31.1 C
New Delhi
Sunday, July 21, 2024

Subscribe

Latest Posts

कतर ने जिन 8 भारतीयों को बताया मौत का घाट, उनके परिवार के सदस्यों से मिले जयशंकर ने कही ये बात


छवि स्रोत: एपी
एस जयशंकर, विदेश मंत्री।

कतर में कथित जासूस के आरोप में 8 भारतीयों की जान बचाने के लिए भारत सरकार ने पूरी ताकत लगा दी। सरकार कतर के अधिकारियों से लगातार संपर्क में है। इस दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को आठ भारतीय नागरिकों के परिवार के सदस्यों से मुलाकात की, जिसमें कतर की एक अदालत ने मौत की सजा सुनाई। जयशंकर ने इन लोगों को बताया कि सरकार इस मामले को ”सर्वोच्च महत्व” देती है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार भारतीयों की रिहाई के लिए मौत की सजा पर रोक लगाने का हरसंभव प्रयास करेगी।

भारतीय नौसेना के 8 पूर्व कमांडर को ‘कोर्ट ऑफ़ फ़र्स्ट इंस्टेंस’ के क़तर ने 26 अक्टूबर को, ग्रुप को मौत की सज़ा सुनाई। भारत ने जजमेंट को ‘बेहद’ के फैसले के बारे में बताया था और मामले में सभी कानूनी विकल्प का संकल्प लिया गया था। जयशंकर ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर कहा, ”आज सुबह, कतर में आठ भारतीयों के अंतिम संस्कार के लिए गए। इस बात पर जोर दिया गया कि सरकार का मामला सर्वोच्च महत्वपूर्ण संस्थानों को दिया गया है। हम बिजनेस के सामान और दर्द को पूरी तरह से साझा करते हैं।” उन्होंने कहा, ”यह सरकार अपनी रिहाई सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास जारी रखेगी।” ”इस संबंध में रोमांस के साथ-साथ सहयोग भी किया जाएगा।”

विदेश मंत्रालय सभी कानूनी विकल्प का प्रयोग कर रहा है

विदेश मंत्रालय द्वारा आठ भारतीयों की जान बचाने के लिए सभी तरह की कानूनी शर्तों का इस्तेमाल किया जा रहा है। निजी कंपनी अल दाहरा के साथ काम करने वाले इन भारतीय नागरिकों को कथित तौर पर जासूसी के एक मामले में पिछले साल अगस्त में गिरफ्तार किया गया था। ना तो कतर के अधिकारियों ने और ना ही नई दिल्ली में भारतीय नागरिकों के खिलाफ आरोप को सार्वजनिक किया है। कतर की अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया में विदेश मंत्री ने कहा कि वह इस मामले को ”अत्यधिक महत्वपूर्ण” करार दे रहे हैं और सभी कानूनी विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। भारतीय नौसेना के आठ अधिकारियों के खिलाफ आरोप पत्र दर्ज होने के बाद उन पर कतर के कानून के तहत मुकदमा चलाया गया था। (भाषा)

यह भी पढ़ें

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss