25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

वर्षों बाद इजराइली जेलों से छूटकर आए नाबालिगों और महिलाओं, फिलिस्तीनी परिवारों ने मनाया जश्न


छवि स्रोत: एपी
इजराइल की जेल से रिहा हुई फिलिस्तीनी महिला का परिवारजन ने किया स्वागत।

इजराइल-हमास युद्ध के एकांत के बाद इजराइली जेलों से छुटकर आए स्नातक मद्रास और महिलाएं जब अपने घर पहुंचीं तो उनके परिवारजनों की खुशियां नहीं रह गईं। फिलिस्तीनी परिवार ने मस्जिद की रिहाई को एक उत्सव के रूप में मनाया। प्रोटोकाल कभी वापस नहीं आया फ़िलिस्तीन आने की उम्मीद नहीं थी, आख़िरकार वह इज़रायल-हमास में एक एकांत के बाद रिहा हो गए। इजराइल-हमास के बीच 4 दिनों का प्रारंभिक युद्ध विराम है। इसके बाद यह समझौता और आगे बढ़ सकता है। अमेरिका, कतर और मिस्र की स्थिति से ऐसा संभव हो सकता है।

शुक्रवार को युद्धविराम के तहत इजराइली जेलों से रिहा हुई तीन आबादी से बड़ी संख्या में फिलिस्तीनियों के वेस्ट बैंक तक पहुंच का जोरदार तरीके से स्वागत किया गया। रिहाइशी जेल में कुछ को छोटे अपराधियों के लिए जेल में डाल दिया गया और कुछ को जेल में डाल दिया गया। इन सभी जांचकर्ताओं को यरूशलम के बाहर एक जांच चौकी पर रिहा किया गया, जहां भारी संख्या में फलस्टिनी लोग एकत्र हुए थे। इन लोगों ने नारे लगाए, तालियां बजाईं और हाथ हिलाएं। टैक्सी से निकले एक यात्री का स्तम्भ दिखाई दे रहे थे। मैले कपड़े पहने, थकावत से चूर ये युवक रिहा होने के बाद जब अपने-अपने पिता से मिले तो उनके वृत्तचित्रों पर सिर हिलाते हुए दिखाई दिए।

रात में विमोचन, आकाश में तारा

रिहाई के समय रात का था लेकिन सितारों की वजह से आकाश अलग-अलग रंगों से पटा हुआ दिखाई दिया जहां देश के संगीत ने समुद्र को और खुशनुमा बना दिया। रेहड़ी से गए जेलों में से कुछ ने फलस्टिनी झंडों को हाथ में ले लिया था तो कुछ ने हमास के हरे झंडों को अपने रिकार्ड पर ले लिया था। जांचचौकी से बाहर अरेस्ट के बाद उन्होंने हस्ताक्षर दिए। रिहाइश में एक 17 साल का लड़का जमाल बहामा भी था, जो उस दौरान धक्का-मुक्की कर रहा था और हजारों फलस्टिनी की भीड़ में चिल्ला-मुक्की कर रहा था।

जमाल ने कहा, ”मेरे पास शब्द नहीं है, मेरे पास शब्द नहीं है।” उन्होंने कहा, ”भगवान का शुक्र है।” जमाल के पिता ने कहा, जब अपने बेटे को गले लगाया तो उनकी आंखों से आंखें मूंद लीं , क्योंकि उसने सात बार पहली बार अपने बेटों को देखा। इजराइली सेना ने जमाल को पिछले वसंत में फलस्टिनी शहर में जेरिको को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया था और उस पर बिना किसी आरोप के आरोप लगाया था। जमाल के पिता ने कहा, ”मैं उसे फिर से अपने पिता की याद दिलाना चाहता हूं।”

हमास ने 13 इजराइलियों को रिहा किया

इजराइल और हमास के बीच शुक्रवार को चार सैन्य बंधकों की शुरुआत हुई, इस दौरान इजराइली बंधकों और फलस्तीनी अड्डों की अदला-बदली में गाजा में 13 इजराइलियों सहित दो बंधक बंधकों को कब्जे से मुक्त कर दिया गया। इजराइल बंधकों के रिहा होने के कुछ घंटे बाद इजराइल की जेलों से फलस्टीनी जेलों को रिहा कर दिया गया। रिकी में फलस्टिनी जेल में 24 महिलाएं भी शामिल थीं, जिनमें से कुछ को इजराइल के सुरक्षा कर्मियों को गोली मार दी गई और अन्य प्रकार के बयानों के प्रयास में कई साल जेल की सजा दी गई। वहीं अन्य लोगों पर भी सोशल मीडिया पर उकसाने का आरोप लगाया गया था। रिहाइशी जेलों में 15 नाबालिग भी शामिल थे, जिनमें ज्यादातर पर क्रांतिकारी और ‘आतंकवाद का समर्थन करने’ का आरोप था। इ

जेराएल लॉन्ग अरसे से फलस्टिनी युवाओं पर उग्रवादियों का समर्थन करने का आरोप लगाकर कार्रवाई की जा रही है, जो व्यवसाय वाले क्षेत्र में हिंसा बढ़ाना का मुख्य कारण है। संयुक्त राष्ट्र (संरा) के कार्यकर्ता अब्दुलकादर खतीब का 17 साल का बेटा आईएएस भी है, जो पिछले साल जेल से जेल में गया था, जिसने पिछले साल बिना किसी आरोप या आदेश के ‘प्रशासनिक अनुशासन’ के गुप्त दस्तावेज लिए थे। खतीब ने कहा, ”एक फलस्टिनी होने के नाते अपने मजदूरों के लिए गाजा में मेरा दिल टूट गया है, इसलिए मुझे खुशी नहीं हो सकती। लेकिन मैं एक पिता हूं और अंदर ही अंदर काफी खुश हूं। (पी)

यह भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss