25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

उत्तराखंड के प्राकृतिक आपदा: प्राकृतिक आपदाओं के लिए अपनाए जा रहे हैं अन्य विकल्प


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
उत्तराखंड तरंग दैर्ध्य, ‍अंग्रेज़ी ऑपरेशन जारी

उत्तराखंड सुरंग बचाव अभियान: उत्तरकाशी के सिलक्यारा रंग में 15 दिन से 41 मजदूर छूट गए हैं। सर्च ऑपरेशन में नई-नई मुश्किलें सामने आ रही हैं। टनल में विज्ञापन मशीन के फंसने के बाद ऑरेंज में डब्लूडब्लूए डिटैचमेंट के जल्द ही बाहर की उम्मीद पर पानी फिर गया। इमेज में अब वोवर स्पीकर लग सकता है। ऑरेंज में बेकार ऑगर मशीन के प्लांट को निकालने का काम चल रहा है। इस बीच दो तीन विकल्प पर भी काम शुरू हो गया है।

दो-तीन विकल्प पर काम शुरू

अतिरिक्त सचिव प्रौद्योगिकी, सड़क और परिवहन महमूद अहमद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि ऑगर मशीन 13.98 मीटर अंदर है, उसे लेजर और प्लाज़मा कटर से अनकहा जा रहा है। इसके लिए ऑवर तक काम करना होगा। उन्होंने कहा कि दो से तीन बार काम शुरू हुआ। एसजीवीएनएल 1.2 मीटर डायमीटर का वर्टिकल स्टार्टिंग कर रही है। नई सुई की पहचान के लिए भूगर्भशास्त्री ने की पेशकश। करीब 15 मीटर की स्टालिंग की शुरुआत हो चुकी है। हमने एक ऐसी जगह की पहचान की है जहां से हमारा अनुमान है कि कुल 86 मीटर की कीमत होनी चाहिए। एक मशीन 44-45 मीटर की होती है। इसके बाद दूसरी मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा। दूसरी मशीन भी आ गयी है।

अहमद ने बताया कि एरिवीअल 180 मीटर परपेंडिकुलर हॉरिजेंटल इंस्टॉलेशन के लिए प्लेटफॉर्म बना रही है। उन्हें उम्मीद है कि 28 तारीख को आरवीएनएल की शुरूआत हो जाएगी। उन्होंने कहा कि यह एक लंबी प्रक्रिया है। 12 मीटर प्रतिदिन के हिसाब से 15 दिन में 180 मीटर की स्थापना। हम एक ड्रिफ्ट टनल भी बनाना चाहते हैं, डिजाइन बना लिया है और मंजूरी दे दी है… हम इनमें अलग-अलग स्टाइल पर काम कर रहे हैं… बड़कोट की तरफ से कास्टिंग करने में सब्जेक्ट का सामना करना पड़ रहा है।

व्युत्पत्ति का कार्यशाला

मुख्यमंत्री युवराज सिंह धामी ने रविवार को सिलक्यारा गंगे में चंपावत जिले के टनकपुर निवासी पूवर सिंह ऐरी के घर में अपने महल का अंतिम छोर दिखाया और कहा कि सुरंग में सभी 41 सहयोगियों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए पूरी ताकत से काम किया जा रहा है। ।। धामी ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर लिखा, ‘टनल (सूरंग) में श्रमिक बंधुआ पुकर सिंह ऐरी जी के टनकपुर, चंपावत में उनके निवास स्थान पर स्थित आवास की स्थापना की गई। ‘मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दौरान उन्हें बाहरी इलाकों के लिए केंद्रीय और प्रदेश प्रशासन द्वारा महत्वपूर्ण प्रयासों की जानकारी दी जा रही है।

पूरी ताकत के साथ काम कर रहे हैं-धामी

उन्होंने कहा, “हम सभी प्राकृतिक जीवों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए पूरी ताकत के साथ काम कर रहे हैं।” धामी ने कहा कि सभी मजदूर स्वस्थ हैं और उन्हें जल्द ही बाहर निकाला जाएगा। इस मॉस पर सदस्य अजय टमटा भी मौजूद हैं। सुरंग में 41 अनाथालय से ऐरी समेत दो श्रमिक उत्तराखंड के हैं। एक अन्य श्रमिक गब्बर सिंह नेगी उत्तराखंड के जिला कोटद्वार के रहने वाले हैं। इसके अलावा, 15 श्रमिक झारखंड, आठ उत्तर प्रदेश, पांच-पांच बिहार और ओडिशा, तीन पश्चिम बंगाल, दो असम और एक हिमाचल प्रदेश श्रमिक रहते हैं। मुख्यमंत्री अपने विधानसभा क्षेत्र चंपावत के मैदानी इलाके टनकपुर में 60 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले अंतरराज्यीय बस सुरक्षा का निर्धारण करने के लिए गए थे। इस माओवादी पर धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर रोज सिलक्यारा गंगे में मृतकों के अवशेष और उनके बचाव के लिए चलाए जा रहे अभियान के बारे में जानकारी ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऑगर मशीन में तकनीकी गड़बड़ी है और अब वहां हाथों से (मैनुअल) इंस्टॉलेशन शुरू हो गया है। (इनपुट-एजेंसी)

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss