिंदर सिंह पंढेर को भी 17 साल पुराने मामले में दफन कर दिया गया। 2006 में निठारी गांव में पंढेर के डी-5 इलाके और उसके आसपास के कई समुदायों की तलाश के बाद पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया था। दोनों पर हत्या के कई मामले लगाए गए। इस भयानक खबर के बाद अगले ही दिन एक बेताशा की अफवाह उड़ी कि दोनों ने घटिया चीजों को मिलाकर कुकर में मसाला डाला और उन्हें खा लिया।

सुरिंदर कोली के भाई ने किया खुलासा

सुरन्द्रा कोली के भाई ने पिछले 17 वर्षों की अपनी आपबीती साझा करते हुए बताया कि “पिछले 16 वर्षों में, लोगों ने मुग पत्थर फाके पर, गालियां निकालीं। उन वर्षों में, मैं केवल ‘निठारी के कोली का भाई’ बनकर रह गया था। पिछले 17 साल से, सुरिंदर (सुरिंदर कोली) के साथ हम भी ऐसे ही रह रहे हैं जैसे कि जेल में हूं। हमारा सामान हमारे घर से बाहर फेंक दिया गया। हम अपना नाम और चेहरा छुपाते हुए मिले रहे।’ उन्होंने आगे बताया कि गूगल पर सर्च इंजन, अगर कोई निठारी सर्च करता है, तो उसे हिंदी और अंग्रेजी दोनों में “नरभक्षी”, “सीरियल रेपिस्ट” और “बेस्ट” जैसे शब्द वाले लेख मिलते हैं। ये 17 साल हमपर इतने भारी पड़े जैसे जुर्म हमने किया हो, हम जिदा हैं यही बहुत हैं।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss