30.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

पीएम मोदी से एमके स्टालिन की अपील, दशकों में जाति गणना को शामिल करें


छवि स्रोत: फ़ाइल फ़ोटो
पीएम मोदी से एमके स्टालिन की अपील

बिहार में जातीयता की रिपोर्ट जारी होने के बाद कई राज्यों में इसकी मांग की जा रही है। इस बीच, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शनिवार को अपील की कि वह भावी दशकों के आधार पर जाति गणना को भी शामिल करें। एमके स्टालिन ने मोदी को लिखे पत्र में कहा कि यह पहला विकास का सबसे मजबूत और समग्र समावेशी भारत का निर्माण करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा।

“समावेशी विकास सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी”

मुख्यमंत्री ने इस मामले में मोदी से निजी हस्तक्षेप करने का वादा किया है। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित राष्ट्रीय दशक के आधार पर जातिगत आधार पर गणना करके समाज की जातीय संरचना और सामाजिक-आर्थिक सूची में इसके प्रभाव के संबंध में समग्र और विश्वसनीय आंकड़े मिल सकते हैं। स्टालिन ने कहा, “यह प्रमाण-आधारित नीति निर्माण को सक्षम बनाएगा, जिससे हम सभी को एक समान और समग्र विकास सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी। जातिगत आधार पर दशकों के आदर्श के साथ-साथ करने से न केवल देश भर में आंकड़ों की तुलना करना।” निश्चित रूप से, बल्कि इससे संबंधित दस्तावेज़ का भी उपयोग किया जाएगा।”

“राष्ट्रभेद जातीय गणना की तत्काल योजना बनाना चाहिए”

मुख्यमंत्री स्टालिन ने शुक्रवार को लिखे पत्र में कहा, “केंद्र सरकार को एक व्यापक, राष्ट्रीय भाईचारा जातीय गणना की तुरंत योजना बनानी चाहिए और इसकी तैयारी शुरू करनी चाहिए।” साल 2021 में होने वाली वायरल कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के कारण नहीं की जा सकती थी। स्टालिन ने कहा कि जाति-संबंधी महत्वपूर्ण आंकड़े लाखों पात्र लोगों के जीवन को प्रभावित करेंगे और अस्थिरता में देरी नहीं करेंगे। बिहार जैसे कुछ राज्यों ने सुनिश्चित जाति-आधारित गणना की है, जबकि अन्य राज्यों ने इस प्रक्रिया को शुरू करने के लिए कदम बढ़ाने की घोषणा की है।

“इनका राष्ट्रीय स्तर पर तुलनात्मक अध्ययन नहीं हो सकता”

एमके स्टालिन ने कहा कि इस तरह के राज्य विशिष्ट पहले और उनके आंकड़े बहुत उपयोगी हैं, लेकिन इनका राष्ट्रीय स्तर पर तुलनात्मक अध्ययन नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि जाति भारत में सामाजिक प्रगति के साम्राज्य का ऐतिहासिक रूप से प्रमुख निर्धारक बनी हुई है, इसलिए यह जरूरी है कि यह एसोसिएटेड तथ्यात्मक दस्तावेज सार्वजनिक रूप से उपलब्ध अर्थशास्त्री बने। उन्होंने कहा कि इसी तरह की मदद से विभिन्न हितधारकों और नीति निर्माताओं ने पुराने कार्यक्रमों के प्रभाव का विश्लेषण कर समर्थन और भविष्य के लिए स्मारक की योजना बनाई।

– पीटीआई गैजेट के साथ

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss