33.1 C
New Delhi
Thursday, May 23, 2024

Subscribe

Latest Posts

लोकसभा चुनाव 2024: कन्याकुमारी लोकसभा सीट पर क्या रह रहे हैं गुणांक? यहां जानें – इंडिया टीवी हिंदी


छवि स्रोत: इंडिया टीवी
कन्याकुमारीविषम सीट।

कन्याकुमारी: देश में कुछ ही जनरल बाद में आम चुनाव होने जा रहे हैं और सभी आश्रमों ने अपने-अपने जोड़ों पर अमल करना शुरू कर दिया है। इन आरोपों के तहत देश की जनता अपनी नुमाइंदे चुनीकर संसद के विधान सभा लोकसभा में संदेश देगी। कुल 543 नामांकन पर चुनाव होगा और जिस पार्टी या गठबंधन को 272 या सबसे बड़ा हिस्सा सरकार बनाने का मौका मिलेगा। डॉक्यूमेंट्री 543 में एक कन्याकुमारी भी शामिल है, जिसके बारे में हम आपको बता रहे हैं।

कन्याकुमारी सीट पर है कैंट की टक्कर

कन्याकुमारी की नोकझोंक सीट 6 पार्ट से मिलकर बनी है। इन दस्तावेजों के नाम कन्याकुमारी, नागाकोइल, कोलाचल, पद्मनाभपुरम, विलावनकोड और किल्लियूर हैं। इनमें से कन्याकुमारी सीट पर एआईएडीएमके का कब्जा है, जबकि नागाकोइल सीट बीजेपी के पास है। पद्मनाभपुरम से आर्किटेक्ट्स के नेता हैं और बाकी की तीर्थयात्रा कांग्रेस के पास हैं। ऐसे देखा जाए तो कन्याकुमारी की वर्जिनिटी सीट पर किसी भी एक पार्टी का एकाधिकार नहीं है।

2014 में बीजेपी तो 2019 में कांग्रेस ने मारी थी बाजी

कन्याकुमारी विपक्ष सीट 2014 में जहां बीजेपी उम्मीदवार कृष्ण राधान ने अपना परचम लहराया था वहीं 2019 में इस सीट पर कांग्रेस नेता स्प्रिंगकुमार ने बाजी मारी थी। अगस्त 2020 में स्प्रिंगकुमार के निधन के बाद 2021 में इस सीट पर निधन हो गया जिसमें कांग्रेस के नेता विजयकुमार ने बीजेपी के राधाकृष्णन को माता दी थी। विजयकुमार कन्याकुमारी सीट के निचले न्यूनतम वसंतकुमार के ही पुत्र हैं और समझा जाता है कि उन्हें चुनाव में सहानुभूति लहर का भी लाभ मिला था।

अपवित्रता में देखने का तरीक़ा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण है

कन्याकुमारी वर्जिन सीट पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण भी खूब देखने को मिलता है और यहां की आबादी में 48.6 फीसदी हिंदू हैं तो 46.8 फीसदी मतदाता ईसाई हैं। मुस्लिम और ईसाई वोटर ग्रुप यहां 51 प्रतिशत का किरदार पार कर लेते हैं और किसी भी प्रतियोगी को विजयी या पराजय में अहम भूमिका अदा करते हैं। यही कारण है कि इस सीट पर कई बार की प्रतियोगिता देखने को मिलती है।

2014 और 2019 में बनी थी सरकार की सरकार

2014 में लोकसभा चुनाव 7 अप्रैल से लेकर 12 मई तक कुल 9 चरणों में नामांकन हुए थे। इन चुनावों के तहत जनता ने 16वें लोकसभा के लिए अपने नुमाइंदों को चुना था। 2014 में लोकसभा चुनाव के नतीजे 16 मई को आये थे। वहीं, 2019 में आम चुनाव 11 अप्रैल से लेकर 19 मई तक कुल 7 चरणों में चुनाव हुए थे और चुनावी नतीजे 23 मई को आए थे। दोनों ही पार्टियों में बीजेपी के नेतृत्व में शानदार जीत दर्ज की थी और नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने थे।

नवीनतम भारत समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss