34.1 C
New Delhi
Tuesday, July 16, 2024

Subscribe

Latest Posts

भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय समुद्री गार्ड की व्यवस्था में, वैश्विक लागत समित भारतीय नौसेना का जलवा


छवि स्रोत: फ़ाइल
जापान के टोकियो में चल रही तीसरी ग्लोबल कॉस्ट गार्ड समिति।

अंतरराष्ट्रीय समुद्री व्यवस्था के प्रबंधतंत्र में भारत की ढाक लगातार जनसंख्या जा रही है। समुद्री व्यवस्था की व्यवस्था और सहयोग की दिशा में दुनिया के अंतर्संबंध भारत की ओर हैं। विश्व भर में भारत की ओर से अपेक्षित भारी अंतरसंबंधों को देखा जा रहा है। इसका कारण भारत का मजबूत नेतृत्व और प्रिय भारतीय नौसेना का होना है। भारतीय नौसेना ने आइएसआइएस विक्रांत और विक्रमादित्य जैसे विध्वंसक युद्ध पोतों और परमाणु पनडुबियों से लॉन्च किया है। अंतर्राष्ट्रीय समुद्री व्यवस्था के प्रबंध और सहयोग की दिशा में, भारतीय तटरक्षक प्रमुख प्रशिक्षक राकेश पाल ने जापान के टोक्यो में तीसरे तटरक्षक विश्व शिखर सम्मेलन में भाग लिया है।

शिखर सम्मेलन से वे जापानी प्रधान मंत्री फुमियो किशिदा और आईसीजी अधिकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं। इस सम्मलेन का मुख्य उद्देश्य समुद्री कानून, समुद्री जीवन की सुरक्षा, समुद्री पर्यावरण का संरक्षण, अवैध मछली पकड़ने और समुद्री तटरक्षकों के हितों की रक्षा, समुद्री हमलों से मुक्ति के लिए दुनिया भर में तट रक्षकों के बीच सहयोग शामिल है।

समुद्री डाकू का सॉल्यूशन सुपरमार्केट आवश्यक

आधुनिक समय में दुनिया की तरह समुद्री जहाज़ से स्केच जारी है। ऐसे में इसका समाधान करना जरूरी है। इसलिए दुनिया भर के तटरक्षकों का टोकियो में जमावड़ा हुआ है। इस बीच जापान के तटरक्षकों ने दुनिया भर में सभी तटरक्षकों और मंचों के बीच सहयोग और समुच्चय का आधार बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के विचार का प्रस्ताव रखा है। इससे पहले जुलाई 2023 में भारत-जापान समुद्री सैन्य अभ्यास दोनों देशों की नौसेनाओं द्वारा किया गया था। यह धमाका 11 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में किया गया था। भारत और जापान की नौसेना ने अपनी समुद्री युद्ध क्षमताओं का प्रदर्शन किया था। इससे पहले मोदी और जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने समुद्री सुरक्षा और सहयोग पर बातचीत भी की थी।

यह भी पढ़ें

संयुक्त राष्ट्र ने कहा-गाजा में युद्ध विराम, इन लाखों फिलीस्तीनियों के लिए “जीवन और मृत्यु का प्रश्न”

युद्धविराम का दावा इजराइल से हमास के सामने सरेंडर करने को कहते हैं…मगर ऐसा नहीं होगा”: नेतन्याहू

नवीनतम विश्व समाचार



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss