32.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

मन की बात: पीएम मोदी ने दी 26/11 की याद में दी श्रद्धांजलि, इन यादों पर की बात


छवि स्रोत: पीटीआई
मोदी.

नई दिल्ली: देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात कार्यक्रम का वर्णन किया। इस कार्यक्रम का प्रसारण रेडियो कार्यक्रम आकाशवाणी और दूरदर्शन के पूरे नेटवर्क, आकाशवाणी समाचार वेबसाइट, न्यूज पर एक मजबूत मोबाइल ऐप और नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप पर होता है। इसके अलावा मन की बात कार्यक्रम का लाइव प्रसारण ऑल इंडिया रेडियो न्यूज, डीडी न्यूज, रेडियो और इंफोर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्ट्री के यूट्यूब चैनल पर भी प्रसारित किया जाता है।

मुंबई पर हमला नहीं भूल सकते

पीएम मोदी ने कहा कि 26 नवंबर की तारीख हम भूल नहीं सकते। इस दिन सामाक्रॅम पर जघन्या पर हमला हुआ। मुंबई पूरे देश को इस हमले ने परेशान कर रखा है। भारत का दृढ़ संकल्प है कि हम इस हमले से पीछे हट गए हैं और अब अपने इसी तरह के आक्रमण के साथ विनाश को कुचलते जा रहे हैं। देश पूरे उन सभी जवानों को श्रद्धांजलि दे रही है, देश आज आपका याद कर रही है।

संविधान दिवस आज

उन्होंने कहा कि आज का दिन एक और वजह से महत्वपूर्ण है। 1949 में आज ही के दिन संविधान का अंगीकरण किया गया। साल 2015 में हमारे मन में विचार आया कि संविधान दिवस मनाया जाए। तब हमने प्रयास किया और तब से हर साल 26 नवंबर के रूप में संवेदना दिवस मनाया जा रहा है। सभी देशवासियों को संविधान दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

वोकल फॉर लोकल का बढ़ा हुआ ट्रेंड

हमारे देश में वोकल फॉर लोकल पर काफी ज़ोर दिया गया है। हमने देखा कि, भैया दूज और छठ जैसे त्योहारों पर लोगों ने 4 लाख करोड़ का कारोबार किया। वोकल फॉर लोकल की अहम भूमिका रही। अब बच्चों में भी थीम लेकर उत्साह देखा जा रहा है। आज के समय में कोई बच्चा भी कोई सामान लेकर जाता है तो देखना कि यह सामान भारत में तो नहीं है। ऑनलाइन सामान के सामान समय भी लोग मूल निवासी देख रहे हैं। यह हमारा वोकल फॉर लोकल को प्रमोशन मिल रहा है। वोकल फॉर लोकेल की सफलता विकसित भारत, समृद्ध भारत के द्वारा खोला जा रहा है। इससे रोजगार की अर्थव्यवस्था, विकास की अर्थव्यवस्था, शहरी और ग्रामीण क्षेत्र को समान अवसर मिलता है। इसके साथ ही वैश्विक स्तर पर यदि उद्योग भी खराब है तो वोकल फॉर लोकल इसे संरक्षित करता है।

ऑनलाइन शादी का बना ट्रेंड

पीएम मोदी ने कहा कि आज कल एक नया ट्रेंड चला है कि लोग आर्टिस्ट में वेडिंग कर रहे हैं। ऐसा करना क्या है? उन्होंने कहा कि अगर भारत में शादी होगी तो भारत का पैसा भारत में ही रहेगा। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि हो सके तो अपने देश में ही शादी का आयोजन करें। ऐसा हो सकता है कि यहां पर पर्यटकों के लिए जैसी व्यवस्थाएं मिल सकती हैं, लेकिन अगर हम कोशिश करेंगे तो हम व्यवस्था पर गौर करेंगे।

एक महीने तक कैश पैवेलियन न करने की अपील

पीएम मोदी ने कहा कि लगातार दूसरे साल जब दीपावली के अवसर पर नकदी का वोग धीरे-धीरे कम हुआ। मन की बात कार्यक्रम में अपील के बाद लोगों ने इसे अपने उद्घाटन में लाया है और कैश का उपयोग कम किया है। पीएम मोदी ने देश के लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप लोग तय कीजिए कि अगले एक महीने तक कहीं भी किसी भी तरह का कैश नहीं डालेंगे। उन्होंने कहा कि एक महीने पर आप अपनी फोटो के साथ अपना अनुभव शेयर करोगे।

जल संरक्षण करना हम कॉर्पोरेट जिम्मेदारी हैं

आज की 21वीं सदी की सबसे बड़ी चुनौती जल संरक्षण है। जल सुरक्षा करना हमारी कंपनी की जिम्मेदारी है। जब हम सामूहिकता की भावना से काम करते हैं तो सफलता भी मिलती है। अमृत ​​सरोवर भी इसका एक उदाहरण है। मूल में 65000 से अधिक करोड़ अमृत सागर बने हुए हैं। यह अमृत सरोवर आगामी रामायण को लाभ देगा। ऐसे में इन अमृत सरोवरों के संरक्षण की जिम्मेदारी हमारी है। हम सभी को आने वाले भविष्य के लिए जल संरक्षण की आवश्यकता है।

देव दीपावली का ज़िक्र

मोदी ने कहा कि कल 27 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा है। इसी दिन देव दीपावली भी है। पीएम मोदी ने कहा कि मेरा तो मन रहता है कि काशी के देव दीपावली में शामिल रहूं, लेकिन इस बार तो काशी नहीं जा रहा हूं। लेकिन मन की बात से बनारस के लोग जरूर शुभकामनाएं देते हैं। इस बार भी बनारस में लाखों दिए जाएंगे। यहां के घाटों पर आरती होगी, लेजर शो होगा और देश-विदेश से लाखों लोग यहां आनंद लेने आएंगे। कल 27 नवंबर को गुरुनानक देव जी का प्रकाश पर्व भी है। उनका संदेश दुनिया भर के लिए प्रेरक हैं। उनका संदेश सदैव दूसरों को प्रति समर्पित होने के लिए प्रेरित करता रहता है। उनकी साज़िश का पालन सिख भाई पूरी दुनिया में करते हैं। सभी देशवासियों को गुरुनानक देव के प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

यह भी पढ़ें-

देश में आज मनाया जा रहा है संविधान दिवस, जानें क्या है इसका इतिहास

दिल्ली AQI अपडेट: दिल्ली में वायु प्रदूषण की वजह से सांस लेना मुश्किल, कब सुधरेंगे हालात?

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss