भारत का होम ग्रोम सोशल मीडिया स्टार्टअप कू हर रोज अपने ऐप में नए फीचर जोड़ रहा है। चीजों की इसी श्रृंखला में, कू ने एक नया ‘बहुभाषी कू (एमएलके)’ फीचर लॉन्च किया है जो लोगों को अनुवाद के माध्यम से अपनी पसंद की भाषा में अपने विचार पोस्ट करने की अनुमति देता है। ऐप ने टाइप टू टॉक फीचर लॉन्च किया है। यहां कू ऐप के दो नए फीचर्स के बारे में जानकारी दी गई है।

‘बहुभाषी कू (एमएलके)’ सुविधा

हालांकि ‘कू’ लोगों को अपनी पसंद की भाषा में अपने विचार पोस्ट करने में सक्षम बनाता है, लेकिन एक भाषा में व्यक्त एक अच्छे विचार को अन्य भाषाओं के लोगों और समुदायों तक पहुंचाना भी महत्वपूर्ण है। इसी को ध्यान में रखते हुए ‘कू’ ने अपना एमएलके फीचर पेश किया है। यह फीचर किसी भी भाषा में पोस्ट किए गए मैसेज को 9 अन्य भाषाओं में ट्रांसलेट करता है। उल्लेखनीय बात यह है कि अनुवाद मूल भाषा में व्यक्त मूल भावनाओं को बरकरार रखता है। इससे उन लोगों की पहुंच बढ़ती है जो अपनी पसंद की भाषा में अपने विचार व्यक्त करते हैं, लेकिन अनुवाद के कारण उनका संदेश उन लोगों तक पहुंचता है जो अन्य भाषाओं को पसंद करते हैं।

कू दुनिया का पहला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है, जिसने अपने यूजर्स को यह अनोखा फीचर दिया है।

‘टॉक टू टाइप’ फीचर

‘कू’ का ‘टॉक टू टाइप’ फीचर शानदार है क्योंकि यह उपयोगकर्ताओं को बिना टाइप किए अपने विचार पोस्ट करने में सक्षम बनाता है। एक ‘कू’ ऐप में, यदि आप ‘नया संदेश’ टैब पर क्लिक करते हैं, तो एक बटन होता है जो एक बात करने वाले व्यक्तिगत लोगो द्वारा दर्शाया जाता है। यदि आप उस पर क्लिक करते हैं, तो आप बस वही कह सकते हैं जो आप पोस्ट करना चाहते हैं, और शब्द स्क्रीन पर अपने आप टाइप हो जाते हैं। यह सब बिना कीबोर्ड का उपयोग किए किया जा सकता है। यह सुविधा 10 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है और इसका उद्देश्य लोगों को अपनी पसंद की भाषा में खुद को अभिव्यक्त करने देना है।

यह मैं हूँ[portant to note that ‘Koo’ is the first social media platform in the world which is using ‘Talk to Type’ feature, that also in 10 different languages. This comes in handy for millions of users who are more comfortable expressing themselves in the language of their respective regions. Some users are not very keen to type, this feature empowers them to express themselves the way they want.