25.1 C
New Delhi
Wednesday, April 17, 2024

Subscribe

Latest Posts

अफ्रीका में चीन को पटखनी देगा भारत, आर्मी चीफ रवाना हुए तंजानिया, जानिए कैसे ‘ड्रैगन’ पर लगेगी लगाम?


Image Source : FILE
आर्मी चीफ रवाना हुए तंजानिया

Africa News: अफ्रीका महाद्वीप में चीन लगातार गरीब देशों को धड़ल्ले से कर्ज देकर अपने जाल में फंसाने का खेल खेल रहा है। पिछले कुछ सालों में चीन ने ऐसे गरीब देशों को कर्ज देने का काम किया और अफ्रीका में अपने पैर जमाने की कोशिश में जुटा हुआ है। भारत ने चीन की इस चाल को फेल करने के लिए पिछले कुछ सालों से सक्रियता दिखाना शुरू कर दिया है। एक ओर जी20 में अफ्रीकी संगठन को सदस्य बनाकर भारत ने चीन के दांव को फेल कर दिया। वहीं ताजा मामले में अफ्रीकी देश तंजानिया के दौरे पर भारत के आर्मी चीफ जा रहे हैं। चीन की अफ्रीका में गहरी राजनीतिक पैठ को कमजोर करने की दिशा मं यह यात्रा काफी अहम है।

तंजानिया में भारत की सैन्य पहुंच जारी रखते हुए भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे चार दिनों की यात्रा के लिए रवाना हुए हैं। जनरल पांडे 2 से 5 अक्टूबर तक अपनी यात्रा के दौरान तंजानिया के रक्षा मंत्री और रक्षाबलों के प्रमुख सहित अन्य लोगों के साथ द्विपक्षीय रक्षा संबंधों और जुड़ाव को बढ़ावा देने के उपायों पर चर्चा करेंगे।

तंजानिया के डिफेंस एक्‍सपो में हिस्सा लेंगे आर्मी चीफ

आर्मी चीफ राजधानी दार एस सलाम में नेशनल डिफेंस कॉलेज को संबोधित करेंगे। साथ ही डुलुटी में कमांड और स्टाफ कॉलेज के कमांडेंट और फैकल्‍टी के साथ भी खास चर्चा करने वाले हैं। इसके अलावा भारत-तंजानिया मिनी डिफेंस-एक्सपो का दूसरा संस्करण जनरल पांडे की यात्रा के साथ दार एस सलाम में भी आयोजित होने वाला है। हाल के कुछ महीनों में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नाइजीरिया का दौरा किया है तो जनरल पांडे मिस्र जा चुके हैं। वहीं, भारत कुछ अफ्रीकी देशों को ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों और आकाश एयर डिफेंस सिस्‍टम का निर्यात करने के बारे में भी सोच रहा है। जुलाई के महीने में विदेश मंत्री एस जयशंकर भी तंजानिया के छोटे से टापू देश जंजीबार गए थे। पूर्वी मध्‍य अफ्रीका से इस टापू दूरी करीब 35 किलोमीटर है। साथ ही यह हिंद महासागर पर काफी रणनीतिक अहमियत रखने वाला हिस्‍सा है। 

तंजानिया में चीन का भारी निवेश

सुलुहू को जो रेड-कारपेट ट्रीटमेंट मिला था, वह उनकी सरकार की तरफ से तंजानिया में मेगाप्रोजेक्ट्स में चीनी निवेश के ऐलान के बाद था। इस निवेश के तहत चीन 1.3 अरब डॉलर की कीमत वाला जूलियस न्येरे हाइड्रोपावर स्टेशन और बागामोयो में 10 बिलियन डॉलर का बंदरगाह शामिल था। पिछले साल के समझौते की घोषणा के साथ ही दोनों देशों के बीच जटिल और अक्सर टूट-फूट वाले रिश्‍ते भी सामने आए। कई विशेषज्ञ मानते हैं कि दोनों देशों के बीच साझेदारी अभी तक स्‍पष्‍ट नहीं है। तंजानिया में चीन की मौजूदगी ऐतिहासिक रूप से उन संबंधों पर निर्भर रही है जो यहां के एलीट क्‍लास के साथ बने हैं। लेकिन इनके संबंधों में पिछले कुछ सालों में ऐसी गतिशीलता देखने को मिली है जो पूर्वी अफ्रीकी क्षेत्र की व्यापक भू-राजनीति में अचानक बदलाव को बताती है।

क्‍या है अफ्रीका की अहमियत?

अफ्रीका की जमीन में अतुलनीय भंडार मौजूद हैं। दुनिया का 40 फीसदी सोना, 90 फीसदी क्रोमियम और प्लैटिनम तंजानिया में होता है। इसके अलावा दुनिया में कोबाल्ट, हीरे और यूरेनियम का सबसे बड़ा भंडार अफ्रीका में है। चीन की इन्हीं भंडारों पर नजर है। इसी कारण चीन अफ्रीकी देशों को कर्ज के जाल में फंसाकर उन पर दबाव डालने का काम कर रहा है। लेकिन भारत चीन की ऐसी ही चालों को 

Latest World News



Latest Posts

Subscribe

Don't Miss