30.1 C
New Delhi
Friday, July 19, 2024

Subscribe

Latest Posts

करवा चौथ 2023: तिथि, पूजा विधि और महत्व


छवि स्रोत: सामाजिक करवा चौथ का व्रत हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है

हर साल शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखती हैं। इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखकर और चंद्रमा की पूजा करने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं। करवा चौथ का त्योहार हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है।

करवा चौथ तिथि 2023

इस बार करवा चौथ का व्रत 1 नवंबर, बुधवार को रखा जाएगा। चंद्रमा की पूजा के बिना करवा चौथ का त्योहार अधूरा माना जाता है। इस दिन भगवान गणेश और माता करवा की भी पूजा की जाती है। महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र, सुरक्षा और समृद्धि के लिए पूरे दिन भूखी-प्यासी रहकर यह व्रत रखती हैं। कुछ लोगों का मानना ​​है कि इस व्रत को रखने से उनके पति पर कोई संकट नहीं आता है।

करवा चौथ का इतिहास

कई पौराणिक कथाओं के अनुसार एक बार राक्षसों और देवताओं के बीच युद्ध हो रहा था, उस समय देवता हार की कगार पर थे। ऐसे में भगवान ब्रह्मा के कहने पर उनकी पत्नियों ने कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत रखा। इसके बाद करवा माता ने सभी देवताओं के जीवन की रक्षा की और वे युद्ध में विजयी भी हुए।

करवा चौथ पूजा विधि

करवा चौथ की पूजा शाम को चंद्रोदय के बाद की जाती है। पूजा और व्रत विधि के अनुसार करवा चौथ के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें, साफ कपड़े पहनें और भगवान के सामने हाथ जोड़कर व्रत का संकल्प लें।

शाम की पूजा के लिए घर की दीवार पर गेरू से एक पट्टिका बनाएं और उस पट्टिका पर करवा का चित्र बनाएं।

इसके बाद शाम के समय पट्टिका के स्थान पर एक चौकी रखें और उस पर माता पार्वती और भगवान शिव की तस्वीर लगाएं।

यह भी पढ़ें: नवरात्रि दिन 9: महानवमी पूजा विधि, मुहूर्त और मंत्र

इसके बाद पूजा की थाली में दीपक, सिन्दूर, अक्षत, कुमकुम, रोली और मिठाई रखें। इसके बाद करवा में जल भरकर पूजा की थाल में रखें और माता पार्वती को श्रृंगार सामग्री अर्पित करें। इसके बाद माता पार्वती, भगवान शिव और चंद्रदेव की पूजा करें।

करवा चौथ व्रत की कथा सुनें और पढ़ें। चंद्रमा निकलने के बाद छलनी से या पानी में चंद्रमा को देखें, फिर चंद्रमा की पूजा करें और उसे जल अर्पित करें।

इसके बाद अपने पति की लंबी उम्र की प्रार्थना करें और पति के हाथ से पानी पीकर अपना व्रत समाप्त करें।

अधिक जीवनशैली समाचार पढ़ें



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss