31.1 C
New Delhi
Sunday, July 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

रूस-यूक्रेन के बीच अब छिड़ी आसमान में तेज जंग, दोनों ने एक दूसरे पर किया घातक हमला


Image Source : AP
रूस-यूक्रेन युद्ध की तस्वीर।

रूस-यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग जमीन और समुद्र से होते हुए अब आसमान तक पहुंच गई है। दोनों देश आसमान में भीषण जंग लड़ रहे हैं। यूक्रेनी अधिकारियों ने कहा कि रूस के मिसाइल दागने से पश्चिमी यूक्रेन में आठ साल के एक बच्चे की मौत हो गई, जबकि रूस ने आरोप लगाया कि यूक्रेनी सेना ने ड्रोन के जरिये मॉस्को को लगातार तीसरे दिन निशाना बनाया, लेकिन इससे कथित तौर पर कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। दोनों देशों के बीच काला सागर अनाज व्यापार समझौता टूटने के बाद जंग में और तेजी देखी जा रही है। रूस यूक्रेन के ओडिसा पोर्ट को तबाह कर चुका है तो वहीं यूक्रेन भी रूसी पोर्ट को कई बार निशाना बना चुका है।

शुक्रवार को यूक्रेनी राष्ट्रपति व्लोदिमीर जेलेंस्की ने क्षेत्रीय सैन्य मसौदा बोर्ड के सभी प्रमुखों को बर्खास्त करने की घोषणा की। यह कदम 17 महीने से अधिक समय पहले यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद से भ्रष्टाचार के खिलाफ जारी उनकी कार्रवाई का हिस्सा है। यूक्रेन के अभियोजक जनरल कार्यालय के अनुसार, जिस मिसाइल से लड़के की मौत हुई, वह पोलैंड की सीमा से लगभग 100 किलोमीटर (60 मील) दूर पश्चिमी यूक्रेन के इवानो-फ्रैंकिव्स्क क्षेत्र में एक घर पर गिरी। कार्यालय ने दावा किया कि यूक्रेन की हवाई सुरक्षा प्रणाली ने राजधानी कीव पर रूस की ओर से दिन के उजाले में किए गए हमले को विफल कर दिया।

बच्चों के अस्पताल पर गिरा मिसाइल का मलबा

स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि रोकी गई मिसाइलों का मलबा बच्चों के अस्पताल के परिसर सहित शहर के आवासीय इलाकों पर गिरा, लेकिन इससे कोई हताहत नहीं हुआ। इस बीच, मॉस्को के मेयर सर्गेई सोबयानिन ने कहा कि रूसी वायु रक्षा प्रणालियों द्वारा रोके जाने के बाद पश्चिमी मॉस्को में एक ड्रोन गिर गया। उन्होंने कहा कि घटना में किसी को चोट नहीं आई है। रूसी अधिकारियों के मुताबिक, ड्रोन करामीशेव्स्काया तटबंध पर गिरा, जो मॉस्को के व्यापारिक जिले से लगभग पांच किलोमीटर दूर है, जिस पर पूर्व में ड्रोन से दो बार हमला हुआ था। वहीं, कीव में जेलेंस्की ने कहा कि वह यूक्रेन के सभी क्षेत्रों में मसौदा बोर्ड निदेशकों को बर्खास्त कर रहे हैं। उन्होंने एक टेलीग्राम पोस्ट में कहा कि नौकरियां युद्ध के वीरों को मिलनी चाहिए, जिनमें घायल लोग भी शामिल हैं। (एपी)

यह भी पढ़ें

नाइजर और अफ्रीकी देशों में युद्ध की आशंका बढ़ी, भारत ने अपने नागरिकों को तत्काल वतन वापसी का दिया निर्देश

नाइजर में तख्तापलट के बाद शांति सेना भेजने की तैयारी में अफ्रीकी देश, जुंटा ने कहा-एक भी सैनिक भेजा तो सबको मार देंगे

Latest World News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss